कोरोना: लॉकडाउन में मंदिर के आयोजन में जमा हुए सैकड़ों लोग, पूरा गाँव सील, अबतक पाँच गिरफ्तार

  • इमरान कु़रैशी
  • बेंगलुरू से बीबीसी हिंदी के लिए
कलबुर्गी ज़िले में मंदिर

इमेज स्रोत, ANI

इमेज कैप्शन,

कलबुर्गी ज़िले में मंदिर

भारत में कोरोनावायरस के मामले

17656

कुल मामले

2842

जो स्वस्थ हुए

559

मौतें

स्रोतः स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय

11: 30 IST को अपडेट किया गया

कर्नाटक के कलबुर्गी ज़िले में एक मंदिर के रथ खींचने के सालाना आयोजन में लॉकडाउन का उल्लंघन करते हुए सैकड़ों लोग जमा हो गए. यह इसलिए भी चौंकाने वाला मामला है क्योंकि भारत में कोविड-19 संक्रमण से पहली मौत की ख़बर कलबुर्गी ज़िले से ही आयी थी.

लोगों के जमा होने की घटना में ज़िला प्रशासन ने हरकत में आते हुए रेवूर गाँव को सील कर दिया है. इसके अलावा सोशल डिस्टेंसिंग के मानकों का उल्लंघन करने वालों पर अंकुश नहीं लगा पाने के चलते चित्तापुर तालुक़ के डिविज़नल मजिस्ट्रेट और पुलिस विभाग के एक सब इंस्पेक्टर को निलंबित किया गया है.

वैसे विचित्र बात यह भी है कि इस गाँव से दो किलोमीटर दूर ही वाडी गाँव है जहां की 10 हज़ार आबादी को कोविड-19 संक्रमण के लिहाज़ से कलस्टर इलाक़ा घोषित किया जा चुका है. वाडी गाँव में दो साल के एक बच्चे को कोरोना पॉज़िटिव पाया गया है जबकि अब तक इसका पता नहीं चल पाया है कि बच्चे तक संक्रमण कैसे पहुंचा.

अधिकारियों ने बीबीसी हिंदी को बताया है कि बुधवार की शाम को कुछ पुजारियों और मंदिर के ट्रस्ट से जुड़े सदस्यों की मौजूदगी में परंपरागत आयोजन किया गया था.

लेकिन एक अधिकारी ने बताया कि गुरुवार की सुबह रथ को मंदिर परिसर से बाहर निकाला गया और उसे खींचने के लिए सैकड़ों लोग जमा हुए थे. माना जा रहा है कि इस दौरान मौजूद लोगों की संख्या 1000 से कम रही होगी.

चित्तापुर के कांग्रेस विधायक प्रियंका खर्गे ने बीबीसी हिंदी को बताया, "अचरज की बात ये है कि मंदिर के ट्रस्ट ने सरकार को अंडरटेकिंग दिया था जिसमें कहा गया है कि वे आयोजन नहीं करेंगे. मंदिर के ट्रस्ट ने प्रेस कांफ्रेंस भी किया था. स्थानीय अधिकारी भी लगातार मंदिर के ट्रस्ट के लोगों के साथ बैठकें कर अनुरोध कर रहे थे कि इसबार आयोजन नहीं किया जाए."

कलबुर्गी भारत का ऐसा पहला ज़िला है जिसे हॉटस्पॉट इलाक़ा घोषित किया गया था. मतलब कोरोना संक्रमित मरीज़ों वाले इलाक़े को पूरी तरह सील कर दिया गया था, वहां आस पास रहने वाले परिवारों के लिए आवश्यक सामानों की आपूर्ति सरकार की ओर से मुहैया कराई जा रही है.

इमेज स्रोत, ANI

इस घटना के सामने आने से मुश्किल में आया ज़िला प्रशासन अब रेवूर गांव में कुछ मेडिकल प्रोफेशनल्स की टीम भेज रहा है जो गाँव के लोगों का थर्मल स्क्रीनिंग करेगी और बुख़ार जाँचेगी.

कलबुर्गी ज़िले के डिप्टी कमिश्नर शरत बी ने बीबीसी हिंदी को बताया, "हम वहाँ टीम भेज रहे हैं जो देखेगी कि लोगों को बुख़ार तो नहीं आ रहा है. हमने गाँव को पहले ही सील कर दिया है."

शरत ने यह भी बताया कि पड़ोस के वाडी गाँव में दो साल के बच्चे को कोरोना पॉज़िटिव पाए जाने के बाद कांटैक्ट ट्रेसिंग के ज़रिए अन्य प्रभावित लोगों का पता लगाने की कोशिश चल रही है.

वहीं कलबुर्गी ज़िले के पुलिस अधीक्षक इयाडा मार्टिन मारबानियांग ने मंदिर की घटना के बाद की गई कार्रवाई पर बीबीसी हिंदी से कहा, "हम लोगों ने निषेधात्मक आदेश का उल्लंघन करने के आरोप में मंदिर के ट्रस्ट और 19 अन्य लोगों पर एफ़आईआर दर्ज की है. अभी तक पाँच लोगों को गिरफ़्तार किया जा चुका है."

इमेज स्रोत, GoI

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)