पीएम मोदी ने सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री बनाने का दिया था ऑफ़र - शरद पवार: प्रेस रिव्यू

  • 3 दिसंबर 2019
शरद पवार इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी प्रमुख शरद पवार ने कहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने महाराष्ट्र में राजनीतिक अनिश्चितता के वक़्त उनके सामने एक प्रस्ताव रखा था मगर उन्होंने प्रधानमंत्री को स्पष्ट कर दिया था कि उनके लिए उनके साथ काम कर पाना संभव नहीं हो पाएगा.

पवार ने एक मराठी टीवी चैनल से कहा "पीएम मोदी ने कहा था कि मेरा राजनीतिक अनुभव उनके लिए सरकार चलाने में मददगार साबित होगा. उन्होंने कहा था कि राष्ट्रीयता के कुछ मुद्दों पर हमारी सोच एक जैसी है. इसके लिए उन्होंने प्रस्ताव भी दिया था."

शरद पवार के इस बयान को इंडियन एक्सप्रेस ने प्रकाशित किया है. पवार ने इस इंटरव्यू में दावा किया कि पीएम मोदी ने उन्हें ऑफ़र दिया था कि वो उनकी बेटी सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री का पद देंगे लेकिन उन्होंने पेशकश को ठुकरा दिया.

हालाँकि अपने इंटरव्यू में पवार ने इस बात से साफ़ इनक़ार कर दिया कि मोदी सरकार ने उन्हें कभी भी राष्ट्रपति पद का प्रस्ताव दिया था. उन्होंने कहा, "यह बात पूरी तरह से निराधार है कि उन्होंने मुझे राष्ट्रपति पद की पेशकश की थी लेकिन यह बात सही है कि उन्होंने सुप्रिया के लिए कैबिनेट मंत्री का ऑफ़र जरूर दिया था. "

पवार का यह बयान ऐसे समय में आया है जबकि एक समय बीजेपी की सहयोगी पार्टी रही शिवसेना उससे अलग होकर कांग्रेस और एनसीपी के साथ मिलकर महाराष्ट्र में सरकार बनाने में कामयाब रही है.

मेट्टूपालयम में दीवार गिरने से 17 लोगों की मौत

तमिलनाडु में कोयंबटूर के मेट्टूपालयम में एक कंपाउंड की दीवार गिरने से तीन घर ढह गए, जिसमें दबकर 17 लोगों की मौत हो गई. मारे गए इन 17 लोगों में तीन बच्चे भी शामिल हैं. नादूर गांव में हादसा तब हुआ जब ये सभी लोग अपने-अपने घरों में सो रहे थे.

पुलिस और अधिकारियों का कहना है कि रविवार से ही रुक-रुककर लगातार बारिश हो रही है जिसकी वजह से कंपाउंड की दीवार इन मज़दूरों के घरों पर गिर गई जिसमें दबकर इनकी मौत हो गई.

इस ख़बर को द हिंदू ने प्रकाशित किया है. इन मज़दूरों के घर से कुछ दूरी पर ही रहने वाले पी रामास्वामी का कहना है कि क़रीब पौने पांच साढ़े पांच बजे के क़रीब उन्होंने तेज़ आवाज़ सुनी.

रामास्वामी ने कहा,"मुझे लगा कि कहीं बहुत पास में बिजली गिरी है लेकिन मैंने बाहर आकर कुछ पता करने से बेहतर घर में ही रहना समझा क्योंकि उस वक़्त भी बारिश हो ही रही थी."

अयोध्या फ़ैसले को पहली चुनौती, जमीयत उलेमा ए हिंद ने कहा- पूर्ण न्याय नहीं हुआ

अयोध्या में विवादित ज़मीन के मामले पर सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के ख़िलाफ़ एक मुस्लिम पक्षकार ने रिव्यू पिटिशन यानी पुनर्विचार याचिका दाखिल की है.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के अध्यक्ष मौलाना सैय्यद अशद रशीदी की ओर से दाखिल याचिका में कहा गया है कि विवादित 2.77 एकड़ ज़मीन को रामलला को सौंपना और मस्जिद बनाने के लिए किसी दूसरी जगह पांच एकड़ ज़मीन देने के संवैधानिक बेंच के फ़ैसले में कमियां हैं.

जमीयत उलेमा-ए-हिंद के प्रमुख मौलाना सैय्यद अरशद मदनी ने कहा कि अदालत का फ़ैसला सुबूतों और तर्कों पर आधारित नहीं है. हालांकि उन्होंने यह भी कहा कि अगर सुप्रीम कोर्ट अपने दिए गए फ़ैसले पर कायम रहती है तो भी वो इसे मानेंगे.

इस ख़बर को नवभारत टाइम्स ने प्रकाशित किया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

क्रीमी लेयर को आरक्षण के दायरे में लाने की सिफ़ारिश

केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध किया है कि एससी/एसटी के क्रीमी लेयर को आरक्षण के लाभ से बाहर रखने के आदेश पर पुनर्विचार करे. केंद्र ने इस मामले को सात सदस्यीय पीठ के पास भेजने का आग्रह किया है.

अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने कहा कि एससी/एसटी को क्रीमी लेयर अवधारणा में नहीं लाया जा सकता. इस मुद्दे पर जनहित याचिकाओं पर सुनवाई कर रही पीठ ने कहा है कि इस विषय पर दो सप्ताह बाद विचार किया जाएगा.

क्रीमी लेयर फिलहाल अन्य पिछड़ा वर्ग में ही लागू है. इस ख़बर को दैनिक हिंदुस्तान ने पहले पन्ने पर जगह दी है.

ये भी पढ़ें...

उत्तर प्रदेश होमगार्ड ड्यूटी में घोटाला कैसे किया गया

एनसीपी-कांग्रेस में उप-मुख्यमंत्री पद को लेकर टकराव की वजह क्या?

डीएमके की नैया पार करेंगे प्रशांत किशोर :प्रेस रिव्यू

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार