CAA पर भ्रम दूर करने के लिए घर-घर जाएगी बीजेपीः प्रेस रिव्यू

  • 22 दिसंबर 2019
नागरिकता क़ानून इमेज कॉपीरइट Getty Images

नागरिकता संशोधन क़ानून पर देशभर में हो रहे विरोध प्रदर्शनों को देखते हुए अब भाजपा ने फ़ैसला किया है कि वो घर-घर जाकर लोगों को इस क़ानून के बारे में बताएगी.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया की ख़बर में बताया गया है कि बीजेपी इस क़ानून के बारे में लोगों के मन में जितने भी भ्रम पैदा हो गए हैं उन्हें दूर करने के लिए अगले 10 दिन में 1000 छोटी-बड़ी रैलियां करेंगी.

भाजपा के महासचिव भूपेन्द्र यादव ने शनिवार को संवाददाताओं से कहा कि नागरिकता संशोधन क़ानून पर विपक्ष और प्रमुख रूप से कांग्रेस के ज़रिए भ्रम फ़ैलाया जा रहा है.

उन्होंने कहा कि विपक्ष द्वारा भ्रम और झूठ की राजनीति की जा रही है, इस भ्रम का जवाब देने के लिए 10 दिनों का एक विशेष अभियान चलाया जाएगा और तीन करोड़ से ज़्यादा परिवारों से संपर्क किया जाएगा.

बीजेपी के कार्यकारी अध्यक्ष जे पी नड्डा ने इस संबंध एक बैठक बुलाई थी जिसमें नागरिकता क़ानून पर चल रहे विरोध प्रदर्शनों के संबंध में चर्चा हुई. बीजेपी अपने इस अभियान के तहत कुछ रैलियों में शरणार्थियों को भी शामिल करेगी और लोगों के सामने उन शरणार्थियों का दर्द साझा करने की कोशिश करेगी.

इमेज कॉपीरइट BJP
Image caption भाजपा के महासचिव भूपेन्द्र यादव

सरकार को वापस लेना होगा नागरिकता क़ानूनः संजय राउत

नागरिकता संशोधन क़ानून पर शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा है कि इसकी वजह से देश में आग लग चुकी है और सरकार को अपना यह फ़ैसला वापस लेना होगा.

इंडियन एक्सप्रेस को दिए इंटरव्यू में उन्होंने कहा, ''जब अमित शाह गृह मंत्री नहीं थे तब बोलते थे कि एक-एक घुसपैठिए तो बाहर निकाल देंगे लेकिन पिछले 6 महीने में कितने घुसपैठियों को बाहर निकाला गया किसी को नहीं पता.''

संजय राउत ने कहा, ''पाकिस्तान, बांग्लादेश और अफ़ग़ानिस्तान में जिन लोगों का उत्पीड़न होता है अगर वो भारत में शरण चाहते हैं तो हमें उन्हें यहां शरण देनी चाहिए लेकिन इन लोगों की संख्या कितनी होगी. अमति शाह ने कहा है कि उन्होंने लाखों करोड़ों लोगों को उम्मीद की किरण दी है. तो अगर लाखों करोड़ों लोग भारत आते हैं तो उन्हें कैसे बसाएंगे.''

''भारत में पहले से अर्थव्यवस्था ख़राब हालत है, बरोज़गारी है हमारे अपने लोग भूखे हैं. सरकार को इन शरणार्थियों की एक संख्या तय करनी चाहिए.''

हालांकि सदन में इस बिल का विरोध ना करने पर संजय राउत ने कहा कि उनकी पार्टी ना तो इसके समर्थन में है और ना ही विरोध में है इसलिए उन्होंने वोटिंग में हिस्सा ही नहीं लिया.

इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/SANJAYRAUT.OFFICIAL

भारत-चीन सीमा विवाद को सुलझाने पर सहमत

भारत और चीन ने सीमा विवाद को सुलझाने के लिए कवायद तेज़ करने पर सहमति जताई है. नई दिल्ली में हुई 22वें दौर की सीमा वार्ता के बाद दोनों देशों ने सीमा निर्धारण को भारत-चीन संबंधों के रणनीतिक नज़रिए से अहम मानते हुए इसका जल्द समाधान निकालने की बात कही है.

हिंदुस्तान टाइम्स के अनुसार राजधानी दिल्ली के हैदराबाद हाउस में दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधियों के बीच वार्ता शुरू हुई.

भारत की तरफ से राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन की ओर से विदेश मंत्री वांग यी ने भाग लिया.

वार्ता के बाद विदेश मंत्रालय से जारी बयान के मुताबिक दोनों देशों के विशेष प्रतिनिधियों ने संकल्प जताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग के निर्देशानुसार सीमा विवाद का एक तार्किक और परस्पर स्वीकार्य समाधान निकालने के लिए जल्द से जल्द प्रयास करेंगे.

विशेष प्रतिनिधियों ने इस बात पर भी ज़ोर दिया कि सीमा विवाद के निपटारे तक यह ज़रूरी है कि सरहद पर शांति बनाए रखी जाए.

इमेज कॉपीरइट Ani
Image caption भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी

महाराष्ट्र में किसानों का कर्ज माफ़

महाराष्ट्र में चल रहे विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दौरान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने किसानों का 2 लाख रुपये तक का कर्ज माफ़ करने का ऐलान किया है.

नवभारत टाइम्स में प्रकाशित समाचार के अनुसार सीएम उद्धव ठाकरे ने विधानसभा के शीतकालीन सत्र के आख़िरी दिन ऐलान करते हुए कहा, ''किसानों का 2 लाख रुपये तक का कर्ज माफ़ कर दिया जाएगा, पैसों को सीधा किसानों के बैंक खातों में डाला जाएगा.''

यह स्कीम मार्च से शुरू की जाएगी. इस बीच विपक्ष ने पूर्ण कर्जमाफ़ी की मांग करते हुए सदन से वॉकआउट कर दिया.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार