चंद्रयान 2: इसरो चीफ़ के सिवन को क्या पीएम मोदी ने कैमरा देखकर दी थी सांत्वना?

  • 9 सितंबर 2019
सोशल मीडिया इमेज कॉपीरइट SM Viral Video Grab

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और इसरो चीफ़ के सिवन का एक वीडियो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ शेयर किया जा रहा है कि 'सिवन ने जब पीएम मोदी को विक्रम लैंडर के गुम होने की सूचना दी तो मोदी ने ना उन्हें गले लगाया और ना ही सांत्वना दी. लेकिन जब दोनों कैंमरे के सामने आये तो रोना-धोना किया गया'.

27 सेकेंड का यह वायरल वीडियो कई बड़े फ़ेसबुक और वॉट्सऐप ग्रुप्स में शेयर किया गया है. फ़ेसबुक और ट्विटर समेत छह लाख से ज़्यादा बार यह वीडियो देखा जा चुका है और सैकड़ों बार इस वीडियो को शेयर किया गया है.

वीडियो के पहले हिस्से में दिखाई देता है कि पीएम मोदी सूचना मिलने के बाद सिवन से कुछ कहते हैं और जाकर अपनी जगह बैठ जाते हैं. जबकि वीडियो के दूसरे हिस्से में वो सिवन को अपने सीने से लगाये, उनकी पीठ थपथपाते हुए दिखाई देते हैं.

इमेज कॉपीरइट SM Viral Post

सोशल मीडिया पर जिन लोगों ने यह वायरल वीडियो शेयर किया है, उन्होंने लिखा है कि 'मीडिया और कैमरे इर्द-गिर्द ना होने के कारण मोदी ने पहले सिवन को लौटा दिया था. लेकिन कपड़े बदलने के बाद और कैमरों की मौजूदगी में ही उन्होंने सिवन को गले लगाकर सांत्वना दी'.

लेकिन अपनी पड़ताल में हमने पाया कि ये दावा भ्रामक है और वायरल वीडियो को दूरदर्शन न्यूज़ के लाइव प्रसारण के दो अलग हिस्से जोड़कर बनाया गया है.

दूरदर्शन न्यूज़ का पूरा लाइव प्रसारण देखने से पता चलता है कि पीएम मोदी ने दोनों मौक़ों पर इसरो प्रमुख और उनकी टीम के वैज्ञानिकों को हिम्मत बंधाई थी.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पहला हिस्सा और सच्चाई

वायरल वीडियो के पहले हिस्से में जहाँ दिखता है कि पीएम मोदी विक्रम लैंडर की सूचना मिलने के बाद के सिवन से कुछ कहते हैं और जाकर अपनी जगह बैठ जाते हैं, ये 6 और 7 सितंबर 2019 की दरमियानी रात क़रीब डेढ़ बजे की घटना है.

जबकि 1 बजकर 45 मिनट पर इसरो प्रमुख के सिवन ने बेंगलुरु के इसरो सेंटर से विक्रम लैंडर के साथ संपर्क टूटने की पहली औपचारिक घोषणा की थी.

सिवन ने औपचारिक घोषणा से पहले तय प्रोटोकॉल के तहत पीएम मोदी को इसकी सूचना दी थी.

जिस वक़्त के सिवन ने पीएम मोदी को यह बताया था कि विक्रम लैंडर से इसरो सेंटर का संपर्क टूट गया है, उस वक़्त भी दूरदर्शन न्यूज़ के कैमरापर्सन उन्हें घेरे खड़े थे और इसका लाइव प्रसारण हो रहा था.

इमेज कॉपीरइट Twitter

भारत के सरकारी न्यूज़ चैनल दूरदर्शन ने रात साढ़े 12 बजे इसरो सेंटर से लाइव प्रसारण शुरु किया था. डीडी न्यूज़ की फ़ुटेज के अनुसार लाइव प्रसारण शुरु होने के 23 मिनट बाद पीएम मोदी 'मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्स' में दाख़िल हुए थे.

विक्रम लैंडर के चाँद की सतह पर उतरने का कार्यक्रम 51वें मिनट (रात क़रीब सवा एक बजे) तक अपने तय शिड्यूल पर चल रहा था. लेकिन देखते ही देखते इसरो सेंटर में सन्नाटा पसर गया.

53वें मिनट में चंद्रयान-2 मिशन की डायरेक्टर रितु करिदाल की आवाज़ इसरो सेंटर के बड़े स्पीकर पर सुनाई दी जिन्होंने कहा कि विक्रम लैंडर से कोई रिस्पॉन्स नहीं मिल रहा है. कुछ मिनट बाद इसरो प्रमुख ने इसकी औपचारिक घोषणा की.

इसके बाद पीएम मोदी पहली मंज़िल पर स्थित अपने कक्ष से कंट्रोल सेंटर में उतर आये और उन्होंने इसरो प्रमुख समेत सभी वैज्ञानिकों को संबोधित किया.

इसरो चीफ़ के सिवन का कंधा थपथपाते हुए उन्होंने कहा, "हौसला बनाए रखिये."

इमेज कॉपीरइट Twitter
Image caption इसरो सेंटर से निकलने के बाद पीएम मोदी का पहला ट्वीट

पीएम मोदी ने ये भी कहा, "जीवन में उतार चढ़ाव आते रहते हैं. आज जो आप लोगों ने किया है, ये भी कोई छोटा काम नहीं है. मेरी तरफ से आपको बहुत बधाई है. बहुत उत्तम सेवा की है आपने देश की, विज्ञान की और मानव जाति की. इससे भी हम कुछ सीख रहे हैं. आगे भी हमारी यात्रा जारी रहेगी. मैं पूरी तरह आपके साथ हूँ. हिम्मत के साथ चलें."

इसके बाद उन्होंने स्कूली छात्रों से मुलाक़ात की और फिर इसरो सेंटर से निकल गये.

इमेज कॉपीरइट DD NEWS
Image caption 6 और 7 सितंबर 2019 की दरमियानी रात क़रीब दो बजे का फ़ोटो

वायरल वीडियो का दूसरा हिस्सा

7 सितंबर 2019 की सुबह 7 बजकर 5 मिनट पर पीएम मोदी ने एक ट्वीट के ज़रिये यह सूचना दी थी कि वो 8 बजे बेंगलुरु के इसरो सेंटर में वैज्ञानिकों से मिलने वाले हैं.

7 बजकर 20 मिनट पर वो इसरो सेंटर पहुँचे और इसरो चेयरमैन के सिवन ने उनका स्वागत किया.

इस मौक़े पर इसरो सेंटर के 'मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्स' में पीएम मोदी ने क़रीब बीस मिनट लंबा भाषण दिया जिसमें उन्होंने वैज्ञानिकों के जीवन और विज्ञान के महत्व पर बात की.

अपने संबोधन में पीएम मोदी ने कहा था, "भारतीय वैज्ञानिक वो लोग हैं जो माँ भारती की जय के लिए जीते हैं, जूझते हैं, उनके लिए जज़्बा रखते हैं. मैं कल रात को आपकी मनोस्थिति समझ रहा था. आपकी आँखें बहुत कुछ कह रही थीं. आपके चेहरे की उदासी मैं पढ़ पा रहा था. इसीलिए कल रात मैं ज़्यादा देर आप लोगों के बीच नहीं रुका. पर मैंने सोचा कि सुबह आप लोगों से एक बार फिर मिलूं और आपसे बात करूं."

इस दौरान इसरो प्रमुख प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पास ही खड़े थे.

भाषण पूरा होने के बाद इसरो प्रमुख ने पीएम मोदी को टीम के सभी वैज्ञानिकों से मिलवाया और क़रीब सवा आठ बजे पीएम मोदी इसरो सेंटर से रवाना हुए थे.

दूरदर्शन न्यूज़ पर इस पूरे कार्यक्रम का लाइव प्रसारण किया गया था जिसमें दिखता है कि 'मिशन ऑपरेशन कॉम्पलेक्स' के गेट पर पहुँचकर मोदी पलटते हैं और के सिवन के बारे में पूछते हैं. तभी भावुक के सिवन उनसे कुछ कहते हैं जिसपर मोदी उन्हें गले लगा लेते हैं.

इमेज कॉपीरइट DD NEWS

सोशल मीडिया पर वायरल हुए वीडियो का जो दूसरा हिस्सा है, वो पीएम मोदी के इसरो सेंटर से रवाना होने से पहले का है जिसमें पीएम मोदी भावुक के सिवन को अपने गले लगाते हैं और उन्हें सांत्वना देते दिखते हैं.

(इस लिंक पर क्लिक करके भी आप हमसे जुड़ सकते हैं)

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार