प्रियंका गांधी ने साधा निशाना: 'योगी जी ने भगवा धारण किया है, पर ये भगवा आपका नहीं है'

  • 30 दिसंबर 2019
प्रियंका गांधी इमेज कॉपीरइट ANI

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने उत्तर प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया है कि वो नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध कर रहे लोगों के ख़िलाफ़ बदला लेने के लिए कार्रवाई कर रही है और उनके ख़िलाफ़ गंभीर मामले दर्ज कर रही है.

प्रियंका गांधी ने साथ ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बदला वाले बयान को लेकर उन पर हमला बोलते हुए कहा कि उन्होंने योगी के कपड़े पहने हैं मगर उन्हें उसका मतलब नहीं पता.

उन्होंने कहा, "उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री जी ने योगी के वस्त्र धारण किए हैं, भगवा धारण किया है, मगर ये भगवा आपका नहीं है. ये भगवा हिन्दुस्तान की धार्मिक, आध्यात्मिक परंपरा का है. हिंदू धर्म का चिह्न है. उस धर्म को धारण करिए. उस धर्म में रंज, हिंसा और बदले की भावना की कोई जगह नहीं है."

उन्होंने महाभारत का उल्लेख करते हुए कि कहा कि इस देश की आत्मा में हिंसा, बदला, रंज इन चीज़ों की जगह नहीं है और जब श्रीकृष्ण ने अर्जुन को प्रवचन दिया तो बदले की बात नहीं की, रंज की बात नहीं की, उन्होंने उनमें करुणा और सत्य की भावना भरी.

प्रियंका गांधी ने कहा कि यूपी कांग्रेस समिति के एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल आनंदीबेन पटेल से मिलकर उन्हें दस्तावेज़ सौंपे हैं जिनमें तमाम ऐसी मिसालें हैं जो दिखातीं है कि मुख्यमंत्री जी ने जो बयान दिया कि वो बदला लेंगे, उस बयान पर प्रशासन और पुलिस कायम है.

कांग्रेस महासचिव ने कहा, "ये इतिहास में शायद पहली बार हुआ होगा जब किसी मुख्यमंत्री ने कहा है कि वो जनता के ख़िलाफ़ बदला लेगा."

उन्होंने आरोप लगाया कि मीडिया रिपोर्ट और सरकारी रिपोर्ट के अनुसार अब तक 5500 लोग हिरासत में लिए गए हैं और 1100 गिरफ़्तार किए गए हैं. मगर अनाधिकारिक तौर पर ये संख्या बहुत ज़्यादा है.

इमेज कॉपीरइट Reuters
Image caption प्रियंका गांधी ने दिसंबर में नागरिकता क़ानून को लेकर दिल्ली में भी प्रदर्शन किया था

चार माँगें

प्रियंका गांधी ने कहा कि उन्होंने राज्यपाल से मिलकर उनके सामने चार माँगें रखी हैं-

1 - यूपी सरकार का गृह विभाग और पुलिस डीजीपी तत्काल आदेश जारी कर पुलिस और सरकार द्वारा किए जा रहे हिंसात्मक, ग़ैर-क़ानूनी और आपराधिक कार्रवाई को तुरंत रोके.

2 - मौजूद हाईकोर्ट जज या सेवानिवृत्त हाईकोर्ट जज की निगरानी में शांतिपूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन कर रहे लोगों पर लगाए गए मुक़दमों की सत्यता की तत्काल जाँच का आदेश दिया जाए.

3 - न्यायिक प्रक्रिया पूरी किए बिना संपत्तियों को सील या ज़ब्त करने और अन्य दंडात्मक कार्रवाईयों पर तत्काल रोक लगाई जाए.

4 - शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन करने वाले छात्रों के ख़िलाफ़ किसी तरह की शैक्षणिक और क़ानूनी कार्रवाई नहीं की जाए.

हालांकि यूपी सरकार की ओर से उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा ने प्रियंका गांधी के आरोपों का जवाब दिया है, उन्होंने जवाब में कहा है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बदला लेने वाला बयान नहीं दिया है.

प्रियंका गांधी ने अपने प्रेस कांफ्रेंस में अपनी सुरक्षा के मुद्दे पर कहा कि उनके लिए अपनी सुरक्षा का मुद्दा बड़ा नहीं है, बल्कि उनके लिए प्रदेश के लोगों की समस्याएं बड़ा मुद्दा हैं.

हालांकि केंद्रीय गृह राज्य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने प्रियंका गांधी के सुरक्षा के मुद्दे पर कहा है कि सोनिया गांधी के परिवार के सदस्यों की आदत है कि वे सुरक्षा घेरे की परवाह नहीं करते हैं और सुरक्षा अधिकारियों को अपने कहीं आने जाने की जानकारी नहीं देते हैं.

वहीं केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद संजीव बालियान ने कहा है कि प्रियंका गांधी इसलिए प्रोटोकॉल का उल्लंघन करती हैं ताकि मीडिया उनको टेलीविजन पर दिखाए.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार