कर्नाटकः येदियुरप्पा ने जीता विश्वासमत, स्पीकर ने दिया इस्तीफ़ा

  • 29 जुलाई 2019
कुमार रमेश इमेज कॉपीरइट Getty Images

कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा के नेतृत्व वाली बीजेपी सरकार ने सदन में विश्वास मत हासिल कर लिया है. इसके ठीक बाद तमाम अटकलों को विराम देते हुए स्पीकर केआर रमेश कुमार अपने पद से इस्तीफ़ा दे दिया है.

सदन में कुल 225 विधायक हैं लेकिन 17 विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने के बाद ये संख्या 208 हो गई.

अब बहुमत साबित करने के लिए 105 सीटों की ज़रूरत थी और खुद बीजेपी के पास 105 सीटें हैं और एक निर्दलीय विधायक का समर्थन है. ऐसे में 106 सीटों के साथ बीजेपी ने आसानी से बहुमत हासिल कर लिया.

विश्वास मत साबित करने से ठीक एक दिन पहले स्पीकर रमेश कुमार का 14 विधायकों को अयोग्य ठहराते हुए इस बात की ओर ईशारा किया है कि कई अप्रत्याशित चीज़ें आगे हो सकती हैं.

रविवार को प्रेस कॉन्फ़्रेंस में जब उनसे इस्तीफ़ा देने की योजना पर सवाल पूछा गया तो उन्होंने कहा, '' आपको इस बारे में कल पता चलेगा. रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस है ये आपको सुबह 9-10 बजे पता चला. कल कुछ और सरप्राइज़ होगा. ''

जैसे ही येदियुरप्पा को विश्वासमत हासिल हुआ उसके कुछ वक़्त बाद ही उन्होंने स्पीकर के पद से इस्तीफ़ा दे दिया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रविवार को सदन के स्पीकर केआर रमेश कुमार ने कांग्रेस और जेडीएस के 14 विधायकों को अयोग्य साबित कर दिया है

केआर रमेश कुमार ने दल बदल विरोधी कानून का इस्तेमाल करके इन विधायकों को मौजूदा एसेंबली के कार्यकाल 2023 तक के लिए अयोग्य ठहराया है.

इससे पहले गुरुवार को स्पीकर रमेश कुमार ने तीन अन्य विधायकों को अयोग्य ठहराया था जिनमें दो कांग्रेस के विधायक और एक निर्दलीय विधायक शामिल थे.

हालांकि स्पीकर के ताज़ा फ़ैसले को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी. महाराष्ट्र के एक रिज़ॉर्ट में मौजूद जेडीएस के बाग़ी विधायकों में से एक ए एच विश्वनाथ ने बीबीसी हिंदी को बताया कि विधायकों को अयोग्य ठहराए जाने के फ़ैसले को सोमवार को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी जाएगी.

17 विधायकों के बागी होने के बाद कर्नाटक में 23 जुलाई को कांग्रेस-जेडीएस सरकार सदन में बहुमत साबित करने में नाकाम रही और कुमारस्वामी की सरकार गिर गई.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार