मुकुल वासनिक: अचानक क्यों चर्चा में आ गए ये कांग्रेसी नेता

  • 9 अगस्त 2019
मुकुल वासनिक इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption मुकुल वासनिक 25 साल की उम्र में पहली बार सांसद चुने गए थे

शनिवार को कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक होने जा रही है. अनुमान लगाया जा रहा है कि इसमें कांग्रेस के नए अध्यक्ष की घोषणा हो सकती है.

इस बीच भारतीय मीडिया और सोशल मीडिया पर एक नाम चर्चा में आ गया. शुक्रवार को ये अटकलें लगाई जाने लगीं कि मुकुल वासनिक को कांग्रेस का नया अध्यक्ष बनाया जा सकता है.

उनका नाम सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगा. हालांकि, कांग्रेस की ओर से ऐसे कोई स्पष्ट संकेत नहीं मिले हैं कि अगला अध्यक्ष कौन होगा. ऐसे में यह शनिवार को ही साफ़ हो पाएगा कि इन अटकलों में कितना दम है.

लोकसभा चुनाव में मिली हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था लेकिन कांग्रेस कार्य समिति ने उनके इस्तीफ़े को स्वीकार नहीं किया था.

कई बार 49 वर्षीय राहुल गांधी को अपने पद पर बने रहने के लिए कहा गया लेकिन उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष का पद स्वीकार करने से इनकार कर दिया था. इसके बाद से कांग्रेस के अध्यक्ष पद पर किसी नए शख़्स के बैठने के कयास लगाए जाने लगे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहले अनुमान लगाया गया कि इसके लिए किसी अनुभवी और ग़ैर-गांधी परिवार के शख़्स को चुना जाएगा. साथ ही साथ इस पद के लिए सुशील कुमार शिंदे, मल्लिकार्जुन खड़गे, प्रियंका गांधी, ज्योतिरादित्य सिंधिया और सचिन पायलट के नामों की भी खासी चर्चा रही.

सीडब्ल्यूसी की बैठक से एक दिन पहले इस पद के लिए पूर्व केंद्रीय मंत्री और गांधी परिवार के क़रीबी मल्लिकार्जुन खड़गे और मुकुल वासनिक के नाम को लेकर ख़बरों का बाज़ार गर्म है.

खड़गे केंद्रीय मंत्री रहने के अलावा पिछली लोकसभा में कांग्रेस संसदीय दल के नेता भी थे. वहीं, 59 वर्षीय वासनिक केंद्रीय मंत्री भी रहे हैं और उनका अच्छा खासा प्रशासनिक अनुभव भी रहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पूर्व केंद्रीय मंत्री सलमान ख़ुर्शीद के साथ मुकुल वासनिक

कौन हैं मुकुल वासनिक

महाराष्ट्र के वरिष्ठ नेताओं में से एक मुकुल वासनिक के राजनीतिक जीवन की शुरुआत एनएसयूआई से हुई थी. उनके इर्द-गिर्द पहले से ही राजनीतिक माहौल था क्योंकि उनके पिता बालकृष्ण वासनिक महाराष्ट्र के दिग्गज नेताओं में से एक थे.

उनके पिता बालकृष्ण वासनिक बुलढाना से सिर्फ़ 28 साल की उम्र में सांसद चुने गए थे. अपने पिता का रिकॉर्ड तोड़ते हुए वासनिक ने महज़ 25 साल की आयु में लोकसभा का चुनाव जीता था. उस समय वह सबसे कम उम्र के सांसद थे.

उनके पिता तीन बार बुलढाना से सांसद रहे. पिता के बाद मुकुल वासनिक ने बुलढाना की अपनी पारंपरिक सीट से 1984, 1991 और 1998 में लोकसभा चुनाव जीता था.

1984 से लेकर 1986 तक वह कांग्रेस की छात्र इकाई एनएसयूआई और 1988 से लेकर 1990 तक भारतीय यूथ कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष भी रहे.

2008 में उन्हें ब्रेन हेमरेज हुआ. इसे मात देते हुए वह स्वस्थ होकर लौटे और उन्होंने 2009 में लोकसभा चुनाव लड़ा.

2009 में उन्होंने अपनी पारंपरिक सीट बुलढाना को छोड़ दिया और रामटेक से लोकसभा चुनाव जीता. उनके अनुभव को देखते हुए उन्हें सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्री बनाया गया.

इस समय वह कांग्रेस महासचिव हैं और गांधी परिवार के काफ़ी क़रीबी समझे जाते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार