दिल्ली हिंसा पर सुनवाई करने वाले जस्टिस एस. मुरलीधर का तबादला :पांच बड़ी ख़बरें

  • 27 फरवरी 2020
जस्टिस एस मुरलीधर इमेज कॉपीरइट TWITTER/NYAYAFORUM

दिल्ली में बीते तीन दिनों से जारी हिंसा पर केंद्र सरकार और दिल्ली पुलिस को आड़े हाथों लेने वाले जस्टिस एस. मुरलीधर का तबादला दिल्ली हाई कोर्ट से पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में कर दिया गया है.

सुप्रीम कॉलिजियम ने बीती 12 फरवरी को जस्टिस मुरलीधर के तबादले को लेकर सुझाव दिया था जिसके बाद बुधवार को इससे संबंधित नोटिफिकेशन जारी कर दिया गया है.

नोटिफिकेशन में कहा गया है कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश शरद अरविंद बोबडे के साथ विचार-विमर्श करने के बाद फैसला लिया है.

विपक्षी दल कांग्रेस ने जस्टिस मुरलीधर के तबादले पर केंद्र सरकार की आलोचना की है.

कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट किया है, "त्वरित न्याय!...जस्टिस एस मुरलीधर के नेतृत्व वाली न्यायपीठ ने जैसे ही बीजेपी नेताओं और सरकार को दिल्ली में हो रही हिंसा के लिए ज़िम्मेदार ठहराया, वैसे ही रात भर में दिल्ली हाई कोर्ट से उनका तबादला कर दिया गया. काश, दंगाइयों से भी इतनी ही तेज़ी और तत्परता से निपटा जाता."

जस्टिस मुरलीधर ने दिल्ली हिंसा को लेकर अपनी सुनवाई में स्पष्ट शब्दों में कहा था कि हम ये नहीं होने दे सकते कि दिल्ली को 1984 के सिख दंगों जैसा हाल एक बार फिर देखना पड़े.

जस्टिस मुरलीधर ने ही वकील सुरूर अहमद की याचिका पर बुधवार को रात 12:30 बजे दिल्ली पुलिस को हिंसाग्रस्त इलाकों में फंसे हुए मरीज़ों को पूरी सुरक्षा के साथ बड़े अस्पताल पहुंचाने का आदेश दिया था.

इमेज कॉपीरइट PTI

अमरीका और रूस ने दिल्ली हिंसा पर जारी की एडवायज़री

दिल्ली में जारी हिंसा के बीच अमरीका और रूस ने भारत में रह रहे अपने नागरिकों को सावधान रहने का निर्देश दिया है.

अमरीका ने अपने नागरिकों के लिए एडवायज़री जारी करते हुए कहा है कि अमरीकी नागरिकों को किसी भी हिंसाग्रस्त इलाकों में जाने से बचना चाहिए.

अमरीकी ट्रेवल एडवायज़री कहती है, "ये ज़रूरी है कि आप विरोध प्रदर्शनों, रास्तों और मेट्रो के बंद होने और संभावित कर्फ्यू से जुड़ी जानकारी हासिल करने के लिए सभी स्थानीय न्यूज़ संस्थाओं को देखते रहे हैं. भारत सरकार ने कुछ इलाकों में धारा 144 लगाई है, जिसके तहत चार या चार से ज़्यादा लोगों के एक जगह एकत्रित होने पर प्रतिबंध लगाए गए हैं."

इसके साथ ही रूस ने भी अपने सभी नागरिकों को बड़े प्रदर्शनों में भाग लेने और हिंसाग्रस्त इलाकों में जाने से बचने को कहा है.

इमेज कॉपीरइट Getty Images

राष्ट्रपति कोविंद से मिलेंगे कांग्रेस नेता

कांग्रेस के शीर्ष नेता गुरुवार को दिल्ली हिंसा के मुद्दे पर भारत के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के साथ मुलाकात करेंगे.

इससे पहले कांग्रेस ने कोर वर्किंग कमेटी की मीटिंग भी बुलाई थी. इसके बाद अंतरिम अध्यक्षा सोनिया गांधी ने बुधवार को एक प्रेस कांफ्रेंस कर कहा था कि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह को हिंसा की ज़िम्मेदारी लेते हुए पद से इस्तीफ़ा दे देना चाहिए.

साथ ही उन्होंने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से हिंसाग्रस्त इलाकों में अपनी सक्रियता बढ़ाने का आग्रह किया था.

उन्होंने कहा था केंद्र सरकार और प्रदेश सरकार दोनों ही नागरिकों की सुरक्षा के अपने काम को करने में नाकाम रही हैं.

इमेज कॉपीरइट Reuters

मारिया शारापोवा ने लिया संन्यास

टेनिस की दुनिया की मशहूर खिलाड़ी रहीं मारिया शारापोवा ने 32 वर्ष की उम्र में प्रोफेशनल टेनिस को अलविदा कह दिया है.

शारापोवा ने अपने करियर में पांच बार ग्रैंड स्लैम जीतने का मुक़ाम हासिल किया था.

शारापोवा ने अपने आधिकारिक ट्विटर अकाउंट पर लिखा है, "टेनिस ने मुझे दुनिया दिखाई. इसने मुझे बताया कि मैं किस चीज़ से बनी थी. टेनिस से मैंने खुद का आकलन किया. अपनी प्रगति को समझा. ऐसे में आगे अपने जीवन में मैं जो भी कुछ करूंगी, जितना भी बड़ा लक्ष्य अपने लिए चुनूंगी. मैं कोशिश करती रहूंगी. मैं आगे बढ़ती रहूंगी. मैं खुद को निखारती रहूंगी."

अमरीका में बंदूकधारी ने की 6 की हत्या

अमरीकी शहर मिलवॉकी में एक बंदूकधारी ने शराब की फैक्ट्री में घुसकर छह लोगों की हत्या कर दी है.

स्थानीय मीडिया के मुताबिक़, इस व्यक्ति को एक महीने पहले नौकरी से निकाल दिया था.

इस हत्याकांड में बंदूकधारी की भी मौत हो गई है. गोलीकांड के दौरान शराब फैक्ट्री में सैकड़ों लोग काम कर रहे थे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

बीबीसी न्यूज़ मेकर्स

चर्चा में रहे लोगों से बातचीत पर आधारित साप्ताहिक कार्यक्रम

सुनिए

संबंधित समाचार