कोरोना वायरस: केजरीवाल ने दिल्ली के ये 10 नए इलाक़े किए सील- प्रेस रिव्यू

कोरोना

इमेज स्रोत, Getty Images

दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए 10 और इलाक़ों को सील कर दिया गया है. इस ख़बर को हिन्दुस्तान टाइम्स ने प्रमुखता से पहले पन्ने पर छापा है. इस तरह दिल्ली में कुल सील किए गए इलाक़ों की संख्या बढ़कर अब 43 हो गई है. दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि आने वाले दिनों में कई और इलाक़ों को सील (कंटेनमेंट ज़ोन) किया जाएगा.

दिल्ली में कोरोना वायरस से संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 1,154 हो गए हैं. सील किए गए नए इलाक़ों में ईस्ट ऑफ़ कैलाश के ई-ब्लॉक का एक लेन है. इसके अलावा कैलाश हिल्स और गारी विलेज में शेरा मोहल्ला है. बाक़ी अबुल फ़ज़ल एन्क्लेव के दो इलाक़े, दो मदनपुरा खादर में और दो साउथ-ईस्ट दिल्ली के जैतपुर एक्सटेंशन-II में हैं. साउथ-वेस्ट दिल्ली में द्वारका के पास महावीर एन्क्लेव को भी सील किया गया है. अख़बार के अनुसार दिल्ली में ज़्यादातर संक्रमण बढ़ने के मामले निज़ामुद्दीन में पिछले महीने तब्लीग़ी जमात के आयोजन से जुड़े हैं.

मुख्यमंत्री ने बताया कि सील किए गए इलाक़े रेड ज़ोन और हाई रिस्क वाले इलाक़ों को ऑरेंज ज़ोन में रखा जाएगा. इन इलाक़ों को सैनिटाइज़ किया जाएगा. सैनिटाइज़ेशन का एक बड़ा अभियान सोमवार से शुरू होगा. जहां-जहां कोरोना के केस ज़्यादा आ रहे हैं, वहां ऑपरेशन शील्ड चलाया जाएगा, जिसके तहत उस एरिया में ना तो कोई जा सकता है और न बाहर आ सकता है. साथ ही पूरे एरिया को सैनिटाइज़ भी किया जाएगा. दिलशाद गार्डन में ऑपरेशन शील्ड चलाया गया था और वहां 10 दिनों में कोई केस नहीं मिला है. मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा कि निर्माण कार्य में लगे दिहाड़ी मज़दूरों को पाँच-पाँच हज़ार रुपए की मदद दी गई है. अब ऑटो-टैक्सी, ग्रामीण सेवा और दूसरे पब्लिक सर्विस वाहन चलाने वालों को भी पाँच-पाँच हज़ार रुपए दिए जाएंगे.

मुख्यमंत्री ने कहा कि सैनिटाइज़ेशन के लिए पीआइ इंडस्ट्रीज़ ने दिल्ली सरकार को 10 हाईटेक जापानी मशीनें दी हैं. एक मशीन 20 हज़ार वर्ग मीटर प्रति घंटे के हिसाब से सैनिटाइज़ करती है. उन्होंने कहा कि पीआइ इंडस्ट्रीज़ का नाम लेना इसलिए ज़रूरी है, क्योंकि इस कंपनी ने सरकार को मुफ़्त में मशीनें दी हैं. इसके अलावा दिल्ली जल बोर्ड की 50 मशीनों का भी सैनिटाइज़ेशन में इस्तेमाल किया जाएगा. इस तरह सोमवार से 60 मशीनों के ज़रिए दिल्ली के रेड ज़ोन और हाई रिस्क ज़ोन के अंदर सैनिटाइज़ेशन अभियान शुरू होगा.

दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने रविवार को कहा कि हॉटस्पॉट इलाक़ों में सभी की स्क्रीनिंग की जा रही है. जैन ने कहा कि अगर कोई व्यक्ति थोड़ा सा भी बीमार है तो उसकी जाँच की जा रही है.

इमेज स्रोत, Getty Images

लॉकडाउन पर फ़ैसला आज

14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन पार्ट-2 कैसा होगा, केंद्र सरकार सोमवार को इस पर से पर्दा उठा सकती है. दिल्ली से प्रकाशित होने वाले अख़बार नवभारत टाइम्स ने इस ख़बर को पहले पन्ने पर छापा है. अख़बार के अनुसार मुमकिन है कि कुछ रियायतों के साथ ख़ुद पीएम इसका ऐलान करें.

रविवार को मध्य प्रदेश ने लॉकडाउन बढ़ाने का समर्थन किया. लेकिन उत्तर प्रदेश ने कहा कि यह केंद्र तय करेगा. योगी सरकार ने 15 अप्रैल से सभी मंत्रियों को दफ़्तरों में बैठने और सामान्य कामकाज शुरू करने को कहा है. ओडिशा, पंजाब, राजस्थान, तेलंगाना, बंगाल और महाराष्ट्र पहले ही अपने-अपने राज्यों में इस बंदिश को बढ़ाने की घोषणा कर चुके हैं. राज्यों को बस केंद्र की औपचारिक घोषणा का इंतज़ार है.

अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है कि पीएम के ऐलान में खेती, इलाज, पढ़ाई, मछली पालन, कपड़ा समेत कुछ क्षेत्रों को छूट मिल सकती है. शर्त यही है कि लोग सामाजिक दूरी और साफ़-सफ़ाई का कड़ाई से पालन करें. ईस्टर पर मोदी ने ट्वीट किया था कि ईश्वर करे कि यह ईस्टर हमें कोरोना से सफलतापूवर्क निपटने और ग्रह को स्वस्थ बनाए रखने के लिए और ताक़त प्रदान करे. एमपी के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि लॉकडाउन बढ़ाना ज़रूरी है, लेकिन किसानों को छूट मिलेगी. यूपी सरकार ने भी किसानों को राहत देने की बात कही है.

इमेज स्रोत, Getty Images

दिल्ली-एनसीआर में भूकंप

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

रविवार शाम दिल्ली-एनसीआर में भूकंप के झटके की ख़बर हर अख़बार में छपी है. कोरोना की दहशत के बीच रविवार शाम दिल्ली-एनसीआर में चंद सेकेंड के लिए भूकंप के झटके महसूस किए गए. राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र के निदेशक (ऑपरेशन) जेएल गौतम के मुताबिक़ उत्तर-पूर्वी दिल्ली का वज़ीराबाद भूकंप का केंद्र था.

इसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 3.5, जबकि गहराई ज़मीन के भीतर आठ किलोमीटर मापी गई. ये झटके शाम 5 बजकर 45 मिनट के आसपास महसूस किए गए. भूकंप के झटके दिल्ली, ग़ाज़ियाबाद, नोएडा और फ़रीदाबाद में महसूस किए हुए. हालांकि इससे किसी जानमाल के नुक़सान की सूचना नहीं है.

भूकंप के झटकों से धरती कुछ सेकेंड तक कांपी. इससे लोग दहशत में आ गए. लॉकडाउन की वजह से घरों में बंद लोग भूकंप के झटकों से घबराकर बाहर निकलते दिखे. भूकंप के लिहाज़ से दिल्ली सिस्मिक ज़ोन चार में आती है. भूकंप के झटकों पर दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने ट्वीट भी किए. केजरीवाल ने कहा कि उम्मीद है कि सभी सुरक्षित हैं. मैं ईश्वर से प्रार्थना करता हूं कि हर कोई सुरक्षित रहे. वहीं सिसोदिया ने ट्वीट किया- कोरोना कम था जो भूकंप भी मचा दिया.. क्या मन है देवा?''

इमेज स्रोत, Getty Images

14 अप्रैल के बाद लॉकडाउन में ढील देने की तैयारी

दैनिक जागरण ने पहले पन्ने पर अपनी लीड ख़बर में बताया है कि 21 दिनों के लॉकडाउन के बाद कई मामलों में ढील देने की तैयारी है. अख़बार ने अपनी रिपोर्ट में लिखा है, ''मुख्यमंत्रियों से वीडियो कांफ्रेंसिंग में 'जान भी, जहान भी' के नए मंत्र के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को जो संकेत दिया था, सरकार उस दिशा में क़दम बढ़ाती नज़र आ रही है.''

14 अप्रैल तक के लिए घोषित देशव्यापी लॉकडाउन के ख़त्म होने से पहले ही सरकार उद्योगों के पहिए चलाने को ज़रूरी मंज़ूरी देने की दिशा में बढ़ रही है. कोरोना के ख़तरे के बीच जहां पूरे देश में आम राय है कि लॉकडाउन बढ़ना चाहिए, वहीं अर्थव्यवस्था पर इसके असर को देखते हुए जाम पड़े औद्योगिक पहिए को धीरे-धीरे चलाने का मत भी बन रहा है. एक दिन पहले कुछ मुख्यमंत्रियों ने शर्तो के साथ चुनिंदा उद्योगों को लॉकडाउन से बाहर लाने की बात कही थी.

केंद्रीय मंत्रियों की ओर से भी प्रधानमंत्री को सुझाव दिया गया है कि उद्योगों को आंशिक रूप से लॉकडाउन में छूट मिलनी चाहिए. इन सभी विचारों को देखते हुए और संबंधित विभागों की राय पर 15 तरह के उद्योगों को न्यूनतम कर्मचारियों के साथ एक शिफ्ट में काम शुरू करने की अनुमति दे सकती है.

इमेज स्रोत, GoI

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)