मोदी ने ट्रंप से की बात, नाम लिए बिना पाकिस्तान पर साधा निशाना

  • 19 अगस्त 2019
मोदी और ट्रंप इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption आख़िरी बार जी-20 के दौरान ट्रंप और मोदी की आमने-सामने बातचीत हुई थी.

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद पहली बार भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप से बात हुई है.

बातचीत में प्रधानमंत्री मोदी ने पाकिस्तान और इमरान ख़ान का नाम लिए बिना उन पर तनाव फैलाने का आरोप लगाया.

प्रधानमंत्री मोदी ने क्षेत्रीय स्थिति पर कहा कि कुछ नेता भारत के ख़िलाफ़ हिंसक भड़काऊ बयानबाज़ी कर रहे हैं जो इलाके की शांति के लिए फायदेमंद नहीं है.

मोदी और ट्रंप के बीच यह बातचीत तब हुई है जब हाल ही में व्हाइट हाउस ने बताया था कि राष्ट्रपति ट्रंप और पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान के बीच बातचीत हुई और उसमें ट्रंप ने उन्हें इस्लामाबाद और नई दिल्ली के बीच बातचीत करने की सलाह दी है.

शुक्रवार को व्हाइट हाउस के बयान के बाद पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने कहा था कि पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कश्मीर में हुई हालिया घटनाओं के बारे में अपनी चिंताओं और क्षेत्रीय शांति के ख़तरे के बारे में अमरीकी राष्ट्रपति को अवगत कराया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption इमरान ख़ान और ट्रंप ने भी हाल ही में टेलिफ़ोन पर बातचीत की थी

प्रधानमंत्री कार्यालय ने किए कई ट्वीट

प्रधानमंत्री कार्यालय ने ट्वीट कर बताया है कि सोमवार को प्रधानमंत्री मोदी की अमरीकी राष्ट्रपति ट्रंप के साथ टेलिफ़ोन पर 30 मिनट की बातचीत हुई जिसमें द्विपक्षीय और क्षेत्रीय मामलों पर बात हुई.

प्रधानमंत्री कार्यालय ने कई ट्वीट किए उनमें से एक ट्वीट में बताया गया है कि मोदी ने ट्रंप से जून के आख़िर में ओसाका में हुए जी-20 सम्मेलन का भी ज़िक्र करते हुए कहा कि उन्हें उम्मीद है कि भारत और अमरीका के वित्त मंत्री दोनों देशों के लाभ के लिए जल्द मुलाक़ात करेंगे.

इसी के साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने आतंक और हिंसा मुक्त वातावरण के महत्व पर भी बल दिया. उन्होंने कहा कि बिना किसी अपवाद के सीमा पार आतंकवाद से दूर रहना चाहिए.

साथ ही प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रपति ट्रंप से दोहराया कि वह ग़रीबी, अशिक्षा और बीमारियों से लड़ाई के मार्ग पर चलने वाले हर किसी को सहयोग देने को तैयार हैं.

अमरीकी राष्ट्रपति के साथ मोदी ने अफ़ग़ानिस्तान की स्वतंत्रता के 100 साल का भी ज़िक्र किया. उन्होंने कहा कि स्वतंत्र अफ़ग़ानिस्तान को लोकतांत्रिक, सुरक्षित और संगठित रखने के काम में भारत की अटूट प्रतिबद्धता रही है.

इसके साथ ही उन्होंने डोनल्ड ट्रंप की उनसे नियमित संपर्क में रहने की सराहना की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार