निर्भया गैंगरेप: विनय शर्मा की दया याचिका सुप्रीम कोर्ट में ख़ारिज

  • 14 फरवरी 2020
निर्भया गैंगरेप इमेज कॉपीरइट PTI

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को 2012 में निर्भया गैंगरेप के दोषियों में से एक विनय शर्मा की दया याचिका ख़ारिज कर दी है.

विनय शर्मा को फांसी की सज़ा मिली हुई है. शर्मा ने सुप्रीम कोर्ट में दावा किया था कि राष्ट्रपति ने उसकी अस्थिर मानसिक स्थिति पर विचार नहीं किया.

शर्मा का कहना है कि जेल में उसे प्रताड़ना मिली है इसलिए वो मानसिक रूप से अस्थिर है. हालांकि शर्मा के इन दावों को ख़ारिज कर दिया गया है. विनय शर्मा ने फांसी से बचने की कई कोशिशें कीं लेकिन अब तक सारी कोशिश बेकार हो गई है. विनय शर्मा के अलावा तीन अन्य लोगों को निर्भया गैंगरेप में फांसी की सज़ा मिली हुई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पुलवामा हमले के एक साल पूरे होने पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने ट्वीट कर तीन साल सवाल पूछे हैं.

उन्होंने ट्वीट में लिखा है, "आज जब हम पुलवामा हमले में शहीद हुए 40 सीआरपीएफ़ जवानों को याद कर रहे हैं तो हमें ये पूछने दो."

इसके बाद पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने तीन सवाल पूछे हैं. पहला सवाल है कि हमले से किसको सबसे अधिक लाभ हुआ?

राहुल गांधी का दूसरा सवाल हमले की जाँच को लेकर है. उनका सवाल है हमले की जाँच से क्या पता चला है?

कांग्रेस नेता का तीसरा सवाल बीजेपी सरकार की जवाबदेही पर है. उन्होंने पूछा है कि सुरक्षा में चूक के लिए बीजेपी सरकार में कौन ज़िम्मेदार है.

वहीं, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी पुलवामा हमले को लेकर ट्वीट किया है. उन्होंने हमले में मारे गए जवानों को श्रद्धांजलि दी है.

उन्होंने ट्वीट किया है, "पिछले साल भीषण पुलवामा हमले में शहीद हुए बहादुर जवानों को श्रद्धांजलि. वे असाधारण व्यक्ति थे जिन्होंने हमारे राष्ट्र की सेवा और रक्षा के लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया. भारत उनकी शहादत को कभी नहीं भूलेगा."

भारत प्रशासित कश्मीर में 14 फ़रवरी 2019 को हुए आत्मघाती हमले में 40 सीआरपीएफ़ जवानों की मौत हुई थी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार