कश्मीर घाटी में लैंडलाइन, जम्मू के पांच ज़िलों में इंटरनेट शुरू

  • 17 अगस्त 2019
Jammu-Kashmir, जम्मू-कश्मीर

भारत प्रशासित कश्मीर में शनिवार को बीते 12 दिनों से बंद की गईं फ़ोन सेवाएं आंशिक रूप से बहाल कर दी गई हैं.

जम्मू के पांच ज़िलों में जहां 2जी स्पीड के साथ इंटरनेट सेवाएं शुरू कर दी गई हैं वहीं कश्मीर घाटी में अभी टेलिफ़ोन (लैंडलाइन) सेवाओं को ही शुरू किया गया है.

अभी 17 टेलिफ़ोन एक्सचेंज ही शुरू किए गए हैं. हालांकि बीबीसी इस सरकारी दावे की स्वतंक्ष रूप से पुष्टि नहीं करता है. कश्मीर में मौजूद बीबीसी संवाददाताओं के मुताबिक कुछ हिस्सों में टेलिफ़ोन चालू होने की जानकारी ज़रूर मिली है.

यह भी कहा गया है कि बाकी सभी टेलिफ़ोन लाइनें रविवार की शाम से शुरू कर दी जाएंगी.

बीते 5 अगस्त से भारत प्रशासित कश्मीर में टेलिफ़ोन सेवाएं बंद थीं.

इमेज कॉपीरइट AFP

उस दिन राज्य को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के कुछ प्रावधानों को ख़त्म करने का एलान करने के साथ साथ इसे दो केंद्र शासित प्रदेश में विभाजित करने के केंद्र सरकार के फ़ैसले के बाद यहां मोबाइल और लैंडलाइन समेत सभी संचार सेवाएं स्थगित कर दी गई थीं.

जम्मू-कश्मीर के प्रिसिंपल सेक्रेटरी (योजना आयोग) रोहित कांसल ने बताया, "सुबह से घाटी के 35 पुलिस स्टेशनों के इलाके में प्रतिबंधों में ढील दी गई है."

रोहित कांसल ने कहा कि रविवार की शाम से कुछ संवेदनशील इलाकों को छोड़ कर कश्मीर घाटी के सभी टेलिफ़ोन एक्सचेंज काम करना शुरू कर देंगे.

उन्होंने बताया कि जम्मू में लैंडलाइन और मोबाइल पहले से काम कर रहे हैं और कम से कम पांच ज़िलों में मोबाइल सेवाएं भी शुरू कर दी गई हैं.

पत्रकार मोहित कंधारी के मुताबिक जम्मू संभाग के पांच ज़िलों जम्मू, रियासी, सांबा, कठुआ और उधमपुर में 2जी इंटरनेट सेवाएं शुरू की गई हैं.

वहीं मुस्लिम बहुल ज़िलों राजौरी, पुंछ, किश्तवाड़, डोडा और रामबन में अभी इंटरनेट सेवाएं शुरू नहीं की गई हैं.

प्रिंसिपल सेक्रेटरी ने कहा, "अब सोमवार से हम सभी प्राइमरी और मिडल स्कूलों के खुलने की उम्मीद कर रहे हैं. हमने शुक्रवार को इसका उल्लेख भी किया था कि सोमवार से सभी सरकारी दफ़्तर भी सुचारू रूप से काम करेंगे."

इसके साथ ही प्रिसिंपल सेक्रेटरी ने कहा, "अब तक कोई भी अप्रिय घटना रिपोर्ट नहीं की गई हैं. सार्वजनिक परिवहन भी चालू हो गई हैं और हमें बहुत से ग्रामीण इलाक़ों से भी सामान्य आवाजाही की उत्साहजनक रिपोर्टें मिल रही हैं."

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा
श्रीनगर के अस्पताल में क्या हैं हालात?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार