पुलिस ने विफल किया गिलानी का संवाददाता सम्मेलन

  • 18 सितंबर 2019
कश्मीर

भारत प्रशासित कश्मीर के अलगाववादी नेता सैय्यद अली शाह गिलानी ने पत्रकारों को एक ईमेल के ज़रिए संवाददाता सम्मेलन के लिए बुधवार अपने आवास पर आमंत्रित किया था. उन्होंने राज्य में क़रीब डेढ़ महीने से जारी ​स्थिति के बीच पहली बार संवाददाता सम्मेलन बुलाया था.

हालांकि, जब पत्रकार और चैनलों के कैमरामैन उनके आवास पर पहुंचे तो वहां पहले से मौजूद पुलिस और सीआरपीएफ़ के जवानों ने उन्हें अंदर जाने की अनुमति नहीं दी.

पुलिस और सीआरपीएफ़ के जवान पहले से ही दो गाड़ियों में वहां मुस्तैद थे.

घटनास्थल पर वरिष्ठ पुलि​स अधिकारी सामने आए और उन्होंने कहा कि अगर यहां पत्रकारों की ज्यादा भीड़ जमा हो गई तो वह धारा 144 का उल्लंघन होगा. ग़ौरतलब है कि इस धारा के तहत चार से ज्यादा लोगों के एक साथ एक जगह जमा होना ग़ैरक़ानूनी है.

इमेज कॉपीरइट AFP

पुलि​स अधिकारी से बातचीत के दौरान संवाददाताओं ने भी अपना पक्ष रखा और कहा कि उन्हें कर्फ्यू पास दिया गया है ऐसे में उन्हें अंदर जाने दिया जाए. क़रीब एक घंटे तक संवाददाताओं और पुलिस अधिकारियों के बीच बातचीत होती रही.

हालांकि अधिकारी ने संवाददाताओं की दलीलें नहीं सुनी जिसके कारण संवाददाता सम्मेलन नहीं हो सका.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

किसी अलगाववादी नेता द्वारा स्पष्ट तौर पर संवाददाताओं से संपर्क करने और अपना संदेश देने का यह पहला प्रयास था.

गिलानी की ओर से संवाददाताओं को भेजे गए ईमेल में केवल दो लाइन का संदेश था और इसमें केवल संवाददाता सम्मेलन की बात कही गई थी. लेकिन इस मेल में इस बात का ज़िक्र नहीं था कि संवाददाता सम्मेलन किस मुद्दे पर बुलाई गई है.

हालांकि, ऐसी अटकलें लगाई जा रही हैं कि वह कश्मीर में लगातार जारी हड़ताल पर कोई लाइन ऑफ़ एक्शन लेने या अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद जारी नाराज़गी पर कोई संदेश देना चाहते थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से कश्मीर के लोगों में एक दिशाहीनता की स्थिति है.

भारत का समर्थन कर रहे और अलगाववादी नेता दोनों ही जेल में बंद हैं और हड़ताल भी ख़ुद ब ख़ुद हो रही है. कोई दुकान नहीं खुल रहा है और व्यापारिक गतिविधियां पूरी तरह ठप्प पड़ी हुई हैं.

कश्मीर में कमर्शियल वाहन भी नहीं चल रहे हैं और स्कूल भी बंद हैं. वहां छात्र—छात्राएं भी नहीं पहुंच रहे हैं.

ऐसी अटकलें हैं कि इन स्थितियों को देखते हुए गिलानी शायद कोई संदेश देना चाहते थे.

ये भी पढ़ें—

कश्मीर: 'सूचनाओं के ब्लैकहोल' में कैसी है ज़िंदगी

मोहर्रम पर क्या है कश्मीर का हाल

कश्मीर: ह्यूमन राइट्स वॉच ने की भारत की आलोचना

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार