कश्मीर के सौरा में जुमे की नमाज़ के बाद क्या हुआ: ग्राउंड रिपोर्ट

  • 17 अगस्त 2019
विरोध प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट EPA

श्रीनगर के सौरा इलाक़े में शुक्रवार को हम फिर उसी दरगाह पर पहुंचे जहां से पिछले सप्ताह स्थानीय लोगों ने विरोध प्रदर्शन और रैली शुरू की थी.

पिछले सप्ताह 9 अगस्त शुक्रवार को सौरा में ही बड़े पैमाने पर प्रदर्शन हुए थे. इसमें हज़ारों लोगों ने भाग लिया था जिनमें महिलाएं और बच्चे भी शामिल थे. आज हमने सौरा में जाने की कोशिश की.

सौरा में जब हम गए तो देखा कि वहां हर गली और हर रास्ते पर बैरिकेड लगा था. साथ ही बड़ी संख्या में सुरक्षाकर्मी मौजूद थे. सुरक्षाकर्मियों का मानना था कि अगर वह बैरिकेड हटाते हैं तो बड़े पैमाने पर लोग मुख्य सड़क तक आ जाएंगे.

सुरक्षाकर्मियों का मानना है कि अगर प्रदर्शनकारी मुख्य सड़क तक आ गए तो उन्हें संभालना मुश्किल हो जाएगा और क़ानून-व्यवस्था बिगड़ जाएगी.

इमेज कॉपीरइट EPA

सौरा में शांतिपूर्ण प्रदर्शन

पिछले सप्ताह के मुक़ाबले इस सप्ताह की बात करें तो आज जुमे की नमाज़ के बाद सैकड़ों लोग इकट्ठा हुए. इनमें पुरुष और महिलाएं शामिल थे जिन्होंने शांतिपूर्ण रैली निकाली. यह रैली गलियों-मोहल्लों में घूमते हुए वापस इसी दरगाह तक पहुंची.

रैली समाप्त होने के बाद दरगाह के लाउडस्पीकर से वो गीत सुनाए जा रहे थे जो कश्मीर की आज़ादी की बात कर रहे थे.

इन्हीं लाउडस्पीकर के ज़रिए सुबह से लोगों को घरों से बाहर बुलाया जा रहा था कि वह विरोध प्रदर्शनों में शामिल हों. एक तरह से अगर देखें तो लोगों के अंदर डर ख़त्म हो रहा है और गुस्सा बढ़ता जा रहा है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
पिछले सप्ताह सौरा में हुए थे विरोध प्रदर्शन

'हमारा हक़ वापस मिले'

प्रदर्शन के दौरान एक प्रदर्शनकारी ने कहा कि उनका हक़ उनसे छीना जा रहा है.

उन्होंने कहा, "हमारा हक़ हमसे क्यों छीना जा रहा है. हम भारत सरकार से कह रहे हैं कि वह हमारा हक़ हमें वापस दे. हमने शांतिपूर्ण जुलूस निकाला है लेकिन तब भी हम पर पैलेट गन्स और आंसू गैस के गोले छोड़े गए हैं. यह ज़्यादती नहीं है तो क्या है."

एक महिला प्रदर्शनकारी ने कहा कि अनुच्छेद 370 को हटाकर भारत सरकार ने कश्मीर को एक संघर्ष क्षेत्र में बदल दिया है.

उन्होंने कहा, "हम अनुच्छेद 370 को हटाने के विरोध में यह प्रदर्शन कर रहे हैं. मोदी सरकार ने यह करके कश्मीर को एक संघर्ष और युद्ध क्षेत्र में बदल दिया है. सुरक्षाकर्मी हम पर पैलेट गन्स और आंसू गैस से वार कर रहे हैं. हम अनुच्छेद 370 के लिए मरेंगे."

"यह मोदी के लिए संदेश है कि हम न ही भारत और न ही पाकिस्तान के साथ रहना चाहते हैं. हम स्वतंत्र कश्मीर चाहते हैं. हर आदमी के पास अधिकार होता है और हमारे पास भी अधिकार है. हम स्वतंत्र कश्मीर चाहते हैं."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार