अर्थव्यवस्था को एक और झटका, आरबीआई ने कहा एनपीए अभी और बढ़ेगा: पांच बड़ी ख़बरें

  • 28 दिसंबर 2019
रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया इमेज कॉपीरइट PTI

सरकारी बैंकों के एनपीए में अभी और वृद्धि होगी. रिज़र्व बैंक ऑफ़ इंडिया ने शुक्रवार को वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट जारी की. उसके अनुसार रियल्टी क्षेत्र को दिए गए कर्ज़ के मामले में एनपीए का अनुपात जून 2018 के 5.74 की तुलना में जून 2019 में 7.3 फ़ीसदी हो गया है.

सरकारी बैंकों को मामले में स्थिति और भी ख़राब है क्योंकि ऐसे कर्ज़ के मामले में उनका एनपीए 15 फ़ीसदी से बढ़कर 18.71 फ़ीसदी हो गया है.

रिपोर्ट के मुताबिक, 2016 में रियल्टी क्षेत्र से संबंधित लोन में एनपीए का अनुपात कुल बैंकिंग प्रणाली में 3.90 फ़ीसदी और सरकारी बैंकों में 7.06 फ़ीसदी था, जो 2017 में बढ़कर क्रमश: 4.38 और 9.67 फ़ीसदी पर पहुंच गया.

इसमें बताया गया है कि रियल्टी क्षेत्र को दिया गया कुल लोन लगभग दोगुना हो गया है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

क्या है भारतीयों की सबसे बड़ी चिंता?

फ़्रांस स्थित मार्केट रिसर्च कंपनी इप्सोस की एक रिपोर्ट के मुताबिक 46 फ़ीसदी शहरी भारतीयों में बेरोज़गारी का मुद्दा सबसे बड़ी चिंता है.

शुक्रवार को जारी इस रिपोर्ट वॉट वरीज़ द वर्ल्ड के मुताबिक अक्तूबर के मुक़ाबले नवंबर में तीन फ़ीसदी अधिक भारतीयों में यह चिंता बढ़ी है.

वहीं चरमपंथ को लेकर भी 45 फ़ीसदी लोगों ने अपनी चिंता जताई. इस रिपोर्ट के अनुसार भ्रष्टाचार, अपराध-हिंसा, ग़रीबी भी लोगों की मुख्य चिंता का विषय है.

'वॉट वरीज़ द वर्ल्ड' अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, बेल्जियम, ब्राजील, कनाडा, चिली, चीन, फ़्रांस, ब्रिटेन, जर्मनी, हंगरी, भारत, इजरायल, इटली, जापान, मलेशिया, मैक्सिको, पोलैंड, पेरू, रूस, सऊदी अरब, सर्बिया, दक्षिण अफ्रीका, दक्षिण कोरिया, स्पेन, स्वीडन, तुर्की और अमरीका में 65 वर्ष से कम आयु के वयस्कों के बीच किया जाने वाला एक मासिक ऑनलाइन सर्वेक्षण है.

ताज़ा सर्वे में 20 हज़ार लोगों ने हिस्सा लिया जिसे दुनिया के 28 देशों में इप्सोस ऑनलाइन पैनल के जरिए किया गया.

बेरोज़गारी को लेकर चिंताएं बढ़ने के बावजूद क़रीब 69 फ़ीसदी शहरी भारतीयों का मानना है कि भारत जिस दिशा में बढ़ रहा है, उसे लेकर वो आशावादी हैं.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

अमित शाह ने दिया राहुल गांधी को चैलेंज

नागरिकता संशोधन क़ानून को लेकर गृह मंत्री अमित शाह ने एक बार फिर राहुल गांधी पर तंज करते हुए सवाल पूछा है.

उन्होंने कहा कि कांग्रेस अफ़वाहें फैला रही है कि यह क़ानून अल्पसंख्यकों की नागरिकता छीन लेगा.

शाह ने कहा, "राहुल बाबा मैं आपको चैलेंज देता हूं कि इस क़ानून में एक भी जगह किसी की भी नागरिकता लेने का प्रावधान है तो दिखाइए."

इस दौरान अमित शाह ने मुलसमानों से अपील भी की. उन्होंने कहा, "देश के सभी मुसलमान भाई-बहनों से अपील है कि पहले खुद नागरिकता संशोधन अधिनियम को समझें और फिर दूसरों को भी समझाएं, नहीं तो झूठ और भ्रम फैलाने वाले राजनीतिक दल अपने वोट बैंक के स्वार्थ के लिए हमें आपस में यूँ ही लड़ाते रहेंगे."

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption राहुल, प्रियंका और सोनिया गांधी

कांग्रेस की संविधान बचाओ रैली

शनिवार को देश के अलग-अलग हिस्सों में कांग्रेस पार्टी 'संविधान बचाओ, भारत बचाओ' के संदेश के साथ फ्लैग मार्च निकालेगी.

देश की सबसे पुरानी राजनीतिक पार्टी अपने स्थापना दिवस पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन कर रही है.

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी दिल्ली में, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी असम में और पार्टी महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा उत्तर प्रदेश के कार्यक्रमों में शिरकत करेंगे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सीरियाः 15 दिनों में दो लाख से अधिक लोगों का इदलिब से पलायन

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट के मुताबिक सरकार की तरफ से विद्रोहियों पर की जा रही कार्रवाई के मद्देनज़र दिसंबर 12 से 25 के दरम्यान सीरिया के 2.35 लाख से अधिक लोग इदलिब छोड़ कर चले गए हैं.

गौरतलब है कि नवंबर के महीने से ही रूस समर्थित सीरियाई सरकार इदलिब पर गोले बरसा रही है.

संयुक्त राष्ट्र की इस रिपोर्ट के मुताबिक इन हमलों की वजह से मरात अल-नुमान जैसे कई इलाके पूरी तरह से खाली हो गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार