शाहीन बाग़ प्रदर्शनकारियों का एक दल मिला दिल्ली के एलजी से

  • 21 जनवरी 2020
इमेज कॉपीरइट DELHILGTWITTER

शाहीन बाग़ प्रदर्शनकारियों के एक प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार शाम दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाक़ात की. इसकी जानकारी उपराज्यपाल ने ख़ुद ट्वीट कर दी.

उन्होंने लिखा, ''शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों के प्रतिनिधिमंडल से मुलाक़ात हुई, जिसमें उनकी चिंताओं को संबंधित अधिकारियों के सामने रखने का आश्वासन दिया गया. इसके साथ ही रास्तों के बंद होने के कारण स्थानीय लोगों को हो रही परेशानी को देखते हुए उनसे अपने आंदोलन को वापस लेने की अपील की गई.''

मुलाक़ात के बाद प्रदर्शनकारियों ने कहा कि वो स्कूली बसों को रास्ता देंगे लेकिन उनका प्रदर्शन फ़िलहाल जारी रहेगा.

ग़ौरतलब है कि नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीन बाग़ में हज़ारों लोग पिछले 15 दिसंबर से 24 घंटे धरने पर बैठे हैं. प्रदर्शनकारियों का कहना है कि जब तक सरकार सीएए को वापस नहीं ले लेती तब तक उनका विरोध प्रदर्शन जारी रहेगा.

इमेज कॉपीरइट DELHILGTWITTER

उधर मंगलवार को ही केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने एक बार फिर कहा कि ये प्रदर्शन विपक्षी दलों के ज़रिए प्रायोजित है और विपक्ष चाहे जो कुछ कर ले सरकार ये क़ानून वापस नहीं लेगी.

अब सबकी निगाहें सुप्रीम कोर्ट पर टिकी हैं जो बुधवार को इस क़ानून को चुनौती देने वाली दर्जनों याचिकाओं पर अपना फ़ैसला सुनाएगी.

ऊबर ईट्स (Uber Eats) ने ज़ोमैटो को बेचा भारत का कारोबार

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ऊबर ईट्स ने भारत में अपनी फ़ूड डिलीवरी सर्विस को अपनी निकटतम प्रतिद्वंद्वी ज़ोमैटो को बेचने की घोषणा की है. हालांकि, इस सेक्टर में अपनी उपस्थिति बनाए रखने के लिए कंपनी 9.99 प्रतिशत शेयर अपने पास ही रखेगी.

अब अगर आप ऊबर ईट्स ऐप पर जाकर कोई फ़ूड ऑर्डर करेंगे तो यह ऑर्डर ज़ोमैटो को पहुंच जाएगा.

ज़ोमैटो भारत में 500 से ज़्यादा शहरों में सक्रिय है और कंपनी को पूरा यक़ीन है कि इससे ज़ोमैटो की स्थिति और बेहतर होगी. अभी ज़ोमैटो का मुख्य मुक़ाबला स्विगी से है.

ज़ोमैटो के फ़ाउंडर और सीईओ दीपिंदर गोयल ने ऊबर ईट्स के अधिग्रहण के बाद कहा, "हमें भारत में एक प्रमुख खाद्य वितरण व्यवसायी बनने पर गर्व है. यह अधिग्रहण हमारी स्थिति को और अधिक मज़बूत करता है."

इमेज कॉपीरइट twitter.com/amitmalviya

नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ दिल्ली के शाहीन बाग़ में चल रहे महिलाओं ने बीजेपी की आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय को एक करोड़ रुपये का नोटिस भेजा है.

यह नोटिस शाहीन बाग़ की दो महिलाओं की तरफ़ से भेजा गया है. नोटिस में मालवीय से माफ़ी मांगने और एक करोड़ रुपये हर्जाना देने की मांग की गई है.

शाहीन बाग़ की मुस्लिम महिलाएं पिछले एक महीने से नागरिकता संशोधन क़ानून (सीएए) के ख़िलाफ़ धरना प्रदर्शन कर रही हैं. इन महिलाओं के ख़िलाफ़ पिछले दिनों अमित मालवीय ने एक वीडियो शेयर किया था जिसमें कहा जा रहा है कि महिलाएं पैसे लेकर धरना प्रदर्शन में शामिल हो रही हैं.

केजरीवाल के ख़िलाफ़ बीजेपी ने किसे दिया टिकट?

इमेज कॉपीरइट AAM AADMI PARTY

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के ख़िलाफ़ भारतीय जनता पार्टी ने अपने उम्मीदवार की घोषणा कर दी है. पार्टी ने भारतीय जनता युवा मोर्चा दिल्ली के अध्यक्ष सुनील यादव को नई दिल्ली सीट से टिकट दिया है.

सुनील की वेबसाइट पर दावा किया गया है कि वह पेशे से तो वक़ील हैं लेकिन समाजिक कार्यों में भी रुचि रखते हैं. उन्होंने अपना राजनीतिक करियर युवा मोर्चा के मंडल अध्यक्ष के तौर पर शुरू किया था.

इमेज कॉपीरइट www.sunilyadav.co.in

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा को भी मिला टिकट

भारतीय जनता पार्टी ने दिल्ली विधानसभा चुनावों के लिए देर रात दस उम्मीदवारों की सूची जारी की जिसमें एक नाम तेजिंदर पाल सिंह बग्गा का भी है. बग्गा को हरिनगर विधानसभा सीट से उम्मीदवार बनाया गया है.

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा का मुक़ाबला आम आदमी पार्टी की राजकुमारी ढिल्लों से होगा. इस सीट पर कांग्रेस की तरफ़ सुरेंद्र सेठी मैदान में हैं.

तेजिंदर पाल सिंह बग्गा ने क़रीब सात घंटे पहले हरिनगर से अपनी उम्मीदवारी की पुष्टि करते हुए एक ट्वीट भी किया.

ऐसा माना जा रहा है कि बग्गा को बीजेपी-अकाली के बीच सीएए को लेकर पैदा हुए गतिरोध का फ़ायदा मिला है. अकाली दल ने दिल्ली विधानसभा चुनाव न लड़ने का फ़ैसला किया है, ऐसे में बीजेपी इस बार अकेले ही चुनावी मैदान में है.

इमेज कॉपीरइट BJP/SocialMedia
Image caption बीजेपी की नई लिस्ट

बीजेपी इससे पहले 57 लोगों के नाम की लिस्ट पहले ही जारी कर चुकी है.

एएनआई की ख़बर के मुताबिक़, बीजेपी ने अपनी पहली सूची 17 जनवरी को जारी की थी. पहली सूची के 57 में से 20 नए चेहरे हैं. जिनमें से चार महिलाएं हैं और 11 दलित समुदाय से आते हैं.

दिल्‍ली विधानसभा चुनाव के लिए नामांकन पत्र दाख़िल करने की आज अंतिम तारीख़ है. नामांकन पत्रों की जांच कल की जाएगी और शुक्रवार तक नाम वापस लिए जा सकते हैं.

दिल्‍ली में लगभग एक करोड़ 47 लाख मतदाता हैं. विधानसभा की 70 सीटों के लिए मतदान अगले महीने की आठ तारीख़ को होगा और मतगणना 11 फरवरी को होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए यहां क्लिक करें. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर भी फ़ॉलो कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार