छत्तीसगढ़: पेपर फ़ैक्ट्री में गैस लीक, तीन मज़दूरों की हालत गंभीर

  • आलोक प्रकाश पुतुल
  • रायपुर से, बीबीसी हिंदी के लिए
फ़ैक्ट्री में गैस लीक

इमेज स्रोत, DPR CG

गुरुवार को आंध्र प्रदेश के एलजी पॉलिमर्स प्लांट में गैर रिसाव की ख़बर के बाद अब छत्तीसगढ़ के रायगढ़ ज़िले की एक फ़ैक्ट्री में गैस लीक होने की ख़बर आ रही है.

रायगढ़ में मौजूद तेतला में शक्ति पेपर मिल में ज़हरीली गैस की चपेट में आने के बाद सात मज़दूरों को स्थानीय अस्पताल में भर्ती किया गया है. इनमें से तीन मज़दूरों की हालत गंभीर बताई जा रही है, जिन्हें इलाज़ के लिये रायपुर रवाना किया गया है.

बिलासपुर रेंज के आईजी पुलिस दीपांशु काबरा ने बीबीसी से कहा-"लॉकडाउन के कारण बंद पड़ी एक काग़ज़ फ़ैक्ट्री में साफ़ सफ़ाई का काम चल रहा था. उसी समय किसी ज़हरीली गैस का रिसाव हुआ और काम कर रहे मज़दूर उसकी चपेट में आ गये."

घटना बुधवार की बताई जा रही है, जिसकी ख़बर ज़िला प्रशासन को गुरुवार को मिली.

समाचार एजेंसी एएनआई के अनुसार रायगढ़ के पुलिस अधीक्षक संतोष सिंह ने कहा कि फ़ैक्ट्री के मालिक ने हादसे के बारे में जानकारी छिपाने की कोशिश की और पुलिस को इस बारे में इत्तला नहीं की गई, इस बारे में केस दर्ज किया जाएगा.

लॉकडाउन के बाद से ही छत्तीसगढ़ में सभी उद्योग धंधों पर रोक लगा दी गई थी. इसके बाद पिछले पखवाड़े राज्य सरकार ने कुछ शर्तों के बाद उद्योगों को कामकाज़ की मंजूरी दी थी.

पुलिस के अनुसार पेपर मिल का कामकाज़ शुरु करने के लिये साफ़-सफ़ाई चल रही थी. इस दौरान स्थानीय मज़दूर एक रिसाइकल चैंबर की साफ़-सफ़ाई कर रहे थे, उसी समय गैस रिसाव शुरु हुआ. इसके बाद एक-एक कर मज़दूर बेहोश होते चले गये.

फ़ैक्ट्री मालिक ने सभी मज़दूरों को रायगढ़ के संजीवनी अस्पताल में भर्ती कराया, जिसकी ख़बर ज़िला प्रशासन को गुरुवार को मिली.

इसके बाद ज़िले के कलेक्टर और पुलिस अधीक्षक ने अस्पताल में जा कर भर्ती मज़दूरों से मुलाकात की. इलाज़ के लिये भर्ती किये गये सात मंज़दूरों में से तीन को वेंटिलेटर पर रखा गया था.

इमेज स्रोत, DPR CG

इन तीन मजदूरों 35 साल के डोलामणि सिदार, 28 साल के सुरेंद्र गुप्ता और 40 साल के अपधर मालाकार को बेहतर इलाज के लिए रायपुर ले जाया गया है.

हालांकि अब तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि गैस रिसाव की वजह क्या थी.

पुलिस का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है. इसके बाद ही वास्तविक कारण का पता चल पायेगा.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)