कश्मीर मुद्दे पर अंतरराष्ट्रीय मंच पर पाकिस्तान को बड़ा झटका :पांच बड़ी ख़बरें

  • 20 सितंबर 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट Twitter

कश्मीर मुद्दे पाकिस्तान को बड़ा झटका लगा है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान लगभग अपने हर बयान में कहते रहे हैं कि वो कश्मीर मुद्दे को अंतरराष्ट्रीय पटल पर इस तरह पेश करेंगे जैसा पहले कभी नहीं किया गया. लेकिन जेनेवा में चल रही संयुक्त राष्ट्र की 42वीं बैठक में पाकिस्तान को प्रस्ताव लाने के लिए भी पर्याप्त देशों का समर्थन नहीं मिला.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, ज़्यादातर सदस्य राष्ट्रों ने पाकिस्तान को इसके लिए समर्थन देने से इनक़ार कर दिया.

सबसे ख़ास बात यह रही कि पाकिस्तान को ऑर्गेनाइज़ेशन ऑफ़ इस्लामिक को-ऑपरेशन (ओआईसी) में शामिल 57 देशों तक का समर्थन नहीं मिला.

ऑर्गेनाइजेशन ऑफ़ इस्लामिक कॉ-ऑपरेशन (ओआईसी) 57 देशों का समूह है, जो मोटे तौर पर इस्लाम को मानने वाले देशों से मिलकर बना है.

भारत के लिहाज़ से यह अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कूटनीतिक जीत है.

यूएनएचआरसी में हिस्सा लेने के लिए भारत की ओर से गई राजनयिक टीम का अजय बिसारिया ने नेतृव किया.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कांग्रेस का तो समझ आता है लेकिन शरद पवार....?

महाराष्ट्र में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी के चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नासिक में एक रैली को संबोधित करते हुए मोदी ने विपक्षी दलों पर तल्ख़ टिप्पणी की.

उन्होंने अनुच्छेद 370 को हटाए जाने पर भी टिप्पणी की.

उन्होंने कहा, "यह फ़ैसला कश्मीरियों को चली आ रही हिंसा, आतंकवाद और अलगाववाद से बचाने के लिए लिया गया है. कश्मीर के लोग बीते चालीस सालों से दिल्ली की सरकार के ग़लत फ़ैसले का ख़ामियाज़ा भुगत रहे थे. जिसकी वजह से 42 हज़ार लोगों को अपनी जान गंवानी पड़ी."

उन्होंने कहा कि एक ओर जहां देश हित में लिए गए सरकार के इस क़दम पर विपक्षी पार्टी के नेताओं को समर्थन करना चाहिए था वहीं वे आलोचना करने में लगे हुए हैं.

उन्होंने कहा, "एक ओर जहां कश्मीर पर लिए गए फ़ैसले पर पूरा देश एक है वहीं कांग्रेस और एनसीपा के नेता कोई सहोयोग नहीं कर रहे हैं."

नरेंद्र मोदी ने राहुल गांधी का नाम लिए बिना कहा कि कांग्रेस के नेता कुछ ऐसे बयान दे रहे हैं जिसका इस्तेमाल दूसरे देश कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि कांग्रेस का एस तरह का व्यवहार तो समझ आता है लेकिन शरद पवार का नहीं.

उन्होंने कहा, "बुरा महसूस होता है जब कोई वरिष्ठ नेता वोटों के लिए इस तरह के ग़लत बयान देते हैं. उन्होंने कहा कि वो पड़ोसी देश को पसंद करते हैं लेकिन हर किसी को पचा है कि आतंक की जड़ कहां है."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पूरी मुंबई में कहां से हुई गैस लीक

मुंबई के पूर्वी और पश्चिमी इलाके के उपनगरीय क्षेत्रों में गुरुवार देर रात गैस लीक होने की शिकायतें मिलीं इसके बाद से ही फ़ायर ब्रिगेड और बीएमसी सक्रिय हैं.

मुंबई महानगर पालिका से जुड़ी सभी एजेंसियों को सतर्क कर दिया गया है. उन इलाकों में जहां से गैस की बदबू आने की शिकायतें मिली हैं, फायर ब्रिगेड के नौ फायर इंजन भेजे गए हैं.

गैस लीक होने के सोर्स का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है.

इमेज कॉपीरइट FB @SWAMI CHINMAYANAND

चिन्मयानंद को लखनऊ रेफ़र किया गया

लॉ की एक छात्रा के साथ कथित रेप के अभियुक्त चिन्मयानंद को डॉक्टरों ने लखनऊ रेफ़र किया, लेकिन वह अपना इलाज आयुर्वेद से कराने की बात कहकर मेडिकल कॉलेज से अपने आश्रम चले गए.

चिन्मयानंद को स्वास्थ्य ख़राब होने के कारण शाहजहांपुर के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया था जहां हालत ज्यादा ख़राब होने के बाद उन्हें डॉक्टरों ने लखनऊ रेफ़र कर दिया.

पूर्व केंद्रीय मंत्री चिन्मयानंद पर उन्हीं के लॉ कॉलेज में पढ़ने वाली एक छात्रा ने शोषण, अपहरण और धमकाने का आरोप लगाया है.

इमेज कॉपीरइट Reuters

जस्टिन ट्रुडो ने आख़िर क्यों मांगी माफ़ी ?

दशकों पहले कई मौकों पर चेहरे पर काले रंग का मेकअप लगाने पर कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने कहा है कि उन्हें इसके लिए खेद है. टीवी पर घोषणा करते हुए ट्रूडो ने कहा कि उन्हें यह जानना चाहिए था कि नस्लवादी इतिहास के कारण काले रंग का मेकअप लगाना अस्वीकार्य था.

उन्होंने कहा कि उन्होंने लोगों का दिल दुखाया इसके लिए वह माफ़ी मांगते हैं. अगले महीने होने वाले आम चुनाव से पहले कई तस्वीरों और वीडियो के सामने आने के बाद ट्रूडो को दबाव का सामना करना पड़ रहा था.

एक तस्वीर में ट्रूडो अरेबियन नाइट्स थीम पार्टी काला मेकअप लगाए नज़र आ रहे हैं. कनाडा की विपक्षी कंज़रवेटिव पार्टी के नेता अंड्रयू शीर ने ट्रूडो पर झूठ बोलने का आरोप लगाते हुए कहा है कि कई बार उन्होंने चेहरे पर काले मेकअप का इस्तेमाल किया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार