NRC से क्यों पूरी तरह ख़ुश नहीं असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा- प्रेस रिव्यू

  • 3 सितंबर 2019
असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा इमेज कॉपीरइट Facebook/himantabiswasarm
Image caption असम के वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा

असम की बीजेपी सरकार में वित्त मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा ने हिन्दुस्तान टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा है कि वो एनआरसी यानी नेशनल सिटिज़नशिप प्रक्रिया को ख़ारिज नहीं करे रहे क्योंकि यह सही दिशा में उठाया गया क़दम है. असम और भारत को नागरिकता के रिकॉर्ड की ज़रूरत है ताकि विदेशियों को बाहर किया जा सके.

हिमंता ने कहा कि इसी तरह इसमें सभी भारतीयों की जगह होनी चाहिए चाहे वो जिस भी धर्म और जाति के हों. उन्होंने इस इंटरव्यू में कहा कि एनआरसी के नतीजों से न तो ख़ुश हैं और न ही पूरी तरह से नाख़ुश.

हिमंता ने कहा, ''एनआरसी के नतीजों से दुखी होने के कारण हैं. मैं ख़ुश इसलिए हूं कि असम में नागरिकों का रिकॉर्ड है और अब यह असंभव है कि कोई आए और यहां के होने का दावा करे. दूसरी सकारात्मक बात यह है कि असम के अनुभव से बाक़ी भारत को भी सबक़ मिलेगा.''

उन्होंने कहा, ''इसमें ग़लत यह हुआ है कि एनआरसी की प्रक्रिया जब चल रही थी तो इसकी टीम ने बांग्लादेशी हिन्दुओं को जारी किए गए शरणार्थी सर्टिफिकेट और नागरिकता कार्ड को स्वीकार नहीं किया. ये 1971 से पहले से ही भारत में रह रहे हैं. मैं 1971 के बाद की बात नहीं कह रहा. एनआरसी अथॉरिटी से कहा गया था कि इन लोगों के साथ कोई दिक़्क़त नहीं है और इनकी नागरिकता की पुष्टि होनी चाहिए. जब इन्हें सेना ने भारत में आने की अनुमति दी थी या जब शरणार्थी कैंप बनाए गए थे तो कोई रजिस्टर बुक नहीं थी.''

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कोयला, कच्चे तेल समेत आठ उद्योगों की वृद्धि दर गिरी

देश के आठ बुनियादी उद्योगों की वृद्धि दर गिरकर 2.1 प्रतिशत पर आ गई है. ये आंकड़े जुलाई महीने के हैं जिसमें कोयला, कच्चा तेल और प्राकृतिक गैस उत्पादन शामिल हैं.

बिज़नैस स्टैंडर्ड में प्रकाशित समाचार के अनुसार सरकार की ओर से जारी डेटा में बताया गया है कि कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस और रिफ़ाइनरी उत्पादों का उत्पादन घटने से बुनियादी उद्योगों की वृद्धि की रफ्तार सुस्त पड़ी है.

सरकारी आंकड़ों के अनुसार जुलाई 2018 में यही वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत पर थी. इन आठ उद्योगों के बारे में बताया गया है उनमें कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफ़ाइनरी उत्पाद, उर्वरक, इस्पात, सीमेंट, बिजली शामिल हैं.

देश की जीडीपी भी पहली तिमाही में घटकर पांच प्रतिशत पर आ गई थी जो पिछले छह साल में सबसे कम है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद

पाकिस्तान में गुरुनानक के नाम पर रेलवे स्टेशन

पाकिस्तान के रेल मंत्री शेख रशीद ने कहा है कि पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के ननकाना साहिब रेलवे स्टेशन का नाम सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव के नाम पर रखा जाएगा.

जनसत्ता में प्रकाशित इस समाचार में बताया गया है कि रेलवे स्टेशन का निरीक्षण करने वाले रशीद ने कहा कि वह पाकिस्तान के सबसे अच्छे रेलवे स्टेशन में से एक होगा और देश में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देगा.

ननकाना साहिब शहर, पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के ननकाना साहिब ज़िले की राजधानी है. इसका नाम सिखों के पहले गुरु गुरुनानक के नाम पर रखा गया है जो इसी शहर में पैदा हुए थे और उन्होंने पहला प्रवचन भी वहीं दिया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जिस दुकान पर मोदी चाय बेचते थे वह बनेगा टूरिस्ट स्पॉट

बचपन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने गृह नगर वडनगर में रेलवे स्टेशन पर जहां चाय बेचा करते थे, उस चाय की दुकान को अब टूरिस्ट स्पॉट बनाने की योजना है.

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित इस समाचार के अनुसार केंद्रीय पर्यटन और संस्कृति मंत्री प्रह्लाद पटेल हालही में पीएम मोदी के गृहनगर गए थे. वहां उन्होंने पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए उन जगहों की पहचान की है जिन्हें आने वाले समय में विकसित किया जा सकता है.

पटेल शहर के रेलवे स्टेशन भी गए. यहां पर प्लेटफ़ॉर्म पर वह दुकान मौजूद है जिसके बारे में कहा जाता है कि पीएम मोदी ने बचपन में गरीबी के कारण चाय बेचने का काम किया था. खुद पीएम कई बार इस बात का जिक्र कर चुके हैं.

अख़बार के मुताबिक, पर्यटन मंत्री पटेल ने इस चाय की दुकान को देखा. टीन की बनी इस दुकान का नीचे का हिस्सा जंग लगने से गलने लगा है. इसे बचाने के लिए पटेल ने अधिकारियों से कहा है कि दुकान को शीशे से ढंक दिया जाए. उन्होंने यह निर्देश भी दिया है कि इस दुकान का मौजूदा स्वरूप बरक़रार रखा जाए.

इमेज कॉपीरइट ISRO

चंद्रयान 2 की कामयाबी

भारत के दूसरे चंद्र मिशन चंद्रयान 2 ने सोमवार को एक बेहद अहम पड़ाव पार किया.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया में प्रकाशित समाचार के अनुसार चंद्रयान 2 का लैंडर, जिसका नाम विक्रम रखा गया है वह सफलतापूर्वक अपने ऑर्बिटर से अलग हो गया.

अब इसी लैंडर को सात सितंबर को चांद के दक्षिणी ध्रुव में उतरना है. अखबार बताया है कि सोमवार को दोपहर 1 बजकर 15 मिनट पर चंद्रयान 2 ने यह अहम पड़ाव पार किया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार