'सरकार अर्थव्यवस्था पर आलोचना नहीं सुनना चाहती': पांच बड़ी ख़बरें

  • 2 दिसंबर 2019
बायोकॉन की प्रबंध निदेशक किरण मजूमदार इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption बायोकॉन की प्रबंध निदेशक किरण मजूमदार

उद्योगपति राहुल बजाज के बाद बायोकॉन की प्रबंध निदेशक किरण मजूमदार ने सरकार की आलोचना की है. उनका कहना है कि सरकार कोई आलोचना सुनना नहीं चाहती है.

किरण मजूमदार शॉ ने कहा कि उम्मीद है कि सरकार खपत और वृद्धी को पटरी पर लाने के लिए भारतीय उद्योग जगत से संपर्क साधेगी. अभी तक हम सब से दूरी बनाकर रखी जा रही है. सरकार अर्थव्यवस्था को लेकर कोई आलोचना नहीं सुनना चाहती.

इससे पहले एक कार्यक्रम में जानेमाने उद्योगपति और पूर्व सांसद राहुल बजाज ने भी डर के माहौल की बात कही थी.

उन्होंने कहा था कि अगर सरकार की खुले तौर पर आलोचना की जाए तो इतना विश्वास नहीं है कि वो सरकार को पसंद आएगी. साथ ही उन्होंने मॉब लिचिंग और सासंद साध्वी प्रज्ञा के नाथूराम गोडसे को लेकर दिए बयान पर भी उचित कार्रवाई ना किये जाने पर चिंता जताई थी.

इसके बाद से इस मामले पर विवाद खड़ा हो गया और राजनीतिक बयानबाजी होने लगी.

निर्मला सीतारमण की प्रतिक्रिया

कार्यक्रम में मौजूद गृह मंत्री अमित शाह ने राहुल बजाज को जवाब देते हुए कहा था कि किसी को भी किसी से डरने की ज़रूरत नहीं है और जैसा कि आप कह रहे हैं कि डर का एक ऐसा माहौल बना है तो हमें इस माहौल को बेहतर करने का प्रयास करना चाहिए.

अब वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने भी राहुल बजाज की टिप्पणी पर प्रतिक्रिया जाहिर की है.

उन्होंने ट्वीट करके कहा है कि राहुल बजाज ने जिन मुद्दों को उठाया, उनका जवाब गृह मंत्री अमित शाह ने दिया. सवाल/ आलोचनाएं, सबको सुना जाता है, उनका जवाब दिया जाता है. अपनी धारणा फैलाने की जगह जवाब पाने के और भी बेहतर तरीके हैं. ऐसी बातों से राष्ट्रीय हित को चोट पहुंचती है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

हैदराबाद मामले में फास्ट ट्रैक कोर्ट में सुनवाई

हैदराबाद में महिला पशु चिकित्सक के साथ कथित गैंगरेप और हत्या मामले को लेकर तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर राव ने मामले की तेज़ी से सुनवाई के लिए एक फास्ट ट्रैक कोर्ट के गठन का आदेश दिया है.

साथ ही उन्होंने पीड़िता के परिवार को हर आवश्यक मदद मुहैया कराने का वादा भी किया है. चंद्रशेखर राव ने घटना के बाद पहली बार सार्वजनिक बयान देते हुए इसे वीभत्स बताया और गहरा दुख प्रकट किया. उन्होंने कहा कि दोषियों को कड़ी सजा दी जानी चाहिए.

हैदराबाद में एक महिला का जला हुआ शव मिला था जिनकी गैंगरेप के बाद हत्या होने की आशंका जताई जा रही है. शव को जला दिया गया था.

पुलिस ने इस मामले में चार अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया है. उन्हें न्यायिक हिरासत में भेजा दिया गया है.

घटना के बाद लोगों ने शादनगर पुलिस स्टेशन के बाहर जमकर विरोध पदर्शन भी किया और अभियुक्तों को फांसी की सजा देने की मांग की.

इमेज कॉपीरइट ANI

औरंगजेब लेन का साइनबोर्ड हटाने की मांग

दिल्ली में शिरोमणि अकाली दल के विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा के साथ सिख गुरद्वारा प्रबंधन समिति के अन्य सदस्यों ने रविवार को दिल्ली में औरंगजेब लेन के साइनबोर्ड को काला कर दिया.

उन्होंने मुस्लिम शासक औरंगजेब का नाम सड़कों पर लगे साइनबोर्ड और किताबों से हटाने की मांग की.

मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा, ''लोगों को गुरु तेग बहादुर के शहीद दिवस पर औरंगजेब के खूनी इतिहास को याद करने की ज़रूरत है.''

उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार और राज्यों को ये सुनिश्चित करना चाहिए कि औरंगजेब के नाम पर कोई सड़क न हो और कोई स्कूल व कॉलेज को उनके बारे में नहीं पढ़ाना चाहिए.

आरे मामले में केस होंगे वापस

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने घोषणा की है कि सरकार ने मुंबई के आरे मामले में प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ केस वापस लेने का फ़ैसला किया है.

उन्होंने रविवार शाम को इसकी जानकारी देते हुए बताया कि मुंबई के आरे मेट्रो शेड निर्माण के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले पर्यावरणविदों पर दर्ज किए गए मुकदमे वापस लिए जाएंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इससे पहले उन्होंने आरे मेट्रो कार शेड के निर्माण पर रोक लगाने की घोषणा की थी.

अक्टूबर में मुंबई की आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड के लिए काटे जा रहे पेड़ों को बचाने के लिए विरोध प्रदर्शन किया गया था.

बुर्किना फासो में चर्च पर हमला

पूर्वी बुर्किना फासो में एक चर्च पर बंदूकधरियों ने हमला किया है, जिसमें कम से कम 14 लोगों की मौत हो गई है.

नाइजर की सीमा से सटे हान्टूकोरा शहर के एक चर्च पर ये हमला उस वक्त हुआ जब वहां प्रार्थना सभा चल रही थी. अब तक हमलावरों की पहचान की पुष्टि नहीं हो पाई है.

बुरकीना फासो में बीते कुछ वक़्त से नस्लीय और धार्मिक हिंसा बढ़ी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार