यौन उत्पीड़न के मामले में स्वामी चिन्मयानंद ज़मानत पर बाहर आए

स्वामी चिन्मयानंद

इमेज स्रोत, facebook

यौन उत्पीड़न के मामले में अभियुक्त पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को ज़मानत पर शाहजहांपुर की जेल से रिहा कर दिया गया है.

पूर्व केंद्रीय मंत्री स्वामी चिन्मयानंद को क़ानून की छात्रा का कथित यौन शोषण करने के मामले में सोमवार को ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ज़मानत दी थी.

यौन शोषण का आरोप लगाने वाली लड़की चिन्मयानंद के ही शाहजहांपुर के एसएस लॉ कॉलेज की छात्रा थी.

सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के बाद एक विशेष जांच टीम (एसआईटी) इस मामले की जांच कर रही थी और पिछले साल सितंबर में चिन्मयानंद को गिरफ़्तार किया था.

इसके बाद बीजेपी ने कहा था कि चिन्मयानंद पार्टी में नहीं है. एसआईटी ने नवंबर में दो मामलों में चार्जशीट दाख़िल की थी.

पहली चार्जशीट छात्रा के साथ यौन शोषण के मामले में पूर्व केंद्रीय मंत्री के ख़िलाफ़ और दूसरी चार्जशीट आरोप लगाने वाली छात्रा के ख़िलाफ़ दाख़िल की गई थी.

छात्रा को कथित जबरन उगाही के मामले में गिरफ़्तार किया गया था और दिसंबर में उसे ज़मानत दे दी गई थी.

'शाहीन बाग़ का हमलावर 'आप' का है तो दोगुनी सज़ा दीजिए'

इमेज स्रोत, Getty Images

दिल्ली के मुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल ने शाहीन बाग़ में गोली चलाने वाले व्यक्ति के बारे में कहा है कि अगर उसके संबंध पार्टी से जुड़े होने के सबूत मिलते हैं तो उसे दोगुनी सज़ा दी जाए.

बुधवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर उन्होंने कहा कि दिल्ली की सुरक्षा के मामले में समझौता नहीं किया जाना चाहिए.

उन्होंने कहा कि पुलिस को सामने कर हमलावर को आम आदमी पार्टी से जुड़ा बताया जा रहा है लेकिन इसकी जांच पार्टी नहीं करेगी.

मुख्यमंत्री ने कहा, "दिल्ली में क़ानून व्यवस्था से खिलवाड़ करने वालों को सज़ा ज़रूर होनी चाहिए और अगर ये व्यक्ति आम आदमी पार्टी से जुड़ा पाया जाता है तो उसे दोगुनी सज़ा दीजिए."

साथ ही उन्होंने अमित शाह को चुनौती दी और कहा कि वो बहस के लिए सामने आएं.

अरविंद केजरीवाल ने कहा कि बीजेपी ने अब तक दिल्ली के लिए सीएम पद के उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की है और ये जनता के साथ धोखा है.

उन्होंने कहा, "अमित शाह ने कहा है कि सीएम का चुनाव वो करेंगे, ऐसे में मैं उन्हें खुले मैदान में बहस करने की चुनौती देता हूँ. अमित शाह खुद आएं, कोई कार्यकर्ता ना भेजें, कार्यकर्ता के नाम पर खुद मैदान छोड़कर ना भागें."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)