महाराष्ट्र में आठ और हरियाणा में सात मंत्री हारे: पांच बड़ी ख़बरें

  • 25 अक्तूबर 2019
कार्यकर्ता इमेज कॉपीरइट Getty Images

महाराष्ट्र और हरियाणा विधानसभा चुनावों में बीजेपी ने सबसे अधिक सीटें जीती हैं. हालांकि, इन राज्यों में सत्तारुढ़ रही बीजेपी सरकार के अधिकतर मंत्रियों को हार का सामना करना पड़ा है.

महाराष्ट्र की देवेंद्र फडणवीस सरकार में आठ मंत्री रहे विधानसभा चुनाव हार गए हैं जबकि हरियाणा की मनोहर लाल खट्टर सरकार के सात मंत्री हारे हैं.

महाराष्ट्र में कृषि मंत्री अनिल बोंडे चुनाव हार गए हैं. उनके साथ ही हाई प्रोफ़ाइल ग्रामीण विकास मंत्री पंकजा मुंडे अपने चचेरे भाई धनंजय मुंडे से 30 हज़ार से अधिक वोटों से हारी हैं.

इसके साथ ही महाराष्ट्र में दल बदलकर बीजेपी में आए 19 में से 11 उम्मीदवार चुनाव हार गए हैं.

वहीं, हरियाणा में सिर्फ़ मंत्री ही चुनाव नहीं हारे हैं बल्कि वहां पर बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला भी चुनाव हार गए हैं. उन्हें जेजेपी के उम्मीदवार देवेंद्र बबली ने 52 हज़ार से अधिक वोटों से हराया है.

हरियाणा सरकार में 11 मंत्री थे जिनमें सेदो लोगों को टिकट नहीं दिया गया था. इनमें से दो मंत्रियों ने जीत दर्ज की है. अंबाला कैंट से अनिल विज और बावल से बनवारी लाल ने चुनाव जीता है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हरियाणा में त्रिशंकु विधानसभा

हरियाणा और महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों के परिणामों में बीजेपी सबसे बड़ा दल बनकर उभरा है लेकिन उसे हरियाणा में बहुमत नहीं मिल पाया है. हालांकि बीजेपी महाराष्ट्र में अपने सहयोगी दल शिवसेना के साथ आसानी से मिलकर सरकार बना सकती है.

चुनाव आयोग के मुताबिक़, हरियाणा में बीजेपी ने कुल 40 सीटें जीती हैं जबकि कांग्रेस ने 31, जननायक जनता पार्टी ने 10, निर्दलीयों ने सात और आईएनएलडी एवं हरियाणा लोकहित पार्टी ने एक-एक सीट जीती है.

हरियाणा में 90 विधानसभा सीटें हैं और बहुमत के लिए 46 का आंकड़ा ज़रूरी है. इस सूरत में बीजेपी बहुमत के आंकड़े से 6 सीटें दूर है.

वहीं, महाराष्ट्र में बीजेपी ने 105, शिवसेना ने 56, एनसीपी ने 54 और कांग्रेस ने 44 सीटें जीती हैं.

महाराष्ट्र में 288 सीटें हैं और बहुमत के लिए 145 सीटों की आवश्यक्ता होती है. इस लिहाज़ से बीजेपी और शिवसेना आसानी से महाराष्ट्र में सरकार बनाने जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

कश्मीर में अब दो ट्रक ड्राइवरों की हत्या

भारत प्रशासित कश्मीर के शोपियां में चरमपंथियों ने दो ट्रक ड्राइवरों की गोली मारकर हत्या कर दी है जबकि इस हमले में एक अन्य ट्रक ड्राइवर घायल है.

एक सप्ताह पहले शोपियां ज़िले में ही एक सेब कारोबारी की चरमपंथियों की हत्या कर दी थी. इसके अलावा एक मज़दूर और राजस्थान के ड्राइवर की भी चरमपंथियों ने हत्या की थी.

पुलिस का कहना है कि चरमपंथी हताशा में काम कर रहे हैं क्योंकि कश्मीर घाटी में फलों का कारोबार बढ़ा है.

एक वरिष्ठ अधिकारी ने समाचार एजेंसी पीटीआई से कहा, "यह दुर्भाग्य घटना है. ट्रक ड्राइवर सुरक्षाबलों को बिना सूचित किए अंदरूनी इलाक़ों में गया था."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'धर्म के नाम पर लोगों को बंटा नहीं देख सकती'

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है कि वह लोगों को धर्म के नाम पर बंटा हुए नहीं देखना चाहती हैं.

सिलिगुड़ी में काली पूजा के उद्घाटन के मौक़े पर उन्होंने कहा कि उत्तरी बंगाल को एकजुट रहना चाहिए.

उन्होंने कहा, "मैं अपने भाई और बहनों को एकजुट देखना चाहती हूं. मैं उन्हें एनआरसी और सिटिज़नशिप बिल पर बंटा हुआ नहीं देख सकती हूं. मैं इस त्यौहार के सीज़न में भगवान से प्रार्थना करूंगी कि वह सभी को सुरक्षित, प्रसन्न और एकसाथ रखे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images

प्लास्टिक रिसाइकलिंग रैकेट गैंग पकड़ा गया

इटली की पुलिस ने प्लास्टिक रिसाइकलिंग रैकेट से जुड़े एक गैंग को पकड़ा है. पुलिस ने इस गैंग में काम करने वाले 15 लोगों को गिरफ्तार किया है.

ये लोग वषैली सामग्री को सिसली से चीन लेकर जाते थे. इस रैकेट के बारे में तब पता चला जब चीन से निर्मित जूतों को इटली में बेचा जा रहा था तो उसमें ख़राब गुणवत्ता का प्लास्टिक पाया गया.

पुलिस पिछले चार साल से इसकी जांच कर रही थी. पुलिस ने बताया है कि उन्होंने इस गैंग के सरगना क्लॉडियो कार्बोनारो को भी गिरफ्तार कर लिया है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार