दिल्ली के मौजपुर में CAA समर्थक और विरोधी भिड़े

  • 23 फरवरी 2020
दिल्ली के मौजपुर में हिंसक हुए प्रदर्शन इमेज कॉपीरइट ANI

दिल्ली के मौजपुर इलाक़े में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ प्रदर्शन कर रहे और इसके समर्थन में आए लोगों के बीच पत्थरबाज़ी हुई है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक़ पुलिस ने आंसू गैस का इस्तेमाल किया है.

राजधानी दिल्ली के कई इलाक़ों में नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ बीते दो महीनों से प्रदर्शन चल रहे है.

रविवार को मौजपुर इलाक़े में सीएए के समर्थन में भी प्रदर्शनों का आह्वान किया गया था.

बीजेपी नेता कपिल मिश्रा ने दिल्ली पुलिस को तीन दिन का अल्टीमेटम देते हुए कहा है, "जाफ़राबाद और चांद बाग़ की सड़कें खाली करवाइए. इसके बाद हमें मत समझाइएगा. हम आपकी भी नहीं सुनेंगे, सिर्फ़ तीन दिन."

कपिल मिश्रा ने मौजपुर में लोगों को संबोधित करते हए कहा, "हमारी ओर से एक भी पत्थर नहीं चला है. ट्रंप के जाने तक हम शांति से जा रहे हैं, लेकिन उसके बाद हम आपकी भी नहीं सुनेंगे. ट्रंप के जाने तक जाफ़राबाद और चांद बाग़ ख़ाली करवा लीजिए. उसके बाद हम आपकी भी नहीं सुनेंगे."

मौजपुर में सीएए के समर्थन में आए प्रदर्शनकारियों ने नारेबाज़ी भी की. इससे पहले कपिल मिश्रा ने ट्विटर के ज़रिए लोगों से मौजपुर चौक पर पहुंचने के लिए कहा था.

दिल्ली पुलिस के ईस्टर्न रेंज के जॉइंट कमिश्नर आलोक कुमार ने कहा है कि कुछ देर के लिए पत्थरबाजी हुई लेकिन अब हालात नियंत्रण में हैं. इस तनाव के कारण इलाक़े की मेट्रो सेवा भी प्रभावित हुई है. मौजपुर और बाबरपुर के एग्जिट और एंट्री गेट को बंद कर दिए गए हैं. मौजपुर और बाबरपुर मेट्रो स्टेशन पिंक लाइन से जुड़ा है. मौजपुर के पास ही जाफ़राबाद में भी सीएए के ख़िलाफ़ प्रदर्शन हो रहा है. शाहीन बाग़ की तरह यहां भी प्रदर्शनकारी महिलाएं ही हैं.

इमेज कॉपीरइट EPA/HARISH TYAGI

शाहीन बाग़ में प्रदर्शन शांतिपूर्ण, पुलिस ने की है घेराबंदी: वजाहत हबीबुल्ला

दिल्ली के शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून का विरोध कर रहे प्रदर्शनकारियों से बातचीत के लिए सुप्रीम कोर्ट की ओर से नियुक्त किए वार्ताकारों में से एक वजाहत हबीबुल्लाह ने कहा है कि पुलिस ने शाहीन बाग़ के आस-पास पांच जगहों पर नाकेबंदी कर रखी है.

समाचार एजेंसी एएनआई की रिपोर्ट के मुताबिक़ वजाहत हबीबुल्ला ने सुप्रीम कोर्ट में एक हलफनामा दायर कर ये बात कही है.

शाहीन बाग़ में सड़क जाम के मुद्दे पर दायर किए गए इस हलफनामे पर सुप्रीम कोर्ट में सोमवार को सुनवाई होगी.

वजाहत हबीबुल्ला ने हलफनामे में ये भी कहा है कि शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारी नागरिकता संशोधन क़ानून के ख़िलाफ़ शांतिपूर्ण तरीके से अपना विरोध जता रहे हैं.

वार्ताकारों की इस टीम में वजाहत हबीबुल्ला के अलावा एडवोकेट संजय हेगड़े और एडवोकेट साधना रामचंद्रन भी हैं.

इमेज कॉपीरइट ANI

दिल्ली के जाफ़राबाद इलाके में भारी सुरक्षा बल तैनात

दिल्ली के जाफराबाद मेट्रो स्टेशन के इलाके में भारी मात्रा में सुरक्षा बल तैनात किए गए हैं.

इस इलाके में महिलाएं नागरिकता क़ानून के विरोध में पिछले कई दिनों से धरना प्रदर्शन पर बैठी हुई हैं.

बताया जा रहा है कि रविवार को धरना प्रदर्शन कर रही महिलाओं ने मेट्रो स्टेशन के पास आकर धरना देना शुरू किया, इसके बाद यह तैनाती की गई है.

रविवार को सुरक्षा बल की तैनाती के बाद दिल्ली मेट्रो ने जाफराबाद मेट्रो स्टेशन को बंद कर दिया है. इस स्टेशन पर मेट्रो नहीं रुक रही हैं.

इससे पहले शनिवार को दिल्ली के शाहीन बाग़ में नागरिकता संशोधन क़ानून और एनआरसी के विरोधन में चल रहे प्रदर्शन के कारण दो महीने से अधिक समय तक बंद सड़क का एक हिस्सा शनिवार को खोल दिया था.

राष्ट्र फ़िट है तो हिट हैः प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री मोदी ने अपने मासिक रेडियो कार्यक्रम 'मन की बात' का 62वां एडिशन रविवार को संबोधित किया. उन्होंने इंडिया गेट के पास हुनर हाट जाने के अपने अनुभव का जिक्र किया. हुनर हाट के अलावा मोदी के 'मन की बात' में मेघालय में मिली नई प्रजाति की मछली, प्रवासी पक्षियों और युवाओं की विज्ञान में रुची के बारे में बात की.

'मन की बात' की ख़ास बातें

  • दिल्ली के हुनर हाट में हमारे देश की विशालता, संस्कृति, परंपराओं, खानपान और भावनाओं की विविधता देखने को मिलती है. पारंपरिक वस्त्र, हस्त शिल्प, समूचे भारत की कला और संस्कृति की झलक के पीछे शिल्पकारों की साधना, लगन और अपने हुनर के प्रति प्रेम की कहानियां बहुत प्रेरणादायक होती हैं.
  • हाल ही में जैव वैज्ञानिकों ने मछली की एक नई प्रजाति की खोज की है जो केवल मेघालय में गुफाओं के अंदर पाई जाती है. माना जा रहा है कि ये मछली गुफाओं में ज़मीन के अंदर रहने वाले जल-जीवों की प्रजातियों में सबसे बड़ी है.
  • हमारे देश के बच्चों और युवाओं में विज्ञान और टेक्नॉलॉजी के प्रति रुचि लगातार बढ़ रही है. उनके इसी उत्साह को बढ़ाने के लिए उन्हें साइंटिफिक टेंपर को बढ़ाने के लिए एक और व्यवस्था शुरू हुई है. श्रीहरिकोटा में रॉकेट लॉन्चिंग को सामने बैठकर देखने के लिए विजिटर गैलरी बनाई गई है जिसमें 10 हज़ार लोगों के बैठने की व्यवस्था है.
  • लद्दाख एयरपोर्ट से वायुसेना के AN-32 विमान ने 31 जनवरी, 2020 को जब उड़ान भरी तो एक नया इतिहास बन गया. इस उड़ान में 10 प्रतिशत इंडियन बायोजेट फ़्यूल का मिश्रण किया गया था. ऐसा पहली बार हुआ जब दोनों इंजनों में इस मिश्रण का इस्तेमाल किया गया.
  • बिहार के पूर्णिया की कुछ महिलाओं ने सरकार के सहयोग से मलबरी उत्पादन समूह बनाए. इसके बाद उन्होंने कोकून से रेशम के धागे तैयार किए और फिर उन धागों से खुद ही साड़ियां बनवाना भी शुरू कर दिया. पहले जिस कोकून को बेचकर मामूली रकम मिलती थी, वहीं अब उससे बनी साड़ियां हज़ारों में बिक रही हैं.
  • 12 साल की काम्या कार्तिकेयन ने माउंट एकॉनकागुआ को फतह करने का कारनामा दिखाया है. ये दक्षिण अमरीका में एंडीज़ पर्वत श्रंखला की सबसे ऊंची चोटी है.
  • हमारे भीतर का विद्यार्थी कभी मरना नहीं चाहिए. भगीरथी अम्मा हमें यही प्रेरणा देती हैं. उन्होंने 105 साल की उम्र में दोबारा स्कूल शुरू किया और लेवल-4 की परीक्षा में 75 फ़ीसदी अंक प्राप्त किए. भगीरथी अम्मा जैसे लोग इस देश की ताक़त हैं. प्रेरणा की एक बहुत बड़ी स्रोत हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए