अंफान तूफान: ओडिशा और पश्चिम बंगाल के लिए बना मुसीबत, सुंदरबन पर गहराया ख़तरा

  • संदीप साहू और प्रभाकर मणि तिवारी
  • भुवनेश्वर और कोलकाता से, बीबीसी हिन्दी के लिए
अंफान तूफान

इमेज स्रोत, Sanjay Das

पहले ही कोरोना महामारी से जूझ रही ओडिशा सरकार के लिए तूफान ने एक नई मुसीबत खड़ी कर दी है. बंगाल की खड़ी में बना चक्रवाती तूफान ''अंफान'' ने सोमवार दोपहर और गहराकर "सुपर साइक्लोन" में तब्दील हो गया. अक्टूबर 1999 के बाद यह पहला मौका है जब बंगाल की खाड़ी में कोई "सुपर साइक्लोन" बना हो.

भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) का कहना है कि तूफान की उच्चतम रफ़्तार 220-240 (अधिकतम 265) किलोमीटर प्रति घंटा तक हो सकती है. हवा की गति 220 किलोमीटर प्रति घंटा या उससे ज्यादा होने पर उसे "सुपर साइक्लोन" का दर्जा दिया जाता है.

अनुमान के मुताबिक, आश्वस्त करने वाली बात यह है कि 20 मई की शाम पश्चिम बंगाल के दीघा और बांगलादेश के हातिया द्वीप के तट पर पहुंचते-पहुंचते तूफान की गति काफी कम हो जाएगी.

आईएमडी के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्र ने कहा है कि उत्तरी दिशा में आगे बढ़ते समय तूफान की गति कम हो जाएगी और यह दोबारा "बहुत ख़तरनाक चक्रवाती तूफान" बन जाएगा. तट पर पहुंचते समय इसकी गति केवल 150-165 किलोमीटर रह जाएगी. लेकिन इसके बावजूद तटीय ओड़िशा के 12 जिलों में "अंफान" के कारण मंगलवार से भारी बारिश होगी और तेज हवाएं चलेंगी.

भुवनेश्वर मौसम केंद्र के निदेशक एचआर विश्वास ने सोमवार को कहा कि तूफान के प्रभाव से मंगलवार शाम से उत्तरी ओड़िशा के पांच जिलों - केंद्रापाड़ा, जगतसिंहपुर, भद्रक, बालेश्वर और मयूरभंज में भारी बारिश शुरू होगी और तेज हवाएं चलेंगी जो 20 तारीख की सुबह से और तेज हो जाएंगी.

20 मई को इन जिलों में हवा की गति 110-120 किलोमीटर (अधिकतम 135 किलोमीटर) प्रति घंटा होने का अनुमान है.

इमेज स्रोत, Getty Images

दोहरी मार

तूफान से निपटने के लिए ओड़िशा सरकार ने व्यापक तयारी की है. एनडीआरएफ की 12 टीमें और ओडीआरएफ की 20 टीमें संभावित प्रभावित क्षेत्रों के लिए रवाना हो चुकी हैं. एनडीआरएफ के महानिदेशक सत्य नारायण प्रधान ने कहा है कि 8 और टीमें तयार रखी गई हैं जिन्हें जरूरत पड़ने पर तत्काल ओड़िशा भेज दिया जाएगा.

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
दिन भर

वो राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय ख़बरें जो दिनभर सुर्खियां बनीं.

ड्रामा क्वीन

समाप्त

ओड़िशा के विशेष राहत आयुक्त प्रदीप जेना ने कहा है कि तट के निकट कच्चे मकानों में रहने वाले लोगों को मंगलवार सुबह से सुरक्षित स्थानों में भेजा जाएगा. इसके लिए ओड़िशा तट में बने करीब 600 साइक्लोन सेन्टरों के अलावा लगभग 7000 पक्के मकान तैयार रखे गए हैं जिनमें 11-12 लाख लोगों को सुरक्षित रखा जा सकता है. उन्होंने कहा कि प्रभावित जिलों के कलेक्टरों को हर संभव स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है. पर्याप्त मात्रा में खाद्य सामग्री, पानी और अन्य आवश्यक चीजें तैयार रखी गई हैं.

जेना ने कहा चूंकि यह तूफान गर्मी के दिनों में हो रहा है इसलिए इससे बाढ़ आने की संभावना नहीं है.

ओडिशा सरकार के लिए सबसे बड़ी चुनौती यह है कि तूफान की मार उन्हीं जिलों- जाजपुर, भद्रक और बालेश्वर- में सबसे अधिक होगी, जो पहले ही कोरोना की वजह से रेड ज़ोन बने हुए हैं. यही कारण है कि सबसे अधिक नुकसान होने की आशंका जताए जाने पर बालेश्वर के कलेक्टर ने एक फरमान जारी किया है कि तूफान का प्रकोप खत्म होने तक किसी बाहर के आदमी को जिले में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी. तूफान के कारण प्रवासी श्रमिकों को लेकर आने वाली "श्रमिक स्पेशल" ट्रेनें भी ओड़िशा सरकार के आग्रह पर 20 तारीख तक रद्द कर दी गई हैं.

इमेज स्रोत, Sanjay Das

पश्चिम बंगाल ने भी कसी कमर

पश्चिम बंगाल सरकार ने बंगाल की खाड़ी पर बने निम्न दबाव की वजह से लगातार खतरनाक बनते जा रहे चक्रवाती तूफान अंफान से निपटने के लिए कमर कस ली है. राज्य के तटवर्ती इलाके अभी बुलबुल तूफान के नुकसान से उबरे भी नहीं हैं कि अब वहां अंफान का खतरा मंडरा रहा है. हालांकि सरकार ने इस तूफान से निपटने के लिए तमाम जरूरी तैयारियों का दावा किया है. लेकिन सुंदरबन इलाके में आइला तूफान के समय बांधों को जो नुकसान पहुंचा था वह इलाके के द्वीपों की चिंता बढ़ा रहा है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी सोमवार को एक बैठक में अंफान से निपटने की तैयारियों का जायजा लिया. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी सोमवार को एक उच्च-स्तरीय बैठक में अंफान से निपटने की तैयारियों की समीक्षा की. उन्होंने बताया, "तटीय इलाकों में एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं और निचले इलाकों से लोगों को शेल्टर होम में पहुंचाया जा रहा है. इलाके में तिरपाल के अलावा पर्याप्त राहत सामग्री का स्टॉक जुटाया जा रहा है. सरकार ने तूफान पर निगाह रखने के लिए मुख्य सचिव की अध्यक्षता में एक उच्च-स्तरीय समिति का भी गठन किया है."

हर बार ऐसे तूफान से पहले ऐहतियात के तौर पर तटवर्ती जिलों के निचले इलाकों में रहने वालों को शेल्टर होम में शिफ्ट कर दिया जाता है. लेकिन इस बार कोरोना की वजह से लोग वहां जाने के इच्छुक नहीं हैं. उनके सामने एक ओर कुआं तो दूसरी ओर खाई वाली स्थिति पैदा हो गई है.

बंगाल के एकमात्र समुद्रतटीय शहर दीघा में अंफान का असर अभी से नज़र आने लगा है. वहां समुद्र में ऊंची लहरें उठने लगी हैं और उसमें फेन की मात्रा बढ़ गई है. इस बीच, सोमवार को राज्य सरकार ने लोगों को अंफान से बचने के लिए क्या करें और क्या नहीं करें की एक सूची जारी की है. इसे विज्ञापन के तौर जारी किया गया है.

मौसम विभाग ने राज्य के तटीय जिलों में अलर्ट जारी करते हुए मछुआरों को 20 मई तक समुद्र में नहीं जाने की चेतावनी दी है. उसने मंगलवार और बुधवार को तटीय इलाकों में भारी बारिश और 120 से 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलने की भविष्यवाणी की है. मौसम विभाग के क्षेत्रीय निदेशक जी.के. दास ने बताया, "अंफान के एक बेहद ताकतवर तूफान के तौर पर 20 मई की दोपहर से शाम के बीच सागर द्वीप के पास टकराने का अंदेशा है." उन्होंने कहा कि चक्रवात के प्रभाव से उत्तर और दक्षिण 24 परगना, पूर्व और पश्चिमी मेदिनीपुर, हावड़ा और हुगली समेत राज्य के तटीय जिलों में 19 मई को कई स्थानों पर हल्की से भारी बारिश हो सकती है.

इमेज स्रोत, Sanjay Das

सुंदरबन को हो सकता है ज़्यादा नुकसान

मौसम विभाग ने सुंदरबन स्थित दुनिया के सबसे बड़े मैंग्रोव जंगल को अंफान से भारी नुकसान पहुंचने का अंदेशा जताया है. निदेशक जी.सी. दास कहते हैं, "तूफान के 150 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से सुंदरबन से टकराने का अनुमान है और इससे सुंदरबन को भारी नुकसान का अंदेशा है. हम इस पर करीबी निगाह रख रहे हैं. अगले चौबीस घंटे काफी अहम हैं."

सरकारी तैयारियों के तहत राज्य के तटीय इलाकों को अलर्ट कर दिया गया है और जगह-जगह एनडीआरएफ की टीमें तैनात कर दी गई हैं. इसके अलावा तटीय जिलों में बने अस्थायी शिविरों में भी राहत सामग्री के अलावा मास्क और दस्तानों की व्यवस्था की जा रही है. हर बार तूफान की स्थिति में निचले इलाकों में रहने वाले लोगों को इन शिविरों में स्थानांतरित कर दिया जाता है.

राज्य के गृह सचिव आलापन बनर्जी ने बताया, "पूरा सरकारी तंत्र तूफान से पैदा होने वाली परिस्थिति से निपटने के लिए तैयार है. एनडीआरएफ की टीमों को बचाव और राहत कार्य के लिए मौके पर भेज दिया गया है. तूफान से पहले स्थानीय लोगों के लिए बनाए गए राहत शिविरों में भी सोशल डिस्टेंसिंग के नियम का पालन करने की व्यवस्था की गई है. एनडीआरएफ के अलावा भारतीय तटरक्षक बल को भी अलर्ट कर दिया गया है."

सुंदरबन मामलों के मंत्री मंटूराम पाखिरा बताते हैं, "घोड़ामारा द्वीप के अलावा, काकद्वीप, नामखाना, बकखाली, फ्रेजरगंज और सागर द्वीप से एक लाख से ज्यादा लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया जा रहा है. एनडीआरएफ की टीमों के अलावा राज्य आपदा प्रबंधन बल की टीमों को विभिन्न स्थानों पर तैनात कर दिया गया है. इलाके में तीन सौ शेल्टर होम खोले गए हैं. लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के दौरान कोविड-19 के दिशानिर्देशों का पालन किया जाएगा."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)