बेरोज़गारी और महंगाई का साल हो सकता है 2020- पाँच बड़ी ख़बरें.

  • 15 जनवरी 2020
बेरोज़गारी इमेज कॉपीरइट Getty Images

स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया रिसर्च की रिपोर्ट 'इकोरैप' के अनुसार, सब्ज़ियों की क़ीमत लगातार बढ़त की वजह से जनवरी महीने में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक (सीपीआई) पर आधारित महंगाई आठ फ़ीसदी से भी ऊपर जा सकती है.

सब्ज़ियों के दाम में लगातार बढ़त से खुदरा महंगाई की दर दिसंबर 2019 में 7.35 फ़ीसदी तक पहुंच गई थी.

पिछले पाँच वर्षों में यह खुदरा महंगाई का सबेस ऊंचा स्तर है और भारतीय रिज़र्व बैंक के मुताबिक़ यह सामान्य के स्तर से ऊपर जा चुकी है.

इसके अलावा रिपोर्ट के अनुसार मौजूदा वित्त वर्ष में नौकरियों में भारी गिरावट की आशंका है. 'इकोरैप के मुताबिक़' अर्थव्यवस्था में सुस्ती की वजह से देश में रोज़गार पर बहुत बुरा असर पड़ा है.

रिपोर्ट कहती है कि पिछले वित्त वर्ष 2018-19 के मुक़ाबले इस वित्त वर्ष 2019-20 में 16 लाख कम नौकरियां आने की आशंका हैं. पिछले वित्त वर्ष में रोज़गार के कुल 89.7 लाख नए मौक़े आए थे.

'इकौरेप' के मुताबिक़ असम, बिहार, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और ओडिशा जैसे राज्यों से मज़दूरी और नौकरी के लिए बाहर गए लोगों के घर वापस भेजे जाने वाले पैसों में भी कमी दर्ज की गई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

जम्मू-कश्मीर में 2जी मोबाइल इंटरनेट शुरू

जम्मू-कश्मीर सरकार ने कहा है कि जम्मू-कश्मीर के कुछ ज़िलों में 15 जनवरी से पोस्टपैड नंबरों पर 2जी मोबाइल इंटरनेट सेवा भी शुरू कर दी गई है. हालांकि मोबाइल इंटरनेट सेवा का इस्तेमाल कुछ तय वेबसाइट जैसे ई-बैंकिंग का इस्तेमाल करने के लिए ही किया जा सकेगा. इसकी शुरुआत जम्मू, सांबा, कठुआ, उधमपुर ज़िलों से होगी.

जम्मू और कश्मीर के बाक़ी ज़िलों में अगला निर्देश आने तक मोबाइल इंटरनेट सेवा बंद रहेगी.

इस सिलसिले में सरकार ने सभी इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर से कहा है कि वो बैंकिंग और अस्पताल जैसे संस्थानों को ब्रॉडबैंड और पोस्टपेड मोबाइल इंटरनेट सेवा दें ताकि होटल, यात्राएं और पर्यटन आसानी से चलते रहें.

इस फ़ैसले से कुछ दिनों पहले ही सुप्रीम कोर्ट ने जम्मू-कश्मीर प्रशासन से कहा था कि बिना किसी निर्धारित अवधि के या अनिश्चितकाल के लिए इंटरनेट बंद करना टेलिकॉम नियमों का उल्लंघन है.

सुप्रीम कोर्ट ने ये भी कहा था कि आज की तारीख़ में इंटरनेट अनुच्छेद 19(1) के तहत अभिव्यक्ति की आज़ादी का हिस्सा है.

पिछले साल पाँच अगस्त को केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर राज्य को संविधान के अनुच्छेद 370 के तहत मिलने वाले विशेष दर्जे को ख़त्म कर दिया था और साथ ही राज्य में कई तरह की पाबंदियां लगा दी थीं. जम्मू-कश्मीर में संचार माध्यमों, इंटरनेट पर और कई दूसरे प्रतिबंध जारी हैं.

ये भी पढ़ें: कश्मीर में इंटरनेट कर्फ़्यू के बीच पत्रकारिता कितनी मुश्किल

इमेज कॉपीरइट Getty Images

'विशेष सुविधा मिली इसलिए बढ़ी मुसलमानों की आबादी'

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा है कि मुसलमानों को विशेष अधिकार मिलने की वजह से भारत में उनकी आबादी बढ़ गई.

योगी आदित्यानथ ने मंगलवार को नागरिकता संशोधन क़ानून के समर्थन में आयोजित की गई एक रैली में कहा, "आज़ादी और बंटवारे के बाद भारत में मुसलमानों की आबादी सात-आठ गुना बढ़ गई है. इससे किसी को कोई आपत्ति नहीं है. अगर वो इस देश के नागरिक के तौर पर विकास के लिए काम करते हैं तो उनका स्वागत है."

योगी ने कहा, "उनकी आबादी इसलिए बढ़ गई क्योंकि उन्हें विशेष अधिकार और विशेष सुविधाएं दी गईं. उनकी प्रगति को सुनिश्चित करने के लिए हर संभव क़दम उठाए गए लेकिन पाकिस्तान में क्या हुआ?"

उन्होंने पूछा कि विभाजन के बाद पाकिस्तान में हिंदुओं की संख्या लगातार कम क्यों हो गई और किसी को क्यों नहीं मालूम है कि वो कहां गए?

ये भी पढ़ें: 'पाकिस्तान में हिंदुओं की आबादी घटी नहीं, बढ़ी है'

इमेज कॉपीरइट EPA

यूक्रेन यात्री विमान का वीडियो बनाने वाला गिरफ़्तार

ईरान ने कहा है कि इसने एक ऐसे शख़्स को गिरफ़्तार किया है जिसने यूक्रेन के उस यात्री विमान का वीडियो बनाया जब वो मिसाइल की ज़द में आकर गिर रहा था.

बताया जा रहा है कि गिरफ़्तार किए गए शख़्स को राष्ट्रीय सुरक्षा से सम्बन्धित आरोपों का सामना करना पड़ेगा.

ईरानी मीडिया की रिपोर्ट्स के अनुसार ईरान के रेवोल्यूशनरी गार्ड्स ने उस व्यक्ति को गिरफ़्तार किया है जिसने पिछले हफ़्ते मिसाइल की चपेट में आए यूक्रेन के यात्री विमान का वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया था.

ईरानी सेना ने यूक्रेनियन इंटरनेशनल एयरलाइंस के यात्री विमान बोइंग-737 फ़्लाइट को तेहरान के बाहरी इलाक़े में मार गिराया था. बाद में सेना ने यह स्वीकार किया कि उसने यात्री विमान को 'ग़लती से' मार गिराया था.

इस विमान में सवार सभी 176 लोगों की मौत हो गई थी.

ये भी पढ़ें: ईरानी सेना ने कैसे कर दी इतनी बड़ी ग़लती, मांगी माफ़ी

इमेज कॉपीरइट iStock

'अर्जुन के तीरों में परमाणु शक्ति थी'

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कहा है कि महाभारत के अर्जुन के तीरों में परमाणु शक्ति थी.

धनखड़ ने मंगलवार को कोलकाता में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा, "20वीं सदी नहीं बल्कि रामायण के दिनों से ही हमारे पास पुष्पक विमान था. संजय ने महाभारत का पूरा युद्ध धृतराष्ट्र को सुनाया लेकिन टीवी पर देख कर नहीं. महाभारत में अर्जुन के तीरों में परमाणु शक्ति थी."

अप्रैल, 2018 में त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब देब ने भी कुछ ऐसा ही बयान दिया था.

उन्होंने कहा था कि भारत में इंटरनेट का अविष्कार लाखों साल पहले ही हो चुका था.

बिप्लब देब ने कहा था, "ये देश वो देश है, जहां महाभारत में संजय ने बैठकर धृतराष्ट्र को युद्ध में क्या हो रहा था, बता रहे थे. इसका मतलब क्या है? उस ज़माने में टेक्नोलॉजी थी, इंटरनेट था और सैटेलाइट थे."

ये भी पढ़ें: कुरुक्षेत्र सर्जिकल स्ट्राइक पर हुई एक ब्रेनस्टॉर्म!

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार