जामिया हिंसा में शरजील इमाम समेत 17 पर आरोप तय - प्रेस रिव्यू

  • 19 फरवरी 2020
शरजील इमाम इमेज कॉपीरइट FACEBOOK/SHARJEEL IMAM

दिल्ली के जामिया और न्यू फ़्रेंड्स कॉलोनी में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिंसा के मामले में दिल्ली पुलिस ने अदालत में चार्जशीट दाख़िल कर दी है.

दिल्ली पुलिस ने जेएनयू के छात्र शरजील इमाम समेत 17 लोगों को नामजद किया है. द हिंदू की ख़बर के अनुसार, 13 फ़रवरी को पेश आरोपपत्र में शरजील पर हिंसा भड़काने का आरोप लगाया गया है.

साकेत स्थित चीफ़ मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट गुरमोहन कौर के सामने दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच ने चार्जशीट दाख़िल की.

पुलिस ने कहा है कि शरजील इमाम के भड़काऊ भाषण के बाद जामिया इलाके में हिंसा भड़की थी. इस चार्जशीट में नामज़द लोगों में कोई भी जामिया का छात्र नहीं है.

आरोप पत्र में जिन लोगों ने नाम शामिल हैं, वे स्थानीय निवासी हैं.

जामिया-न्यू फ्रेंड्स कॉलोनी में हुई हिंसा के मामले में दिल्ली की साकेत कोर्ट ने मंगलवार को शरजील इमाम को 3 मार्च तक के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया था.

एम्स में दो ब्रेन डेड के अंगों से बची सात ज़िंदगियां

इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली के एम्स में 48 घंटे के अंदर ब्रेन डेड क़रार दिए गए दो लोगों के अंगदान से सात लोगों को नया जीवन मिला.

हिन्दुस्तान टाइम्स ने इस रिपोर्ट को चौथे पन्ने पर प्रमुखता से छापा है. अख़बार के अनुसार इनसे दो मरीज़ों के लिवर, चार की किडनी और एक मरीज का दिल ट्रांसप्लांट किया गया. एम्स के डॉक्टरों ने दोनों लिवर, दो किडनी और दिल का ट्रांसप्लांट किया. दो किडनी आरएमएल अस्पताल में भेजी गई. यहां भी दो मरीज़ों की किडनी ट्रांसप्लांट की गई.

अख़बार के अनुसार इसके अलावा अंगदान में मिले चारों कॉर्निया, चार हार्ट वाल्व और हड्डियां सुरक्षित टिश्यू बैंक में रखी गई हैं. एम्स के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया ने दोनों डोनर के परिवारों की तारीफ़ की है. एम्स के अनुसार 26 साल के सचिन नामक युवक को 13 फ़रवरी को एम्स ट्रॉमा सेंटर में भर्ती किया गया था. सचिन उत्तर प्रदेश के कासगंज के रहने वाले थे. वो दिहाड़ी मज़दूर थे. दूसरी मंजिल से गिरने के कारण उन्हें गंभीर चोट लगी थी.

15 फ़रवरी को उन्हें डॉक्टरों ने ब्रेन डेड घोषित कर दिया था. एम्स के ऑर्गेन रीटिवल बैंकिंग ऑर्गेनाइजेशन की प्रभारी डॉ. आरती विज ने कहा कि काउंसलिंग के बाद परिजनों ने अंगदान की स्वीकृति दी थी. इसके बाद देर रात को दिल, लिवर, किडनी और दोनों कॉर्निया डोनेशन की प्रक्रिया पूरी हुई थी.

दिल 21 साल के एक युवक को प्रत्यारोपित किया गया. वहीं एम्स में लिवर 43 वर्षीय पुरुष मरीज़ को और एक किडनी 30 वर्षीय युवती को प्रत्यारोपित की गई. वहीं दूसरी किडनी आरएमएल में 34 वर्षीय युवक को प्रत्यारोपित की गई.

अख़बार के अनुसार 17 फरवरी की रात 61 साल के अनिल मित्तल ने भी अंगदान किया. उनका परिवार अंगदान के प्रति जागरूक है. अनिल ने भी दधीचि देहदान समिति में अंगदान के लिए पंजीकरण कराया था. इसलिए उनके ब्रेन डेड होने पर परिवार के लोगों ने उनका हृदय, फेफड़ा, लिवर, दोनों किडनी, कॉर्निया और हड्डी दान की स्वीकृति दी. हालांकि हृदय और फेफड़ा ट्रांसप्लांट के लिए योग्य नहीं पाया गया. इसलिए लिवर और एक किडनी दो मरीज़ों को एम्स में प्रत्यारोपित किए गए.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

पीरियड्स को लेकर गुजरात के धर्मगुरु का विवादित बयान

दैनिक जागरण की एक रिपोर्ट के अनुसार पीरियड्स को लेकर गुजरात के एक धर्मगुरु ने विवादित बयान दिए हैं. उन्होंने कहा है कि पीरियड्स के दौरान पति के लिए खाना पकाने वाली महिला का पुनर्जन्म कुत्ते के रूप में होगा जबकि उसका बनाया खाना खाने वाला पति अगले जन्म में बैल के रूप में पैदा लेगा.

जिस स्वामी कृष्णस्वरूप दासजी ने यह टिप्पणी की है, वह स्वामीनारायण मंदिर के 'नर-नारायण देवगड़ी' पंथ से जुड़े हैं. स्वामीनारायण मंदिर ही भुज में श्री सहजानंद गर्ल्स इंस्टिट्यूट (एसएसजीआइ) चलाता है, जिसकी प्रिंसिपल और महिला कर्मचारियों ने 11 फ़रवरी को यह जांच करने के लिए 60 छात्राओं के कपड़े उतरवा दिए थे कि कहीं वो पीरियड्स में तो नहीं हैं.

कॉलेज के हॉस्टल के मेस में पीरियड्स वाली छात्राओं को दूसरी छात्राओं के साथ बैठकर खाना नहीं खाने दिया जाता है.

स्वामी कृष्णस्वरूप ने कहा कि यह निश्चित है कि जो पुरुष पीरियड्स वाली महिलाओं के हाथ का पका हुआ खाना खाता है, उसका बैल के रूप में पुनर्जन्म होगा. उन्होंने यहां तक कह दिया, 'मुझे इसकी परवाह नहीं है कि आपको मेरे विचार पसंद हैं या नहीं लेकिन हमारे शास्त्रों ने यह सब लिखा हुआ है. अगर कोई महिला पीरियड्स के दौरान अपने पति के लिए खाना पकाती है तो निश्चित रूप से अगले जन्म में वह कुत्ते के रूप में पैदा होगी.'

स्वामी कृष्णस्वरूप के इस प्रवचन का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया है. हालांकि, यह वीडियो कब का और कहां का है यह स्पष्ट नहीं पाया है.

इमेज कॉपीरइट @YOURBABULAL

मरांडी झारखंड में बीजेपी विधायक दल के नेता बनेंगे?

झारखंड चुनाव के तीन महीने बाद भी बीजेपी ने विधायक दल का नेता नहीं चुना था. हिन्दुस्तान अख़बार की रिपोर्ट के अनुसार पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी का बीजेपी विधायक दल का नेता बनना तय है.

17 फ़रवरी को बाबूलाल मरांडी की पार्टी झारखंड विकास मोर्चा का बीजेपी में विलय हो गया था. अख़बार के अनुसार बीजेपी के राष्ट्रीय नेतृत्व ने विधायक दल के नेता के चयन के लिए मंगलवार को मुरलीधर राव को पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. राव इसी हफ़्ते झारखंड आएंगे.

उनकी मौजूदगी में पार्टी विधायकों की बैठक होगी और मरांडी के नाम की घोषणा की जाएगी. झारखंड विधानसभा चुनाव में बीजेपी के 25 प्रत्याशी जीते थे लेकिन मरांडी के आने से अब बीजेपी के कुल 26 विधायक हो गए हैं.

अमिताभ से अमर सिंह की माफ़ी

अमिताभ बच्चन से अमर सिंह की माफ़ी की ख़बर आज कई अख़बारों में छपी है. हिन्दुस्तान, अमर उजाला और दैनिक जागरण में भी यह ख़बर छपी है.

इन अख़बारों की रिपोर्ट के अनुसार अभिनेता अमिताभ बच्चन और उनके परिवार के ख़िलाफ़ बयानबाजी के लिए समाजवादी पार्टी के पूर्व महासचिव अमर सिंह ने मंगलवार को सोशल मीडिया पर खेद जताया है.

अमर सिंह के बच्चन परिवार के साथ क़रीबी संबंध रहे हैं. कुछ साल पहले दोनों के संबंधों में दरार आ गई थी. अमिताभ बच्चन ने कभी सार्वजनिक रूप से अमर सिंह के ख़िलाफ़ कोई बयान नहीं दिया, लेकिन अमर सिंह उनके ख़िलाफ़ बयानबाजी करते रहे हैं.

अमर सिंह ने तो यहां तक कह दिया था कि अमिताभ ने उनके साथ दोस्ती ख़त्म की है और अमिताभ-जया अलग-अलग रह रहे हैं. अमर सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ''आज मेरे पिता की पुण्यतिथि है और मेरे पास अमिताभ बच्चन जी का एक मैसेज आया है. जीवन की इस अवस्था में जब मैं ज़िंदगी और मौत से जूझ रहा हूं तब अमित जी और उनके परिवार के ख़िलाफ़ बड़बोलेपन के लिए खेद जताता हूं. ईश्वर पूरे परिवार को ख़ुश रखे.''

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार