सोलो: लद्दाख का वह पौधा जिसे मोदी ने बताया संजीवनी बूटी

  • 9 अगस्त 2019
सोलो पौधा इमेज कॉपीरइट Steven Foster
Image caption सोलो पौधा

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार यानी 8 अगस्त को रात 8 बजे जब राष्ट्र को संबोधित किया तो पूरी जनता टकटकी लगाए उन्हें सुन रही थी.

नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में जम्मू-कश्मीर के बारे में लिए गए सरकार के ताज़ा फ़ैसले का ज़िक्र किया और यह भी बताया कि इस फ़ैसले से किस तरह जम्मू-कश्मीर और लद्दाख को फ़ायदा होगा.

लद्दाख के बारे में बात करते हुए प्रधानमंत्री ने एक ख़ास पौधे का ज़िक्र किया, जिसे उन्होंने 'संजीवनी बूटी' बताया.

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ''लद्दाख में सोलो नाम का एक पौधा पाया जाता है. जानकारों का कहना है कि यह पौधा हाई ऐल्टिट्यूड पर रहने वालों के लिए, बर्फीली जगहों पर तैनात सुरक्षाबलों के लिए संजीवनी का काम करता है. कम ऑक्सिजन वाली जगह में इम्यून सिस्टम को संभाले रखने में इसकी भूमिका है.''

''सोचिए, ऐसी चीज़ दुनिया भर में बिकनी चाहिए या नहीं? ऐसे अनगिनत पौधे, हर्बल प्रॉडक्ट जम्मू-कश्मीर और लद्दाख में बिखरे हैं. उनकी पहचान होगी, बिक्री होगी तो वहां के किसानों को लाभ होगा. इसलिए मैं देश के उद्यमियों, एक्सपोर्ट या फूडप्रोसेसिंग से जुड़े लोगों से आग्रह करूंगा कि जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के स्थानीय प्रॉडक्ट्स को दुनिया भर में पहुंचाने के लिए आगे आएं."

इमेज कॉपीरइट dd

कौन सा पौधा है सोलो?

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने भाषण में जब सोलो नामक पौधे का ज़िक्र किया तो इसे लेकर आम लोगों में उत्सुकता बढ़ गई.

सोलो नाम की यह औषधीय बूटी लद्दाख में पाई जाती है. इसके अलावा यह साइबेरिया की पहाड़ियों में भी मिलती है.

डिफ़ेंस इंस्टिट्यूट ऑफ़ हाई एल्टिट्यूड एंड रिसर्च (DIHAR) के डायरेक्टर डॉक्टर ओपी चौरसिया ने बताया कि इस बूटी में बहुत अधिक औषधीय गुण हैं.

डॉ. चौरसिया बताते हैं, "इस बूटी की मदद से भूख न लगने की समस्या को दूर किया जाता है. साथ ही यह बूटी याददाश्त को भी बेहतर करती है. इतना ही नहीं सोलो का इस्तेमाल डिप्रेशन की दवा के तौर पर भी किया जाता है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोलो के पौधे 15 से 18 हज़ार फ़ीट की ऊंचाई पर ही उगते हैं. लद्दाख में इसके पौधे खारदुंग-ला, चांगला और पेज़िला इलाके में मिलते हैं.

लद्दाख के स्थानीय लोग इस पौधे से एक व्यंजन भी बनाते हैं जिसे वो 'तंगथुर' कहते हैं. यह व्यंजन स्थानीय लोगों के बीच खासा प्रचलित है और इसका सेवन स्वास्थ्य लाभ के लिहाज़ से भी किया जाता है.

डॉक्टर चौरसिया बताते हैं कि मुख्य तौर पर सोलो की तीन प्रजातियां पाई जाती हैं. जिनका नाम सोलो कारपो (सफेद), सोलो मारपो (लाल) और सोलो सेरपो (पीला) है.

भारत में लद्दाख ही एकमात्र जगह है जहां सोलो उगाया जाता है. लद्दाख के स्थानी वैद्य और आयुर्वेदिक डॉक्टर भी इस पौधे से दवाइयां बनाते हैं. वो मुख्यतः सोलो कारपो (सफ़ेद) का प्रयोग करते हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सोलो पौधे का वैज्ञानिक नाम रोडियोला (Rhodiola) है. DIHAR संस्थान में इस पौधे पर बीते 10 सालों से शोध चल रहा है. साथ ही यहां के वैज्ञानिक इस पौधे के व्यावसायीकरण के बारे में भी योजना बना रहे हैं.

वैकल्पिक दवाओं पर शोध करने वाली अमरीका की सरकारी एजेंसी नेशनल सेंटर फॉर कॉम्प्लिमेंट्री एंड इंटिग्रेटिव हेल्थ (एनसीसीआईएच) की ओर से बताया गया है कि सोलो पौधों पर कुछ शोध हुआ है जिससे यह अनुमान लगाया गया इसके सेवन से मानसिक तनाव दूर करने में मदद मिलती है.

ये भी पढ़ेंः

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार