प्रशासन ने बंद लिफ़ाफ़े में मांगी कश्मीर के मस्जिदों की डिटेल : प्रेस रिव्यू

  • 30 जुलाई 2019
इमेज कॉपीरइट MAJID JAHANGIR/BBC

इंडियन एक्सप्रेस के पहले पन्ने पर ख़बर है कि जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने पुलिस से घाटी की मस्जिदों की डिटेल्स मांगी हैं. ये आदेश 28 जुलाई का है

अख़बार लिखता है कि श्रीनगर के पांचों एसपी से कहा गया है कि वो अपने क्षेत्रों की मस्जिदों और उनके प्रबंधन की पूरी जानकारी एक बंद लिफ़ाफ़े में जल्दी से जल्दी अपने अधिकारियों को मुहैया कराएं.

श्रीनगर के एसएसपी हसीब मुग़ल ने इस आदेश की पुष्टि की है और उन्होंने इसे 'रुटीन एक्सरसाइज़' बताया है.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा है कि इस चिट्ठी की टाइमिंग सही नहीं है क्योंकि घाटी में अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती के आदेश से लोग पहले ही सशंकित हैं और इस चिट्ठी से उनकी चिंताएं बढ़ सकती हैं.

ये भी पढ़ें: कश्मीर घाटी में क्यों है डर और बेचैनी का माहौल

इमेज कॉपीरइट ANI

पाकिस्तान में खुला हज़ार साल पुराना मंदिर

नवभारत टाइम्स में ख़बर है कि भारत और पाकिस्तान बंटवारे के बाद पाकिस्तान के सियालकोट में तक़रीबन 1,000 साल पुराना हिंदू मंदिर पहली बार खोला जा चुका है. इस मंदिर का नाम शवाला तेजा सिंह मंदिर है.

स्थानीय लोगों की मांग के बाद इसे सोमवार को पूजा के लिए खोल दिया गया. दिवंगत लेखक और इतिहासकार की लिखी किताब 'हिस्ट्री ऑफ़ सियालकोट) के मुताबिक़ ये मंदिर लगभग 1,000 साल पुराना है.

साल 1992 में बाबरी मस्जिद के गिराए जाने के बाद इस मंदिर पर हमला हुआ था और यह आंशिक रूप से क्षतिग्रस्त हो गया था. पाकिस्तान में हिंदू समुदाय सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है. आधिकारिक आंकड़ों के मुताबिक यहां करीब 75 लाख हिंदू रहते हैं.

ये भी पढ़ें: बाबरी विध्वंस के बाद पाकिस्तान में टूटे थे कई मंदिर

इमेज कॉपीरइट AFP
Image caption फ़ाइल फ़ोटो

पाकिस्तान की गोलीबारी में 10 दिन के बच्चे की मौत

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक़ भारत-पाकिस्तान नियंत्रण रेखा पर पाकिस्तान की तरफ़ से हुई गोलीबारी में 10 दिन के एक नवजात की मौत हो गई है.

जम्मू-कश्मीर के पुंछ सेक्टर में जन्मा ये बच्चा गोलियों से बुरी तरह घायल हो गया और बाद में पुंछ के एक अस्पताल में इसकी मौत हो गई. बच्चे के माता-पिता भी गोलीबारी में जख़्मी हो गए हैं.

अख़बार भारतीय सेना के प्रवक्ता के हवाले से लिखता है कि पाकिस्तानी सैनिकों ने बिना किसी उकसावे के सीज़फ़ायर का उल्लंघन किया.

उन्होंने रविवार को गोलियां और मोर्टार दागने शुरू कर दिए और ये गोलीबारी सोमवार को भी चलती रही, जिसके बाद भारतीय सैनिकों ने भी जवाबी फ़ायरिंग की.

ये भी पढ़ें: 'लॉटरी लगे तो एलओसी भी कुछ न बिगाड़ पाएगी'

इमेज कॉपीरइट AFP

'प्रियंका बनें कांग्रेस अध्यक्ष'

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में ख़बर है कि पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंहल ने कहा है कि प्रियंका गांधी कांग्रेस पार्टी की कमान संभालने के लिए 'सबसे अच्छा' विकल्प होंगी.

अमरिंदर सिंह ने कहा, "अगर प्रियंका कांग्रेस अध्यक्ष बनती हैं तो उन्हें 'ऑल राउंड' सपोर्ट मिलेगा. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि पार्टी अध्यक्ष कौन बनेगा, ये फ़ैसला लेने का अधिकार सिर्फ़ कांग्रेस वर्किंग कमेटी को है.

कैप्टन अमरिंदर सिंह इससे पहले भी कांग्रेस अध्यक्ष पद पर किसी युवा चेहरे को लाए जाने की वकालत करते रहे हैं. उनका कहना है कि भारत की आबादी का एक बड़ा हिस्सा युवाओं का है, इसलिए पार्टी अध्यक्ष भी किसी युवा को ही बनाया जाना चाहिए.

अख़बार सूत्रों के हवाले से लिखता है कि पार्टी कार्यसमिति की बैठक अगले एक हफ़्ते के भीतर हो सकती है. रिपोर्ट के मुताबिक़ कांग्रेस चाहती है कि आगामी स्वतंत्रता दिवस पर नया अध्यक्ष पार्टी कार्यालय पर तिरंगा फहराए.

ये भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में क्यों नहीं चला प्रियंका का जादू

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमरीका को दरकिनार कर भारत-रूस की डील

अमर उजाला में ख़बर है कि भारत ने अमरीकी दबाव को दरकिनार करते हुए रूस से R-27 मिसाइलों के लिए 1500 करोड़ रुपये का सौदा किया है.

अख़बार लिखता है कि ये मिसाइलें हवा से हवा में मार करने में सक्षम हैं. ये मिसाइलें सुखोई-30 MKI लड़ाकू विमानों पर तैनात होंगी और इनकी तैनाती से हवा में हवा में मार करने की क्षमता में इज़ाफ़ा होगा.

अमरीका ने भारत पर रूस से ये डील न करने का काफ़ी दबाव बनाया था लेकिन भारत ने आख़िरकार ये डील कर ली.

अख़बार ये भी लिखता है वायुसेना ने पिछले 50 दिनों में 7600 करोड़ के सुरक्षा सौदे किए हैं.

ये भी पढ़ें: उन्नाव रेप कांड में बढ़ती रहस्य की परतें

इमेज कॉपीरइट ANUBHAV SWARUP YADAV
Image caption उन्नाव पीड़िता की दुर्घटनाग्रस्त कार

'उन्नाव पीड़िता की निजी जानकारी लीक हुई'

इंडियन एक्सप्रेस के पहले पन्ने पर एक बड़ी सी तस्वीर भी छपी है जो उन्नाव रेप पीड़िता के गांव की है. गांव में पुलिसबलों की तैनाती है और तस्वीर में कई पुलिस कर्मी बाहर कुर्सियों पर बैठे दिख रहे हैं.

इसके अलावा अख़बार की एक दूसरी रिपोर्ट के मुताबिक़ पीड़िता के चाचा का आरोप है कि पीड़िता की लोकेशन और आने-जाने से जुड़ी निजी जानकारियां लीक की गईं, ताकि अपराध को अंजाम दिया जा सके. पुलिस का कहना है कि वो इन आरोपों की जांच कर रही है.

इंडियन एक्सप्रेस की ही एक अन्य रिपोर्ट में बताया गया है कि पीड़िता के गांव में ख़ौफ़ और दुख का माहौल है. अख़बार के मुताबिक़ गांव वालों का कहना है कि पीड़िता के मां ने उन्हें भी धमकियों के बारे में बताया था.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार