दिल्ली के हिंसाग्रस्त इलाकों में बुधवार भी बंद रहेंगे स्कूल : आज की पांच बड़ी ख़बरें

  • 26 फरवरी 2020
दिल्ली हिंसा इमेज कॉपीरइट Getty Images

दिल्ली के उत्तर-पूर्वी इलाक़े में मंगलवार दोपहर और देर रात तक हिंसक घटनाओं की ख़बरें सामने आने के बाद सीबीएसई बोर्ड ने प्रभावित क्षेत्रों में बुधवार को होने वाली दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं को रद्द का फ़ैसला किया है.

बोर्ड ने कहा है कि "छात्रों, अभिभावकों और शिक्षकों को परेशानी न हो इसलिए बुधवार को होने वाली परीक्षाओं को रद्द किया जा रहा है. परीक्षाओं की तारीखों के बारे में जल्द सूचना जारी की जाएगी."

बीती रात दिल्ली में हिंसा से मरने वालों की संख्या 13 तक पहुंच चुकी है.

इधर केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन ने मंगलवार शाम हिंसाग्रस्त इलाके में स्थित गुरु तेग बहादुर अस्पताल का दौरा किया. इसके साथ ही एनएसए अजीत डोभाल ने प्रभावित इलाकों में सुरक्षा इंतजामों का जायज़ा लिया है.

इससे पहले दिल्ली सरकार में शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा था कि हिंसाग्रस्त इलाक़ों में स्कूल बुधवार को बंद रहेंगे और स्कूलों की परीक्षाएं नहीं होंगी.

उन्होंने सीबीएसई से इन इलाक़ों के स्कूलों में होने वाली बोर्ड की परीक्षाएं आगे बढ़ाने की गुज़ारिश की थी.

कांग्रेस करेगी शांति मार्च का आयोजन

कांग्रेस नेता हारून यूसुफ ने ट्वीट करके जानकारी दी है कि कांग्रेस कार्यकर्ता बुधवार को कांग्रेस मुख्यालय से गांधी स्मृति, 30 जनवरी मार्ग तक शांति मार्च में भाग लेंगे.

इस मार्च के दोपहर 3 बजे से शुरू होने की ख़बरें आ रही हैं.

इसके साथ ही कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने दिल्ली में हिंसक घटनाओं के जारी रहने के बाद बुधवार को कांग्रेस की कोर वर्किंग कमेटी की बैठक बुलाई है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

सुप्रीम कोर्ट में आज शाहीन बाग़ मामले की सुनवाई

सुप्रीम कोर्ट बुधवार को शाहीन बाग़ मामले में वार्ताकार पैनल के सदस्यों साधना रामचंद्रन और संजय हेगड़े की ओर से दाख़िल रिपोर्ट पर सुनवाई करेगा.

रामचंद्रन और हेगड़े ने बीते सोमवार को एक सीलबंद लिफाफे में जस्टिस एस के कौल और के एम जोसेफ़ की बेंच को ये रिपोर्ट सौंपी थी.

दरअसल सुप्रीम कोर्ट ने रामचंद्रन और हेगड़े के वार्ताकार पैनल को शाहीन बाग़ में जारी गतिरोध का हल निकालने की कोशिश के लिए प्रदर्शनकारियों से बातचीत करने के लिए भेजा था.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मिस्र सरकार ने तीन दिन के शोक का ऐलान किया

मिस्र सरकार ने अपने पूर्व नेता होस्नी मुबारक के निधन पर तीन दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा की है.

इसके साथ ही सरकार ने होस्नी मुबारक का अंतिम संस्कार सैन्य अंदाज़ में करने का फ़ैसला किया है.

30 सालों तक मिस्र की सत्ता को संभालने वाले होस्नी मुबारक को साल 2011 में राष्ट्रपति के पद से हटा दिया गया था.

मिस्र में प्रदर्शनकारियों की हत्या में उन्हें भी दोषी ठहराया गया था.

हालांकि बाद में अदालत के फ़ैसले को बदल दिया गया था और मार्च 2017 में बाहर आ गए थे.

इमेज कॉपीरइट Getty Images
Image caption ईरान में अब तक कोरोनावायरस की वजह से मरने वालों की संख्या 15 हो चुकी है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन की चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कोरोनावायरस के तेज प्रसार पर चेतावनी जारी की है.

विश्व स्वास्थ्य संगठन के शीर्ष अधिकारी ब्रूस एलवार्ड ने कहा है कि कई देश इस बीमारी का सामना करने के लिए तैयार नहीं थे लेकिन अब दुनिया के सभी देशों को तत्काल प्रभाव से खुद को इस बात के लिए तैयार करना चाहिए कि ये वायरस अब आगे भी फैल सकता है.

दुनिया भर में कोरोनावायरस की वजह से अब तक 2700 से ज़्यादा लोगों की मौत हो चुकी है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार