कम दूध और दालें खा रहे हैं भारतीय: प्रेस रिव्यू

  • 24 फरवरी 2020
दाल, प्याज के दाम इमेज कॉपीरइट Getty Images

भारतीय दाल और अनाज संघ के मुताबिक़ पिछले कुछ समय में भारत में दालों की खपत घट रही है.

अंग्रेजी अख़बार इंडियन एक्सप्रेस में छपी ख़बर के मुताबिक़, पुणे में हुए वैश्विक दाल सम्मेलन के दौरान प्रत्येक दाल की ख़पत का आकलन लगाया गया था.

इस आकलन में ये सामने आया है कि साल 2013-14 में दालों की खपत 18.6 मिलियन टन से बढ़कर 22.5 मिलियन टन हो गई थी.

लेकिन 2018-19 में ये गिरकर 22.1 मिलियन टन पर सिमट गई.

इसके बाद इस साल दाल की खपत 20.7 मिलियन रहने की आशंका जताई जा रही है.

इस आकलन को लगाने के लिए हर साल के ओपनिंग स्टॉक को भारत में पैदा होने वाली और आयात की जाने वाली दाल की मात्रा से जोड़ा गया. इसके बाद निर्यात, बीज और चारे में लगने वाली दाल की मात्रा समेत क्लोज़िंग स्टॉक से घटाया गया.

इस तरह जो आंकड़े सामने आए हैं वो बताते हैं कि भारत में दालों की खपत घट रही है. यही नहीं, दूध की खपत के मामले में भी यही संकेत मिल रहे हैं.

प्रख्यात कृषि अर्थशास्त्री अशोक गुलाटी मानते हैं कि आमदनी में अपेक्षाकृत कम बढ़त की वजह से दूध और दालों की खपत में लगातार गिरावट सामने आ रही है.

लेकिन इस गिरावट को आमदनी से तब तक नहीं जोड़ा जा सकता है जब तक सरकार एनएसएसओ के आंकड़ों को जारी न करे.

इमेज कॉपीरइट EPA

कश्मीर में आज से खुलेंगे स्कूल

जम्मू-कश्मीर में बीते कई महीनों से जारी शटडाउन के बाद सोमवार से स्कूलों के खोले जाने की प्रक्रिया शुरू होगी.

अंग्रेजी अख़बार द हिंदू में छपी ख़बर के मुताबिक़, कश्मीर के 11633 शैक्षणिक संस्थानों में पढ़ने वाले 5.29 लाख लड़के और 4.74 लड़कियां सोमवार से स्कूल जा सकेंगी.

कश्मीर में स्कूली शिक्षा के इंतजाम देखने वाली संस्था के निदेशक मोहम्मद यूनुस मलिक ने कहा है कि सत्र शुरू करने से जुड़े सभी इंतजाम किए गए हैं.

जम्मू-कश्मीर में बीते सात महीने से विरोध प्रदर्शनों और हिंसा की आशंकाओं के चलते स्कूलों को बंद कर दिया गया था.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

टेलिकॉम कंपनियों को मिल सकती है राहत

भारत सरकार बीते लंबे समय से एजीआर के तौर पर हज़ारों करोड़ रुपये चुकाने के मामले में टेलिकॉम इंडस्ट्री पर संकट छाया हुआ है.

सुप्रीम कोर्ट ने टेलिकॉम कंपनियों को आगामी 17 मार्च तक 1.47 लाख करोड़ रुपये देने का आदेश दिया हुआ है.

लेकिन अंग्रेजी अख़बार हिंदुस्तान टाइम्स में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक़, सरकार टेलिकॉम कंपनियों को इस संकट से निकालने के लिए कई प्रस्तावों पर विचार कर रही है.

इनमें से टेलिकॉम उपकरणों पर जीएसटी 18 फीसदी से 12 फीसदी करने और यूनिवर्सल सर्विस ऑब्लिगेशन को पांच फीसदी से तीन फीसदी तक लाने जैसे प्रस्ताव शामिल हैं.

इसके साथ ही सरकार एयरटेल और वोडाफ़ोन के लिए बेलआउट पैकेज़ पर भी विचार कर रही है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राहुल अध्यक्ष नहीं बनना चाहते तो पार्टी तलाशे नया अध्यक्ष - थरूर

कांग्रेसी नेता शशि थरूर ने कांग्रेस पार्टी में पूर्णकालिक अध्यक्ष को लेकर चल रही खींचतान पर बयान दिया है.

हिंदी अख़बार दैनिक जागरण में प्रकाशित ख़बर के मुताबिक़, शशि थरूर ने कहा है कि लोगों की नज़र में कांग्रेस पार्टी को लेकर एक धारणा बन गई है कि पार्टी अपनी राजनीतिक पहचान से भटक चुकी है.

उन्होंने राहुल गांधी पर बयान देते हुए कहा है कि ये राहुल गांधी को तय करना है कि वे अध्यक्ष बनना चाहते हैं या नहीं, मगर राहुल अगर अपना पुराना रुख बनाए रखते हैं तो पार्टी को एक सक्रिय और पूर्णकालिक अध्यक्ष का चुनाव करने की ज़रूरत है.

बीते लोकसभा चुनाव में कांग्रेस पार्टी की करारी हार के बाद राहुल गांधी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफ़ा दे दिया था.

इसके बाद से सोनिया गांधी कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष बनी हुई हैं.

राम मंदिर में इस्तेमाल नहीं होगा लोहा

योगी सरकार ने अयोध्या में जल्द ही एक भव्य राम मंदिर बनाने का ऐलान किया है.

लेकिन अब इस राम मंदिर से जुड़ी संरचनाओं और मंदिर बनाने की शैली से जुड़ी जानकारियां सामने आईं हैं.

हिंदुस्तान दैनिक की ख़बर के मुताबिक़, अयोध्या में राम मंदिर नागर शैली में बनाया जाएगा.

मंदिर के वास्तुकार सोमपुरा ने बताया है कि जब मंदिर निर्माण का कार्य पूरा हो जाएगा तो एक समय में 20 हज़ार लोग एक जगह खड़े होकर राम आरती में शामिल हो पाएंगे.

इसके साथ ही उन्होंने कहा है कि मंदिर के निर्माण में लोहे का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा. इसमें 251 खंबे और चार प्रवेश द्वार होंगे. इसके साथ ही मंदिर 240 फीट लंबा, 145 फीट चौड़ा और 141 फीट ऊंचा होगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार