शाहीन बाग़ पर बोले आरिफ़ मोहम्मद ख़ान: ...'ये आतंकवाद का दूसरा रूप है'- पांच बड़ी ख़बरें.

  • 22 फरवरी 2020
आरिफ़ मोहम्मद ख़ान इमेज कॉपीरइट Getty Images

केरल के राज्यपाल आरिफ़ मोहम्मद ख़ान ने कहा कि लोकतंत्र में असहमति का स्थान है लेकिन अगर विज्ञान भवन के बाहर जब पांच लोग बैठ जाएं और कहने लग जाएं कि हम यहां से तब तक नहीं हटेंगे, जब तक कि यह छात्र संसद एक संकल्प नहीं ले ले जिसे हम अपनाना चाहते हैं तो यह आतंकवाद का दूसरा रूप है.

शाहीन बाग़ में हो रहे प्रदर्शनों का ज़िक्र करते हुए उन्होंने कहा कि सड़कों पर बैठे लोगों की वजह से जनजीवन प्रभावित हो रहा है और अपने विचार को दूसरों पर थोपना आतंकवाद का दूसरा रूप है.

आरिफ़ मोहम्मद ख़ान ने नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे लोगों की आलोचना की.

उन्होंने कहा, ''आक्रामकता सिर्फ़ हिंसा के रूप में नहीं आती है. यह कई अन्य रूपों में भी आती है. जैसे, अगर आप मेरी बात नहीं मानेंगे तो मैं सामान्य जीवन को बाधित कर दूंगा.''

भारत सरकार के नागरिकता संशोधन क़ानून का देश के अलग-अलग हिस्सों में विरोध हो रहा हैं. हालांकि केंद्र सरकार ने कहा है कि इस क़ानून को किसी भी स्थिति में वापस नहीं लिया जाएगा.

ये भी पढ़ें: शाहीन बाग़ हो या जामिया, गोली चलाने वाले आते कहां से हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टुकड़े-टुकड़े गैंग ग़लतफ़हमी में न रहें: मोहन भागवत

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा है कि लोगों को 'टुकड़े-टुकड़े गैंग' से डरने की ज़रूरत नहीं है.

उन्होंने शुक्रवार को रांची के एक कार्यक्रम में कहा, "टुकड़े-टुकड़े गैंग ग़लतफ़हमी में न रहे. यह देश टूटेगा नहीं. यहां के रहने वाले सभी लोग हिंदू हैं और ये डीएनए से भी सिद्ध हो चुका है. भारत से जब कोई विदेश जाता है तो उसे हिंदू ही कहा जाता है. जैसे जापान के लोग जापानी, अमरीका के लोग अमरीकी और पाकिस्तान के लोग पाकिस्तानी हैं, वैसे ही हिंदुस्तान के लोग हिंदू हैं."

मोहन भागवत ने कहा कि संघ का कोई राजनीतिक एजेंडा नहीं है और यह सत्य पर आधारित संगठन है.

उन्होंने कहा, "संघ के स्वयंसेवक सरकार में हैं और वो अपने निर्णय स्वयं लेते हैं. उनमें संघ के संस्कार हैं, इसलिए वो अच्छे निर्णय लेते हैं."

ये भी पढ़ें: RTI में पूछा टुकड़े-टुकड़े गैंग में कौन हैं? नहीं मिला जवाब

इमेज कॉपीरइट EPA

दिल्ली के बाद मुंबई पर AAP की नज़र

दिल्ली की जीत से उत्साहित आम आदमी पार्टी अब मुंबई में भी अपने पांव पसारने की कोशिश करती नज़र आ रही है.

पार्टी के नेता संजय सिंह ने शुक्रवार को कहा कि आप मुंबई समेत महाराष्ट्र के अन्य हिस्सों में महानगरपालिका का चुनाव गंभीरता से लड़ेगी.

संजय सिंह ने कहा कि मुंबई महानगरपालिका के चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी किसी से गठबंधन नहीं करेगी. उन्होंने कहा कि पार्टी हड़बड़ी में कोई काम नहीं करेगी और जल्दीबाजी में कोई फ़ैसला नहीं लेगी.

संजय सिंह ने कहा कि पार्टी महाराष्ट्र के अलावा देश के अन्य राज्यों में अपना संगठन मज़बूत करने की कोशिश कर रही है.

ये भी पढ़ें: आम आदमी पार्टी क्या दिल्ली से बाहर ‘कूच’ करेगी?

इमेज कॉपीरइट EPA

ईरान में संसदीय चुनाव संपन्न

ईरान में शुक्रवार को संसदीय चुनाव के लिए वोट डाले गए. माना जा रहा है कि चुनाव के नतीजे देश के सर्वोच्च नेता अयातुल्ला अब्दुल अली ख़ामेनेई के वफ़ादार रूढ़िवादियों के पक्ष में आएंगे.

हज़ारों संभावित उदारवादी उम्मीदवारों को पैमाने पर खरा न उतरने की वजह से चुनाव लड़ने से रोक दिया गया था.

ईरान के सरकारी टीवी चैनल ने बताया कि हाई वोटर टर्नआउट की वजह से चुनाव का वक़्त तीन घंटे बढ़ाना पड़ा. ईरानी शासन के आलोचकों ने लोगों से चुनाव का बहिष्कार करने की अपील की थी.

ईरान परमाणु संधि से अमरीका के अलग होने के बाद यह देश में होने वाला पहला चुनाव है.

यह चुनाव ऐसे वक़्त में हुआ है जब अमरीका ने ईरान पर दोबारा पाबंदियां लगा दीं है और देश आर्थिक मुसीबतों से जूझ रहा है.

ये भी पढ़ें: ईरान में विरोध-प्रदर्शन: सरकार विरोधी कौन हैं?

इमेज कॉपीरइट Getty Images

ट्रंप के साथ बेटी और दामाद भी आएंगे भारत

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप के साथ न सिर्फ़ उनकी पत्नी मेलानिया ट्रंप बल्कि उनकी बेटी इवांका ट्रंप और दामाद जैरेड कशनर भी भारत दौरे पर आएंगे.

इवांका और उनके पति जैरेड डोनल्ड ट्रंप की वरिष्ठ सलाहकार भी हैं

स्टेट डिपार्टमेंट से मिली जानकारी के मुताबिक़ ट्रंप के शिष्टमंडल में अमरीका के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार रॉबर्ट ओ ब्रायन, वित्त मंत्री स्टीवन म्नूचिन वाणिज्य मंत्री बिल्बर रोस और ऊर्जा मंत्री डैन ब्रूलियट होंगे.

ट्रंप की यह पहला भारत दौरा है जबकि इवांका साल 2017 में भारत आ चुकी हैं.

ये भी पढ़ें: डोनल्ड ट्रंप के ख़ास विमान और शानदार कार कितने सुरक्षित?

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार