आर्थिक निराशा में घिरा बहुसंख्यकवादी देश बन गया है भारतः मनमोहन सिंह

मनमोहन सिंह

इमेज स्रोत, Getty Images

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने एक संपादकीय लेख में कहा है कि भारत उदारवादी लोकतंत्र के वैश्विक उदाहरण से आर्थिक निराशा में घिरा बहुसंख्यकवादी देश बन गया है.

द हिंदू में प्रकाशित संपादकीय में मनमोहन सिंह ने कहा कि वो भारी मन से ये बात लिख रहे हैं.

मनमोहन सिंह ने कहा कि भारत इस समय सामाजिक द्वेष, आर्थिक मंदी और वैश्विक स्वास्थ्य महामारी के तिहरे ख़तरे का सामना कर रहा है.

अपने लेख में सिंह ने कहा, "सामाजिक तनाव और आर्थिक बर्बादी तो स्व-प्रेरित हैं लेकिन कोरोना वायरस की वजह से हो रही कोविड-19 बीमारी बाहरी झटका है. मुझे ग़हरी चिंता है कि ख़तरों का ये मेल न सिर्फ़ भारत की आत्मा को छलनी कर सकता है बल्कि दुनिया में हमारी आर्थिक और लोकतांत्रिक ताक़त और वैश्विक पहचान को भी कम करेगा."

दिल्ली में बीते सप्ताह हुए दंगों का हवाला देते हुए मनोहन सिंह ने लिखा, "बीते कुछ हफ़्तों में दिल्ली में भीषण हिंसा हुई. हमने बेवजह अपने 50 के क़रीब भारतीयों को खो दिया. कई सौ लोग घायल हुए हैं. यूनिवर्सिटी परिसर, सार्वजनिक स्थान और लोगों के निजी घर सांप्रदायिक हिंसा का दंश झेल रहे हैं. ये भारत के इतिहास के काले पन्नों की याद दिला रहे हैं."

पुलिस पर निशाना साधते हुए सिंह ने लिखा, "क़ानून व्यवस्था लागू करने वाले इदारों ने नागरिकों की सुरक्षा के अपने धर्म को त्याग दिया है. न्याययिक प्रतिष्ठानों, और लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया ने भी हमें निराश किया है."

उन्होंने लिखा, "बिना रोकटोक के, सामाजिक तनाव की आग देश में फैल रही है और हमारे देश की आत्मा के लिए ख़तरा बन गई है. इस आग को वही लोग बुझा सकते हैं जिन्होंने ये आग लगाई है. सांप्रदायिक हिंसा की हर घटना गांधी के भारत पर धब्बा है."

सिंह ने कहा है कि सामाजिक तनाव का असर भारतीय अर्थव्यवस्था पर भी होगा.

उन्होंने कहा, "ऐसे समय में जब हमरी अर्थव्यवस्था ख़राब दौर से गुज़र रही है, सामाजिक तनाव का असर ये होगा कि आर्थिक मंदी और तेज़ हो जाएगी. आर्थिक विकास की आधार सामाजिक सौहार्द है. लेकिन अब ये ख़तरे में है."

सिंह ने कहा, "जब पड़ोस में हिंसा हो जाने का ख़तरा मंडरा रहा है तो करों में बदलाव, कार्पोरेट प्रोत्साहन देने से भारतीय या विदेशी निवेशक पैसा लगाने के लिए प्रेरित नहीं होंगे. निवेश के ना होने का मतलब है नौकरियां और आय न होना, और इसका नतीजा होता है ख़पत और मांग की कमी. खपत की कमी निवेशकों को और हतोत्साहित करेगी. ये एक कुचक्र है जिसमें हमारी अर्थव्यवस्था फंस गई है."

चुनाव ख़र्च और चंदे के साढ़े पांच सौ करोड़ रुपए के हिसाब के संबंध भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस को समन भेजने के बाद अब आयकर विभाग ने पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल को अपने सामने पेश होने के लिए कहा है.

कांग्रेस पार्टी के चंदे की जांच, अहमद पटेल को पेश होने का समन

इमेज स्रोत, Getty Images

इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक 2 अप्रैल 2019 को आयकर विभाग ने 52 स्थानों पर छापेमारी की थी. इसमें मध्य प्रदेश के भी कई ठिकाने शामिल थे. इसके अलावा अक्तूबर, 2019 और फरवरी, 2020 में भी विभाग ने हैदराबाद, विजयवाड़ा और कई अन्य ठिकानों पर छापेमारी की थी.

अलग-अलग शहर में रह रहे कांग्रेस पार्टी के छह कर्मचारियों के ठिकानों की भी इस दौरान तलाशी ली गई थी. अहमद पटेल को पहला समन 11 फ़रवरी को भेजा गया था और दूसरा समन 14 फ़रवरी को भेजा गया है.

अहमद पटेल ने बताया है कि उनकी तबियत ठीक नहीं थी और वो संसदीय कार्य में व्यस्त थे. आयकर विभाग ने उन्हें दूसरा समन उनके संसदीय ईमेल पर भेजा है. उन्होंने कहा कि सभी पार्टियों को इस तरह का चंदा मिलता है और वो लोकसभा सत्र के बाद जवाब देंगे.

कोरोना का डर, सिक्किम ने रोका विदेशियों का प्रवेश

इमेज स्रोत, Getty Images

सिक्किम ने कोरोना वायरस को रोकने के लिए सभी विदेशियों का प्रवेश रोक दिया है. द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक सरकार के इस फ़ैसले की वजह से पर्यटन उद्योग से जुड़े लोग आशंकित हैं और दार्जलिंग में होटल व्यवसाय से जुड़े लोगों को डर है कि बुकिंग रद्द होंगी. चीन से लगे नाथू-ला जाने पर पूरी तरह रोक लगा दी गई है.

जो पर्यटक सिक्किम आते हैं वो पश्चिम बंगाल के दार्जीलिंग भी आते हैं. सिक्किम आने के लिए विदेशी सैलानियों को भारतीय वीज़ा के अलावा इनर-लाइन परमिट भी अलग से लेना होता है. गुरुवार को सिक्किम के गृह विभाग ने इन परमिटों पर रोक लगा दी. ये रोक भूटान के नागरिकों पर भी रहेगी.

दिल्ली में एटीएम उखाड़ ले गए चोर

द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की एक रिपोर्ट के मुताबिक दक्षिण दिल्ली में चोरों ने एटीएम उखाड़ लिए जबकि जामिया नगर में ऐसा करने की उनकी कोशिश नाकाम रही. दो दिन पहले ही दिल्ली के लाजपत नगर में भी चोरों ने एटीएम मशीन उखाड़ने की कोशिश की थी. जिन एटीएम को निशाना बनाया गया है उनमें सुरक्षा गार्ड नहीं थी. एटीएम उखाड़ने के लिए एक ही तरीका इस्तेमाल किया गया है.

चोरों ने एटीएम को वाहन से खींचा और ले गए. पुलिस को शक है कि चोरों का एक ही गैंग ये अपराध कर रहा है. जामिया नगर में चोर उखाड़ा एटीएम छोड़ कर फ़रार हो गए. जो दो एटीएम चोर ले जाने में कामयाब रहे उनमें से एक में 7.91 लाख रुपए जबकि दूसरे में 17 लाख रुपए थे.

मध्य प्रदेश के डीजीपी हटाए गए

इमेज स्रोत, @DGP_MP

मध्य प्रदेश सरकार ने पुलिस महानिदेशक वी के सिंह को हटाकर वरिष्ठ आईपीएस अधिकारी विवेक जौहरी को डीजीपी बनाया है.

अमर उजाला की रिपोर्ट के मुताबिक हटाए गए डीजीपी वीके सिंह को अब खेल और युवा कल्याण विभाग का संचालक बनाया गया है. मध्य प्रदेश में कांग्रेस की सरकार पर संशय के बादल मंडरा रहे हैं. कल चार दिनों से ग़ायब चार विधायकों में से एक हरदीप सिंह डंग ने इस्तीफ़ा दे दिया है.

स्कूल के नाटक मामले में अदालत ने देशद्रोह के आरोप रद्द किए

इमेज स्रोत, Getty Images

कर्नाटक के बीदर में स्कूल में बच्चों के नाटक के मामले मे देशद्रोह के मुक़दमे में अदालत ने स्कूल प्रबंधन के सभी पांच प्रतिनिधियों को अग्रिम ज़मानत दे दी है.

इंडियन एक्सप्रेस के मुताबिक अदालत ने कहा है कि इस नाटक से समाज में कोई द्वेष नहीं फैला है. अदालत ने कहा कि देशद्रोह का मुक़दमा चलाने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं है. इस स्कूल में 21 जनवरी को हुए एक नाटक के संबंध में पुलिस ने देशद्रोह का मुक़दमा दर्ज किया था. अदालत ने ये भी कहा कि लोगों के पास सरकार के किसी क़दम पर नाराज़गी ज़ाहिर करने का अधिकार है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)