तरुण तेजपाल को सुप्रीम कोर्ट से झटका, बंद नहीं होगा यौन उत्पीड़न का मामला

  • 19 अगस्त 2019
तरुण तेजपाल इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुप्रीम कोर्ट ने तहलका मैगज़ीन के संस्थापक तरुण तेजपाल की उस याचिका को ख़ारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने अपने ऊपर चल रहे यौन हमले के मुक़दमे को रद्द करने की मांग की थी.

तरुण तेजपाल के ख़िलाफ़ उनकी जूनियर सहकर्मी ने यौन हमले का मुक़दमा दर्ज कराया है और मामला गोवा की अदालत में है.

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह 'गंभीर और नैतिक रूप से काफ़ी वीभत्स अपराध' है. सुप्रीम ने यह आदेश भी दिया कि गोवा की अदालत में इसकी सुनवाई अगले छह महीने के भीतर पूरी की जाए.

इससे पहले गोवा हाई कोर्ट ने भी तरुण तेजपाल पर चल रहे यौन हमले के मुक़दमे को रद्द करने वाली ख़ारिज कर दी थी. इसके बाद तेजपाल सुप्रीम कोर्ट गए थे और यहां भी उनके पक्ष में फ़ैसला नहीं आया.

नवंबर 2013 में गोवा के एक फ़ाइव स्टार होटल में तहलका मैगज़ीन का कार्यक्रम था. इसी कार्यक्रम के दौरान उनकी जूनियर सहकर्मी ने लिफ़्ट में यौन हमले का आरोप लगाया था. उत्तरी गोवा में मापुसा टाउन की एक अदालत में तेजपाल के ख़िलाफ़ यौन हमला और उत्पीड़न के आरोप तय हुए हैं.

आरोप लगने के बाद तरुण तेजपाल ने तत्काल तहलका मैगज़ीन के संपादक पद से इस्तीफ़ा दे दिया था. उन्हें नवंबर 2013 में ही गिरफ़्तार कर लिया गया था. मई 2014 से तरुण तेजपाल बेल पर हैं. तरुण तेजपाल कहते रहे हैं कि उन्हें फंसाया गया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे