अरुण जेटलीः छात्र राजनीति और वकालत के रास्ते सत्ता के शिखर तक पहुंचने की कहानी

  • 25 अगस्त 2019
ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट FB @ArunJaitley

पूर्व वित्त मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता अरुण जेटली का शनिवार को निधन हो गया. 28 दिसंबर 1952 को जन्मे जेटली 66 साल के थे.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट Getty Images

उनके पिता महाराज किशन जेटली वकील थे और मां रत्ना प्रभा एक गृहणी और समाजसेविका थीं. दो बहनें और एक बड़े भाई के साथ जेटली ने दिल्ली के नारायणा विहार इलाके में अपना बचपन बिताया. जेटली का परिवार लाहौर से दिल्ली आ कर बसा था.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट FB @ArunJaitley

बीते 9 अगस्त से अरुण जेटली एम्स में इलाज करा रहे थे. 24 अगस्त दोपहर 12 बजकर सात मिनट पर अंतिम सांस ली.

अरुण जेटली ने अपनी पढ़ाई दिल्ली के सेंट ज़ेवियर्स स्कूल और मशहूर कॉलेज श्रीराम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स से की.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट FB @ArunJaitley

छात्र राजनीति से वकालत और भारतीय जनता पार्टी की राजनीति की बदौलत सत्ता के गलियारे के शिखर तक पहुंचे अरुण जेटली बीजेपी के दिग्गज नेताओं में शुमार रहे.

अरुण जेटली दिल्ली एवं ज़िला क्रिकेट संघ डीडीसीए के अध्यक्ष भी रहे.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley, Narendra Modi, Rajnath Singh इमेज कॉपीरइट Getty Images

अरुण जेटली बीजेपी के लिए कितने अहम थे इसका अंदाजा इसी से लगाया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उन्हें श्रद्धांजलि देते हुए लगातार चार ट्वीट किया जिसमें उन्होंने लिखा कि "मैंने एक अहम दोस्त खो दिया है."

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके छात्र राजनीति और आपातकाल की बात की.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट Getty Images

25 जून 1975 को जब देश में आपातकाल लगाया गया था तब अरुण जेटली दिल्ली विश्वविद्यालय छात्र संघ के अध्यक्ष थे.

इसके अगले ही दिन उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के वाइस चांसलर के दफ़्तर के सामने 200 छात्रों को इकट्ठा कर भाषण दिया और इंदिरा गाँधी का एक पुतला जलाया था. जिसके बाद उन्हें गिरफ़्तार कर लिया गया.

ArunJaitley, अरुण जेटली, Arun Jaitley इमेज कॉपीरइट FB @ArunJaitley

जेटली को तब तिहाड़ के उसी सेल में रखा गया जिसमें अटलबिहारी वाजपेयी, लाल कृष्ण आडवाणी और केआर मलकानी के साथ साथ 11 अन्य राजनीतिक कैदी रह रहे थे. तिहाड़ में 19 महीने कैद रहने के बाद जब वे जेल से निकले तो उन्हें इस बात का साफ़ आभास हो गया कि आगे का उनका करियर राजनीति में है.

जब आपातकाल के बाद जेटली को जनता पार्टी के प्रचार के लिए गठित लोकतांत्रिक युवा मोर्चा का राष्ट्रीय संयोजक बनाया गया.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

इसके बाद 1980 में जब भारतीय जनता पार्टी का गठन हुआ तब वो उसमें शामिल हो गए.

अस्सी के दशक में ही जेटली ने दिल्ली में वकालत की प्रैक्टिस शुरू की और ट्रायल कोर्ट, दिल्ली हाई कोर्ट से होते हुए सुप्रीम कोर्ट पहुंचे. वे सीनियर एडवोकेट बने फिर 37 साल की उम्र में एडिशनल सॉलिसिटर जनरल.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट FB @ArunJaitley

इसी दौरान उनकी शादी गिरिधर लाल डोगरा और शकुंतला डोगरा की बेटी संगीता से हुई. 1983 में उनके घर उनकी बेटी सोनाली का जन्म हुआ जो आज एक वकील हैं. 1989 में जेटली के बेटे रोहन का जन्म हुआ.

इसके एक साल बाद ही उन्हें एडिशनल सॉलिसिटर जनरल बनाया गया. उन दिनों बोफ़ोर्स का मामला बेहद चर्चित था. यह बोफोर्स का मामला ही था जिसमें एक से अधिक देशों में जांच की शुरुआत उसी दौरान हुई जब जेटली एडिशनल सॉलिसिटर जनरल थे.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

1991 में जेटली भारतीय जनता पार्टी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में शामिल किए गए. 1998 में जेटली को संयुक्त राष्ट्र भेजे गए भारतीय प्रतिनिधिमंडल में शामिल किया गया. संयुक्त राष्ट्र के उस अधिवेशन में ड्रग्स और मनी लॉन्ड्रिंग से संबंधित क़ानूनों को अपनाया गया था.

अरुण जेटली 1999 में दिल्ली ज़िला क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष बनाए गए. बाद में 2009 में वे बोर्ड ऑफ़ कंट्रोल फॉर क्रिकेट इन इंडिया (बीसीसीआई) उपाध्यक्ष चुने गए.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

1999 में जब केंद्र में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार बनी तब जेटली को सूचना प्रसारण मंत्रालय का स्वतंत्र प्रभार दिया गया. उन्हें नवगठित विनिवेश मंत्रालय के राज्य मंत्री का भार भी दिया गया.

जब वाजपेयी सरकार से वरिष्ठ अधिवक्ता राम जेठमलानी ने इस्तीफ़ा दे दिया तो जेटली को क़ानून, न्याय और कंपनी मामलों का मंत्री बना दिया गया.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

वाजपेयी सरकार के कार्यकाल के बाद जेटली 2009 से 2014 तक राज्यसभा में विपक्ष के नेता थे.

फिर जब नरेंद्र मोदी सत्ता में आए तो सबसे पहले अरुण जेटली को सूचना प्रसारण मंत्रालय सौंपा गया फिर उन्हें वित्त मंत्री और रक्षा मंत्री बनाया गया.

अरुण जेटली इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस दौरान जेटली अमृतसर से लोकसभा के लिए भी चुनाव मैदान में उतरे लेकिन उन्हें सफलता नहीं मिली. हालांकि जेटली साल 2000 से 2018 तक गुजरात से राज्यसभा सदस्य थे फिर अप्रैल 2018 से अपने निधन तक उत्तर प्रदेश से राज्यसभा सदस्य रहे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार