बारिश और बाढ़ से बेहाल हुआ बिहार

  • 30 सितंबर 2019
बाढ़ से प्रभावित हुए कई इलाके
Image caption बाढ़ से प्रभावित हुए कई इलाके

बिहार में पिछले पांच दिनों से लगातार बारिश हो रही है. इस दौरान वज्रपात, करेंट लगने और डूबने से अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. राजधानी पटना में भी हालात सामान्य होते नहीं दिख रहें हैं.

लगातार हो रही बारिश के बाद पटना की सड़कों पर शनिवार से ही नावें चलनी लगी थीं. रविवार को भी दिनभर लगातार तेज बारिश होती रही. अब बारिश का पानी शहर के सभी मुहल्लों में फैल गया है. निचले इलाक़े जैसे कंकड़बाग, राजेंद्र नगर, पटना सिटी जलमग्न हैं.

रविवार को पटना में बीते 24 घंटों के दौरान 116 मिलीमीटर बारिश हुई है. शनिवार तक यह रिकार्ड पहले से 205 मिमी था.

Image caption बाढ़ से पहले कैसी थी बिहार की तस्वीर

यह तस्वीरें दिखाती हैं कि पटना शहर किस तरह बारिश से प्रभावित हुआ है. कई रिहाइशी इलाके इस बाढ़ की चपेट में आ गए हैं जिससे शहर की तस्वीर ही बदल गई है.

इमेज कॉपीरइट ANI

पटना से सटी सारी नदियाँ गंगा, पुनपुन, गंडक, सोन पहले से उफान पर हैं. जलस्तर खतरे के निशान से ऊपर है. पानी के दबाव के कारण ड्रेनेज सिस्टम फेल हो चुका है. पटना की एक बड़ी आबादी अभी भी अपने घरों में फंसी है.

कई घरों के ग्राउंड फ्लोर पर पानी है.कंकड़बाग, राजेन्द्र नगर, पाटलिपुत्र कॉलोनी, पटना सिटी के कई इलाकों में सड़कों पर सीने भर तक पानी जम गया है. सबसे अधिक दिक्कत छात्राओं और महिलाओं को हो रही है.

प्रशासन राहत और बचाव कार्य के इंतजाम में लगा है. प्रशासन का कहना है कि शहर के सभी प्राइवेट और निजी स्कूलों को कैंप बना दिया गया है. इस बात पर भी विचार किया जा रहा हैं कि जो लोग बुरी तरह फंस गए हैं उनके लिए सेना की मदद ली जाए.

पटना हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस एपी शाही ने भारी बारिश और जलजमाव को देखते हुए सोमवार को पब्लिक हॉलीडे घोषित करने का आदेश दिया है.

इमेज कॉपीरइट SAROJ KUMAR/BBC
इमेज कॉपीरइट REKHA SINHA/ BBC

पटना में बारिश रुकी, पर जमा पानी कहाँ जाएगा?

बिहारः बाढ़ में फैंसी फोटोशूट, क्या था मॉडल का मकसद?

इमेज कॉपीरइट REKHA SINHA/ BBC
इमेज कॉपीरइट REKHA SINHA /BBC

जलजमाव पर बोले नीतीश कुमार, 'नेचर किसी के हाथ में नहीं, लोगों को हौसला बुलंद रखना चाहिए'

इमेज कॉपीरइट REKHA SINHA/ BBC

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार