पाकिस्तान नहीं माना, हर सिख श्रद्धालु से लेगा 20-20 डॉलर- पाँच बड़ी ख़बरें

  • 22 अक्तूबर 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

करतारपुर साहिब में जाने के लिए सिख श्रद्धालुओं से 20 डॉलर के शुल्क हटाने से पाकिस्तान ने इनकार कर दिया है. भारत ने करतारपुर साहिब कॉरिडोर को लेकर सहमति जता दी है और 23 अक्टूबर को इस समझौते पर हस्ताक्षर होंगे.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने सोमवार को 20 डॉलर के शुल्क लगाने पर निराशा जताई. हालांकि इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि भारत इस समझौते पर हस्ताक्षर करेगा. नियंत्रण रेखा पर दोनों देशों के बीच भारी गोलीबारी के बावजूद भारत ने इस पर हस्ताक्षर से इनकार नहीं किया है.

रवीश कुमार ने कहा, ''20 डॉलर का सेवा शुल्क निराशाजनक है लेकिन इस समझौते पर सहमति बन गई है. पाकिस्तान हर सिख श्रद्धालु से 20 डॉलर का सेवा शुल्क लेने पर अड़ा है.''

रवीश कुमार ने कहा कि लंबे समय से करतारपुर साहिब में सिख श्रद्धालुओं के लिए वीज़ा फ़्री एंट्री की बात चल रही थी. इसके साथ ही 12 नंवबर को गुरु नानक की जयंती से पहले इसे शुरू करने की बात थी. रवीश कुमार ने कहा कि सरकार ने पाकिस्तान को संदेश दे दिया है कि भारत इस पर हस्ताक्षर करने के लिए तैयार है.

भारत ने पाकिस्तान से अनुरोध किया था कि वो सिख श्रद्धालुओं से करतारपुर साहिब जाने के पैसे नहीं ले लेकिन पाकिस्तान ने भारत के अनुरोध को ठुकरा दिया है. कुछ अनुमानों के अनुसार पाकिस्तान एक दिन में कम से कम पाँच हज़ार सिख श्रद्धालुओं से एक लाख डॉलर कमाएगा. इससे पहले विदेश मंत्रालय ने कहा था कि जब तक पाकिस्तान सेवा शुल्क ख़त्म नहीं करता है तब तक भारत इस पर हस्ताक्षर नहीं करेगा. हालांकि बाद में भारत सरकार को इस पर झुकना पड़ा.

करतारपुर कॉरिडोर भारत में पंजाब के डेरा साहिब से पाकिस्तान के पंजाब में करतारपुर साहिब से जुड़ा है. यह अंतर्राष्ट्रीय सीमा से महज चार किलोमीटर दूर है.

इमेज कॉपीरइट @rajnathsingh

अब पर्यटक जा सकेंगे सियाचिन

सोमवार को केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ख़तरानक सियाचिन ग्लेशियर को पर्यटकों के लिए खोलने की घोषणा की. यह दुनिया की सबसे ऊंचाई पर स्थित पाकिस्तान और भारत के बीच का बैटलग्राउंड है. यहां तापमान माइनस 40 से भी नीचे चला जाता है.

सोमवार को राजनाथ सिंह ने कहा, ''सियाचिन इलाक़ा पर्यटकों और पर्यटन के लिए खोल दिया गया है. यह सियाचिन बेस कैंप से कुमार पोस्ट तक उपलब्ध रहेगा. पूरा इलाक़ा पर्यटकों के लिए खुला रहेगा.''

कहा जा रहा है कि ऐसा लद्दाख में टूरिजम को बढ़ाने के लिए और लोगों को यह भी देखने का मौक़ा मिलेगा कि भारतीय सैनिक सियाचिन में कैसे बिल्कुल विषम परिस्थिति में रहते हैं.

इमेज कॉपीरइट SAVARKARSMARAK.COM

अभिषेक मनु सिंघवी ने की सावरकर की तारीफ़

कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने सोमवार को हिन्दुत्व विचारधारा के विवादित नेता विनायक दामोदर सावरकर की तारीफ़ की. सिंघवी ने कहा कि सावरकर पढ़े-लिखे नेता थे और स्वतंत्रता की लड़ाई में उनकी भागीदारी थी. सिंघवी ने कहा कि सावरकर ने दलितों के हक़ की लड़ाई लड़ी थी और वो देश के लिए जेल गए थे.

सिंघवी ने कहा कि सावरकर की विचारधारा से सहमत नहीं हुआ जा सकता है लेकिन वो राष्ट्रवादी विचारधारा से ओतप्रोत थे. पिछले हफ़्ते पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कहा था कि कांग्रेस सावरकर के ख़िलाफ़ नहीं है लेकिन वो हिन्दुत्व विचारधारा के साथ नहीं है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

NCRB 2017 का डेटा जारी

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो ने सोमवार को 2017 के अपराधों का बहुप्रतीक्षित डेटा जारी कर किया. इस डेटा के अनुसार 2016 की तुलना में केस दर्ज कराने में 3.7 फ़ीसदी की बढ़ोतरी आई है.

एनसीआरबी डेटा 2017 के अनुसार 2013 की तुलना में रेप के मामलों में कमी आई है. आईपीसी के तहत देश के कुल अपराध का 10.1 फ़ीसदी अपराध उत्तर प्रदेश में हुए. यह रिपोर्ट एक जनवरी से 31 दिसबंर 2017 की है.

यूपी और दिल्ली के आंकड़ों के बारे में कहा जा रहा है कि इनकी तुलना दूसरे राज्यों से नहीं की जा सकती क्योंकि यहां ऑनलाइन भी केस दर्ज होते हैं और इस सेवा के बाद अपराध की शिकायत दर्ज कराने की दर में बढ़ोतरी हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सरकार नहीं बना पाए नेतन्याहू

इसराइल के प्रधानमंत्री बिन्यामिन नेतन्याहू ने नए गठबंधन के साथ सरकार गठन की अपनी कोशिशें छोड़ दी हैं. अब उनके प्रतिदंवंदी पूर्व सेना प्रमुख बेनी गैंज़ के पास सरकार बनाने का मौक़ा है. सितंबर में हुए चुनाव में ना तो बेनी गैंज की ब्लू एंड व्हाइट पार्टी और ना ही नेतन्याहू की पार्टी को बहुमत मिल पाया था.

ब्लू एंड व्हाइट पार्टी की ओर से कहा गया है कि वो एकजुट सरकार बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. बेनी गैंज़ के पास सरकार बनाने के लिए 28 दिन हैं. इन 28 दिनों में उन्हें अन्य दलों से समर्थन प्राप्त करना होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

मिलते-जुलते मुद्दे

संबंधित समाचार