पश्चिम बंगाल बीजेपी अध्यक्ष बोले- 50 लाख मुसलमान घुसपैठियों की पहचान होगी : पांच बड़ी ख़बरें

  • 20 जनवरी 2020
मुस्लिम महिलाएं इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption प्रतीकात्मक तस्वीर

पश्चिम बंगाल में भारतीय जनता पार्टी के प्रमुख दिलीप घोष ने कहा है कि मुसलमान घुसपैठियों की पहचान की जाएगी और ज़रूरत पड़ने पर उन्हें भारत से बाहर खदेड़ दिया जाएगा.

24 परगना में रैली को संबोधित करते हुए राज्य बीजेपी प्रमुख दिलीप घोष ने कहा, ''50 लाख मुसलमान घुसपैठियों की पहचान की जाएगी और ज़रूरत हुई तो उन्हें देश से बाहर निकाल दिया जाएगा.''

दिलीप घोष ने आगे कहा, "पहले उनके नाम वोटर लिस्ट से हटाए जाएंगे, इसके बाद दीदी (मुख्यमंत्री ममता बनर्जी) तुष्टीकरण नहीं कर पाएंगी."

दिलीप घोष ने कहा, ''जो लोग सीएए का विरोध कर रहे हैं, वो या तो भारत विरोधी है या बंगाली विरोधी हैं. तभी तो ये लोग हिंदू शरणार्थियों को नागरिकता देने का विरोध कर रहे हैं.''

'गंदी फिल्में' देखने वाले बयान पर माफ़ी

नीति आयोग के सदस्य वीके सारस्वत को अपने उस बयान के लिए माफ़ी मांगनी पड़ी है जिसमें उन्होंने कहा था कि 'जम्मू कश्मीर के लोग ऑनलाइन गंदी फिल्में देखने के अलावा कुछ नहीं करते.'

वीके सारस्वत ने ये भी कहा था कि जम्मू कश्मीर में इंटरनेट बंद रहने से देश की अर्थव्यवस्था पर कोई असर नहीं पड़ा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

इस बयान पर विवाद के बाद वीके सारस्वत ने कहा है कि उनके बयान को गलत संदर्भ में लिया गया है और यदि इससे किसी की भावनाएं आहत होती हैं तो वो इसके लिए माफ़ी मांगते हैं.

सीपीएम महासचिव सीताराम येचुरी ने इस पर कहा है कि वीके सारस्वत को भारत का संविधान पढ़कर ख़ुद को अपडेट करने की ज़रूरत है.

कश्मीर चैम्बर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री ने वीके सारस्वत की भर्त्सना करते हुए उन्हें पद से हटाने की मांग की है.

वीके सारस्वत नीति आयोग के सदस्य बनने से पहले रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) के प्रमुख रह चुके हैं.

यमन: मिसाइल हमले में कम से कम 80 सैनिकों की मौत

यमन में एक आर्मी ट्रेनिंग कैंप पर किए गए मिसाइल हमले में कम से कम 80 सैनिक मारे गए हैं.

अधिकारियों का कहना है कि मारीब प्रांत में शनिवार को हुए इस हमले में बड़ी संख्या में सैनिक घायल भी हुए हैं.

सैन्य सूत्रों ने समाचार एजेंसी रॉयटर्स को बताया कि राजधानी सना से लगभग 170 किलोमीटर दूर एक मस्जिद को उस समय निशाना बनाया गया जब लोग नमाज के लिए पहुंचे थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

यमन की सरकार ने इस हमले के लिए हूथी विद्रोहियों को ज़िम्मेदार बताया है. लेकिन किसी गुट ने अभी तक इस हमले की ज़िम्मेदारी नहीं ली है.

अधिकारियों का कहना है कि हमले में मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका है.

पिछले साल अगस्त में भी हूथी विद्रोहियों ने अदन शहर में सैन्य परेड के दौरान मिसाइल हमला किया था जिसमें कम से कम 32 लोग मारे गए थे.

उदार लोकतांत्रिक संस्थाओं को मज़बूत करना होगा: मनमोहन

नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) पर जारी विरोध प्रदर्शनों के बीच पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने भारत में उदार लोकतांत्रिक संस्थाओं को मज़बूत करने पर ज़ोर दिया है.

उन्होंने साथ ही ये भी कहा कि संविधान को बचाने के लिए इन संस्थाओं को आगे आकर अपनी पूरी ताक़त लगानी चाहिए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक, पूर्व केंद्रीय मंत्री अश्विनी कुमार की किताब के विमोचन के मौके पर दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में पूर्व प्रधानमंत्री डॉक्टर मनमोहन सिंह ने कहा कि युवाओं ने हाल के दिनों में देश को ये याद दिलाया है कि स्वतंत्रता जागृत नागरिकों के हाथ में सुरक्षित रहती है.

उन्होंने कहा कि भारत में जब-जब बुनियादी आज़ादी पर ख़तरा मंडराया, तब-तब उदार लोकतांत्रिक संस्थाओं के लिए परीक्षा की घड़ी आई.

पूर्व प्रधानमंत्री का ये बयान ऐसे समय आया है जब नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) पर ना केवल भारत के अलग-अलग हिस्सों में प्रदर्शन हो रहे हैं, बल्कि केरल जैसे राज्य ने इसके खिलाफ़ सुप्रीम कोर्ट का दरवाज़ा भी खटखटाया है.

पराग्वे की जेल से 75 क़ैदी फ़रार

पराग्वे में अधिकारियों का कहना है कि ब्राज़ील की सीमा के निकट एक जेल से 75 क़ैदी फ़रार हो गए हैं.

अधिकारियों की आशंका जताई है कि जेल के गार्ड्स ने ही मुख्य द्वार से भागने में इन क़ैदियों की मदद की होगी.

जेल में खोदी गई एक सुरंग भी मिली है, लेकिन अधिकारियों का कहना है कि सुरंग तो बस दिखाने के लिए खोदी गई है.

इमेज कॉपीरइट PARAGUAY'S ABC COLOR
Image caption जेल में खोदी गई एक सुरंग

जेल से फ़रार हुए अधिकतर क़ैदियों का संबंध ब्राज़ील के सबसे बड़े संगठित आपराधिक गिरोह से है.

साओ पाउलो स्थित इस गिरोह के सदस्यों की संख्या लगभग 30 हज़ार है जो मादक पदार्थों और हथियारों की तस्करी करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार