इमरान ख़ान: भारत हम पर ऑपरेशन की तैयारी में- पाँच बड़ी ख़बरें

  • 22 दिसंबर 2019
इमरान ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान ख़ान ने कहा है कि भारत अपने घर में हो रहे विरोध-प्रदर्शनों से ध्यान हटाने के लिए पाकिस्तान के ख़िलाफ़ कोई ऑपरेशन कर सकता है.

पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने कहा कि भारत ऐसा हिन्दू राष्ट्रवाद को लामबंद करने के लिए युद्ध उन्माद को भड़काना चाहता है. इमरान ख़ान ने कहा कि अगर ऐसा होता है तो पाकिस्तान के पास मुँहतोड़ जवाब देने के अलावा कोई विकल्प नहीं होगा.

पाकिस्तानी पीएम ने ट्वीट कर कहा है, ''भारत ने जम्मू-कश्मीर में अब भी सबको क़ैद करके रखा है. अगर यहां से पाबंदियां हटती हैं तो क़त्लेआम की आशंका है. अगर भारत में इस तरह के विरोध-प्रदर्शन बढ़ते हैं तो पाकिस्तान पर भारत का ख़तरा और बढ़ेगा. भारतीय आर्मी प्रमुख का बयान हमारी इन चिंताओं को और आश्वस्त करता है.''

इमरान ख़ान ने अपने अगले ट्वीट में कहा है, ''पिछले पाँच सालों से मोदी सरकार के नेतृत्व में भारत हिन्दू राष्ट्र की तरफ़ बढ़ रहा है. इस प्रक्रिया में हिन्दू श्रेष्ठता और फासीवादी विचारधारा के ज़रिए आगे बढ़ा जा रहा है. अब नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ वो भारतीय सड़क पर हैं जो चाहते हैं कि भारत की विविधता बनी रहे. सीएए के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन जन आंदोलन बन गया है.''

इमरान ख़ान के मंत्री चौधरी फ़वाद हुसैन ने भी नागरिकता संशोधन क़ानून पर मोदी सरकार को घेरा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा, ''नए नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में पुलिस की गोलीबारी से होने वाली मौतों से समझा जा सकता है कि भारत मोदी को चुनने की क़ीमत चुका रहा है. अल्पसंख्यकों के लिए भारत ख़तरनाक बन गया है.'' पाकिस्तान के विदेश मंत्री शाह महमूद क़ुरैशी ने भी कहा है कि भारत में अल्पसंख्यकों को दोयम दर्जे का नागरिक बनाने की कोशिश की जा रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

रामलीला मैदान में आज पीएम मोदी की रैली

आज यानी 22 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैली है. इस रैली को दिल्ली में अगले महीने होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए बीजेपी के चुनावी कैंपेन का आग़ाज़ बताया जा रहा है.

इस रैली को लेकर रामलीला मैदान के आसपास सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई है. केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों ने रामलीला मैदान और क़रीब के इलाक़े को नो फ्लाई ज़ोन घोषित कर दिया है. सुरक्षा एजेंसियों को ख़ुफ़िया सूचना मिली है कि कुछ लोग पीएम की रैली को बाधित करने की कोशिश कर सकते हैं.

योगी के आदेश के बाद पुलिस ने शुरू की कार्रवाई

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यानाथ ने कहा था कि नए नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्तियों को नुक़सान पहुँचाने वालों को चिह्नित कर उनकी निजी संपत्ति जब्त की जाएगी.

योगी आदित्यानाथ की इस घोषणा के दो दिन बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने ऐसा करना शुरू कर दिया है. कई मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश में सीएए के ख़िलाफ़ जारी विरोध प्रदर्शन में अब तक 18 लोगों की मौत हो चुकी है. उत्तर प्रदेश के मुज़फ़्फ़रनगर में पुलिस ने 50 दुकानों पर ताले लगा दिए हैं. पुलिस का दावा है कि ये दुकानें उनकी हैं जो दंगे-फसाद में शामिल थे.

14 दिनों की पुलिस हिरासत में भेजे गए चंद्रशेखर आज़ाद

भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर आज़ाद को 14 दिनों के लिए पुलिस हिरासत में भेज दिया गया है. शुक्रवार को चंद्रशेखर आज़ाद नए नागरिकता क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन में जामा मस्जिद गए थे.

जामा मस्जिद में शुक्रवार को इसे लेकर एक बड़ा विरोध-प्रदर्शन हुआ था. तीस हज़ारी कोर्ट में शनिवार की शाम चंद्रशेखर को पेश किया गया था. कोर्ट ने उन्हें ज़मानत देने से इनकार कर दिया और उसके बाद उन्हें जेल भेज दिया गया.

चंद्रशेखर पर पुलिस ने आरोप लगाया है कि वो हज़ारों की भीड़ को हिंसा के लिए उकसा रहे थे. कोर्ट की कार्यवाही ऑन कैमरा हुई लेकिन मीडिया को भीतर नहीं जाने दिया गया.

ज़मानत ख़ारिज होने के बाद चंद्रशेखर ने मीडिया से कहा, ''पीएम मोदी को कम से कम इस मुद्दे पर बात करनी चाहिए. वो देश में विभाजनकारी नीति ला रहे हैं. मेरे ख़िलाफ़ एक भी सबूत नहीं है. देश जल रहा है और मोदी की चिंता केवल राजनीतिक रैलियों को लेकर है.''

इमेज कॉपीरइट AFP

अमरीका के ख़िलाफ़ जर्मनी और रूस साथ

जर्मनी और रूस ने अमरीका के उस क़दम की कड़ी आलोचना की है जिसमें उन्होंने रूस और जर्मनी के बीच बनने वाली विवादित गैस पाइपलाइन को रोकने की कोशिश की है.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इस पाइपलाइन को बनाने का काम संभाल रही फर्म पर प्रतिबंध लगा दिया है. इसके पीछे उन्होंने सुरक्षा कारणों का हवाला दिया है. लेकिन जर्मनी का कहना है कि ऐसे प्रतिबंध लगाकर अमरीका जर्मनी के आंतरिक मामलों में दखलअंदाज़ी कर रहा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार