कन्हैया कुमार की लोकप्रियता से चिंतित मोदी सरकार - प्रेस रिव्यू

  • 16 जनवरी 2020
कन्हैया कुमार इमेज कॉपीरइट Getty Images

जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय के पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष और युवा नेता कन्हैया कुमार की लोकप्रियता ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिंता में डाल दिया है.

यह दावा समाचार एजेंसी रॉयटर्स की एक रिपोर्ट में किया गया है.

रॉयटर्स ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक क़रीबी के हवाले से लिखा है कि युवाओं और पहली बार वोट देने जा रहे वोटरों के बीच कन्हैया कुमार की लोकप्रियता से मोदी सरकार चिंतित है.

रिपोर्ट में जानकारी देने वाले क़रीबी का नाम नहीं बताया गया है.

रॉयटर्स की इस रिपोर्ट के मुताबिक़, "केंद्र सरकार कन्हैया कुमार के व्यक्तिगत जीवन और उन्हें मिलने वाली फ़ंडिंग पर भी क़रीब से नज़र रख रही है."

समाचार एजेंसी ने लिखा है कि उसने इस बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय और गृह मंत्रालय से कई बार पूछताछ की लेकिन उसे कोई जवाब नहीं मिला.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पैसों की कमी से जूझ रही है भारतीय नौसेना

भारतीय नौसेना वित्तीय तंगहाली से जूझ रही है और बजट में कटौती की वजह से उसे रक्षा सौदों में कटौती करनी पड़ रही है.

इकोनॉमिक टाइम्स में प्रकाशित रिपोर्ट के अनुसार फ़ंड में कमी की वजह से नौसेना के जंगी हथियार ख़रीदने से सम्बन्धित सौदे प्रभावित हो रहे हैं.

पैसों की कमी की वजह से नौसेना कुछ हथियारों की संख्या घटा रही है और कुछ प्रोजेक्ट भी बंद कर रही है.

भारतीय नौसेना को मौजूदा बजट में 64,307 करोड़ रुपये की अनुमानित राशि के मुक़ाबले 41,259 करोड़ रुपये मिले थे.

अख़बार के मुताबिक़ नौसेना के अधिकारियों का कहना है कि यह रक़म उन्हीं ख़रीद सौदों को पूरा करने के लिए पर्याप्त नहीं है, जिन पर पहले से सहमति बनी हुई है.

ऐसे में नए सौदे करने, नए हथियार ख़रीदने या नए प्रोजेक्ट शुरू करने का सवाल ही नहीं उठता.

ये भी पढ़ें: शिवांगी सिंह: भारतीय नौसेना में पहली महिला पायलट

सुरक्षा परिषद में कश्मीर पर अलग-थलग पड़ा चीन

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद् के अंतरराष्ट्रीय मंच पर कश्मीर मुद्दे को लेकर चीन अलग-थलग पड़ गया.

हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, चीन और पाकिस्तान ने सुरक्षा परिषद की एक अनौपचारिक बैठक में कश्मीर का मसला उठाने की कोशिश की लेकिन उन्हें इस पर 'तीखी प्रतिक्रिया' झेलनी पड़ी.

सुरक्षा परिषद की बैठक में मौजूद दूसरे देशों के सदस्यों ने कहा कि यह मंच कश्मीर मुद्दे पर चर्चा के लिए माक़ूल नहीं है.

संयुक्त राष्ट्र में भारत के राजदूर सैय्यद अकबरुद्दीन ने इस बारे में एक ट्वीट भी किया है.

उन्होंने लिखा, "आज संयुक्त राष्ट्र में हमारा झंडा ऊंचा लहरा रहा है. जिन्होंने 'झूठे दावे' करने की कोशिश की, उन्हें हमारे बहुत से सहयोगियों ने कड़ा जवाब दिया.''

ये भी पढ़ें: कश्मीर पर चीन ने क्यों बदला अपना बयान

इमेज कॉपीरइट Zaira Wasim/Facebook

ज़ायरा वसीम यौन उत्पीड़न केस में सज़ा

युवा बॉलीवुड अभिनेत्री ज़ायरा वसीम के साथ फ़्लाइट में यौन उत्पीड़न के दोषी पाए गए शख़्स को तीन साल जेल की सज़ा सुनाई गई है. इस ख़बर को कई अख़बारों ने जगह दी है.

यौन उत्पीड़न के दोषी पाए गए 41 वर्षीय विकास सचदेवा को मुंबई की एक अदालत ने बुधवार को सज़ा सुनाई.

अदालत ने सचदेवा को पॉक्सो एक्ट की धाराओं के तहत दोषी ठहराया है. ये मामला 10 दिसंबर 2017 को सामने आया था जब ज़ायरा वसीम ने दिल्ली से मुंबई की यात्रा के दौरान यौन उत्पीड़न की शिकायत की थी.

ज़ायरा की उम्र स वक़्त 17 साल थी. उन्होंने घटना के बाद फ़्लाइट में ही एक वीडियो बनाकर उसे अपने सोशल मीडिया अकाउंट्स पर पोस्ट किया था.

फ़िल्म 'दंगल' से बॉलीवुड में क़दम रखने वाली ज़ायरा 'सीक्रेट सुपरस्टार' और 'द स्काई इज़ पिंक' जैसी फ़िल्मों में नामी सितारों के साथ काम कर चुकी हैं.

हालांकि कुछ समय पहले उन्होंने बॉलीवुड में काम न करने का एलान किया था.

ये भी पढ़ें: ज़ायरा छेड़खानी मामले में दर्ज हुई एफआईआर

इमेज कॉपीरइट youthgames.kheloindia.gov.in

आया की नौकरी से मेडल जीतने तक

टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने असम की लॉन बॉल खिलाड़ी जीनू गोगोई के अंडर-21 डबल्स इवेंट में कांस्य पदक जीतने की ख़बर को प्रमुखता से छापा है.

अख़बार के अनुसार तीन महीने पहले तक जीनू गोगोई एक बच्चे की आया के तौर पर नौकरी कर रही थीं. वे जिनके यहाँ नौकरी कर रही थीं, उन्होंने ही जीनू को खेल की ट्रेनिंग दिलवाई और इतने कम समय में जीनू ने यह कारनामा कर दिखाया.

ख़बर के अनुसार जीनू अपर असम से आती हैं. उनकी माँ चाय बागान में काम करती हैं.

बुधवार को खेलो इंडिया यूथ गेम्स में हुए अंडर-21 इवेंट में जीनू ने अपनी पार्टनर करीना पटवारी के साथ जीत हासिल की.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार