कश्मीर पर चीन ने कहा, 'यथास्थिति में बदलाव न हो'

  • 6 अगस्त 2019
इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption श्रीनगर में कर्फ्यू

भारत के संविधान के अनुच्छेद 370 को निष्प्रभावी करके भारत प्रशासित जम्मू-कश्मीर का विशेष दर्जा समाप्त करने पर चीन ने भारत और पाकिस्तान से संयम बरतने की अपील की है.

चीन ने ये भी कहा है कि दोनों ही देशों को ऐसे कार्यों से बचना चाहिए जो एकतरफ़ा रूप से यथास्थिति को बदल देंगे.

चीन के बयान की प्रतिक्रिया में भारत ने कहा है कि भारत दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दख़ल नहीं देता है और दूसरे देशों से भी ऐसी ही उम्मीद करता है.

एक अधिकारिक बयान में चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता हुआ चुनयिंग ने कहा, "चीन जम्मू-कश्मीर के ताज़ा हालात को लेकर गंभीरता से चिंतित है. कश्मीर मुद्दे पर चीन की स्थिति स्पष्ट रही है. अंतरराष्ट्रीय आम सहमति भी है कि कश्मीर का मुद्दा ऐसा मुद्दा है जो भारत और पाकिस्तान को अपने अतीत से मिला है. संबंधित पक्षों को संयम बरतने और विवेकपूर्ण तरीके से कार्य करने की आवश्यकता है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption श्रीनगर में कर्फ्यू

चीन ने कहा, "विशेष रूप से, उन्हें ऐसे कार्यों को करने से बचना चाहिए जो एकतरफ़ा रूप से यथास्थिति को बदल देंगे और तनाव को बढ़ाएंगे. हम भारत और पाकिस्तान दोनों से बातचीत और परामर्श के माध्यम से संबंधित विवादों को शांतिपूर्वक हल करने और क्षेत्र में शांति और स्थिरता की रक्षा करने का आह्वान करते हैं."

भारत-चीन सीमा क्षेत्र में प्रभावी नहीं

वहीं लद्दाख के विषय में चीन ने कहा है कि भारत ने जो अपने घरेलू क़ानून बदले हैं वो भारत-चीन सीमा क्षेत्र में प्रभावी नहीं होंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

लद्दाख के विषय में पूछे गए सवाल पर चीन के प्रवक्ता ने कहा, "चीन हमेशा से चीन-भारत सीमा के पश्चिमी क्षेत्र में चीनी क्षेत्र को भारत के प्रशासनिक क्षेत्र में शामिल करने का विरोध करता है. हमारी यह ठोस और लगातार स्थिति अपरिवर्तित बनी हुई है."

उन्होंने कहा, "हाल ही में भारत ने एकतरफ़ा घरेलू क़ानून बदलकर चीन की क्षेत्रीय संप्रभुता को कम आंकना जारी रखा है. ये कार्य अस्वीकार्य है और यह प्रभाव में नहीं आएगा. हम भारत से आग्रह करते हैं कि वह सीमा के प्रश्न के संबंध में अपने शब्दों और कर्मों में विवेक इस्तेमाल करे, दोनों पक्षों के बीच हुए समझौतों का सख्ती से पालन करते हुए ऐसे क़दम उठाने से बचे जो सीमा के प्रश्न को और जटिल कर सकते हैं."

वहीं भारत ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेशों में पुनर्गठन का विधेयक भारत का आंतरिक मामला है.

भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत दूसरे देशों के आंतरिक मामलों में दख़ल नहीं देता है और दूसरे देशों से भी यही उम्मीद करता है कि वो उसके मामलों में दख़ल न दें.

भारत के गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में दावा किया है कि वे जब जम्मू कश्मीर की बात कर रहे हैं तो उसमें पाक अधिकृत कश्मीर और चीन के कब्ज़े वाला हिस्सा भी शामिल है.

इमेज कॉपीरइट Shah Mahmood Qureshi/Twitter

वहीं पाकिस्तान ने कश्मीर के ताज़ा हालात पर चर्चा करने के लिए इस्लामिक देशों के संगठन की बैठक बुलाई है. सऊदी अरब के जेद्दा शहर में हुई बैठक में पाकिस्तानी विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने हिस्सा लिया है.

एक ट्वीट में क़ुरैशी ने कहा, "ओआईसी ने माना है कि इस आक्रामकता ने दक्षिण एशिया के 1.5 अरब लोगों को ख़तरे में डाल दिया है."

उन्होंने कहा, "पाकिस्तान ने ओआईसी सेआग्रह किया है कि भारत के कब्ज़े वाले कश्मीर के लोगों के साथ ठोस क़दम उठाकर एकजुटता दिखाई जाए. ये माना जाए कि भारत का ये एकतरफ़ा क़दम भारत के क़ब्ज़े वाले कश्मीर के उस दर्जे के ख़िलाफ़ है जो उसे संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत मिला हुआ है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार