उन्नाव रेप केस मामले में चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने पूछा 'अब तक चिट्ठी क्यों नहीं पेश की गई'

  • 31 जुलाई 2019
चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई इमेज कॉपीरइट PTI
Image caption चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई

उन्नाव रेप कांड में पीड़ित परिवार की तरफ से लिखी गई चिट्ठी नहीं मिलने पर सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने नाराज़गी जताते हुए सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल से पूछा है कि इस मामले में शीर्ष अदालत के नाम लिखी गई चिट्ठी उनके सामने अब तक क्यों नहीं पेश की गई.

रविवार को रायबरेली जाते वक़्त उन्नाव रेप पीड़िता की कार को एक ट्रक ने टक्कर मारी थी. जिसमें पीड़िता के दो रिश्तेदारों की मौत हो गई थी जबकि कार में सवार उनके वकील और पीड़िता की हालत नाज़ुक बताई गई है.

रविवार को हुए कार हादसे की जांच सीबीआई को सौंप दी गई है और सीबीआई ने इस मामले में बीजेपी विधायक कुलदीप सेंगर समेत 10 लोगों पर हत्या का मामला दर्ज किया है.

पीड़िता के परिवार ने कुछ दिन पहले ही चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई को चिट्ठी लिख कर उनके जान को ख़तरे की आशंका जताई थी.

अब चीफ़ जस्टिस ने सुप्रीम कोर्ट के सेक्रेटरी जनरल से इस बाबत जवाब मांगा है. साथ ही पीड़िता की मेडिकल रिपोर्ट भी मांगी गई है.

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई पीड़िता के पत्र मामले में गुरुवार को सुनवाई करेंगे.

चीफ़ जस्टिस का कहना है कि वे इस विनाशकारी माहौल में कुछ रचनात्मक करने की कोशिश करेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्या कहा चीफ़ जस्टिस ने?

चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा, "आज सुबह मैंने अख़बार में पढ़ा कि उन्नाव रेप पीड़िता ने सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी भेजा था. लेकिन मैंने अब तक वो चिट्ठी नहीं देखी. यह अब तक मेरे सामने पेश नहीं किया गया."

उन्होंने कहा, "हम प्रयास करेंगे कि इस माहौल में पीड़िता के लिए कुछ बेहतर किया जा सके."

उन्नाव रेप कांड के पीड़ित परिवार ने सुप्रीम कोर्ट के चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई को चिट्ठी लिखी थी जिसमें विधायक कुलदीप सिंह सेंगर की धमकियों का जिक्र किया गया था.

वरिष्ठ वकील वी गिरि कहते हैं कि इस मामले में उत्तर प्रदेश सरकार से जवाब मांगा जा सकता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार