अर्दोआन के कश्मीर वाले बयान पर भारत नाराज़

  • 17 फरवरी 2020
इमेज कॉपीरइट Getty Images

तुर्की के राष्ट्रपति रेचेप तैय्यप अर्दोआन के भारत प्रशासित कश्मीर पर दिए बयान पर भारत ने कड़ी नाराज़गी जताई है.

समाचार एजेंसी पीटीआई के अनुसार भारत ने सोमवार को तुर्की अधिकारियों को डिमार्श जारी किया. जब कोई देश किसी दूसरे देश से अपनी नाराज़गी ज़ाहिर करता है तो इसे राजनयिक भाषा में डिमार्श कहा जाता है.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा कि अर्दोआन के बयान से पता चलता है कि उन्हें न तो इतिहास की जानकारी है और न ही राजनयिक मर्यादा की कोई समझ है.

विदेश मंत्रालय के अनुसार तुर्की के राष्ट्रपति का बयान वर्तमान की संकुचित मानसिकता को बढ़ावा देने के लिए पिछली घटनाओं को तोड़-मरोड़ कर पेश करना है.

शुक्रवार को पाकिस्तानी संसद को संबोधित करते हुए अर्दोआन ने कहा था, ''हमारे कश्मीरी भाई और बहन दशकों से पीड़ित हैं. हम एक बार फिर से कश्मीर पर पाकिस्तान के साथ हैं. हमने इस मुद्दे को संयुक्त राष्ट्र की आम सभा में उठाया था. कश्मीर का मुद्दा जंग से नहीं सुलझाया जा सकता. इसे इंसाफ़ और निष्पक्षता से सुलझाया जा सकता है. इस तरह का समाधान ही सबके हक़ में है. तुर्की इंसाफ़, शांति और संवाद का समर्थन करता रहेगा.''

जब अर्दोआन ने कश्मीर पर बोलना शुरू किया तो पाकिस्तानी संसद तालियों से गूंज गई. पाकिस्तानी सांसद संसद में देर तक टेबल थपथपाते रहे. अर्दोआन ने कहा कि वो कश्मीरियों को कभी नहीं भूल सकते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए