अमित शाह ने कहा- वर्चुअल रैली का चुनाव से कोई लेना-देना नहीं, लोगों से जुड़ना मकसद - आज की बड़ी ख़बरें

अमित शाह

इमेज स्रोत, Getty Images

वर्चुअल बिहार जनसंवाद रैली में गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि उनकी इस वर्चुअल रैली का बिहार के विधानसभा चुनाव से कोई लेना देना नहीं है. इसका मकसद कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में लोगों को जोड़ना है. उनके हौसले को बुलंद करना है. उन्हें 'आत्मनिर्भर भारत' अभियान से जोड़ना है.

उन्होंने बताया कि बीजेपी ऐसी 75 रैलियां करेगी और जनता से इसके माध्यम से जुड़ेगी.

हालांकि उन्होंने आगे अपनी रैली में यह जरूर कहा कि नीतीश कुमार के नेतृत्व में एनडीए को बिहार विधानसभा चुनाव में दो-तिहाई बहुमत मिलेगा, इसे लेकर वो आश्वस्त हैं.

उन्होंने मोदी सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए कहा कि विपक्ष राजनीति कर रही है. विपक्ष ने जनता के लिए क्या किया है. उन्होंने राहुल गांधी पर निशाना साधते हुए कहा कि कुछ एनजीओ ने राहुल गांधी को यह समझाया है कि ज्यादा जोर से बोलने से उन्हें ज्यादा वोट मिलेंगे.

उन्होंने राष्ट्रीय जनता दल की ओर से थाली बजाकर इस वर्चुअल रैली के विरोध पर चुटकी ली और कहा कि वो देर से ही सही लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के थाली बजाने के आह्वान में शामिल तो हुए. इसके लिए उनका धन्यवाद.

चीन के साथ लद्दाख में सीमा विवाद पर हुई बातचीत पर भारत का आया जवाब

इमेज स्रोत, Getty Images

भारत और चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में स्थित लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल पर जारी विवाद को सुलझाने के मक़सद से शनिवार को अहम बैठक हुई थी. दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों के बीच यह बैठक लद्दाख की सीमा के पास हुई.

इस बैठक में क्या कुछ हुआ इस बारे में अब भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से प्रेस रिलीज़ के ज़रिए जानकारी दी गई है. इस प्रेस रिलीज़ में बताया गया है कि दोनों ही पक्षों के बीच काफी सकारात्मक बातचीत हुई.

विदेश मंत्रालय की प्रेस रिलीज़ के अनुसार, 'हाल के हफ्तों में भारत और चीन ने स्थापित कूटनीतिक और सैन्य माध्यमों के ज़रिए आपसी संचार को बनाए रखने की कोशिश की है, जिससे भारत-चीन सीमा के हालात पर चर्चा की जा सके.'

'6 जून 2020 को भारत की तरफ से लेह में स्थित कोर्प कमांडर और चीन के कमांडर के बीच बैठक हुई. यह बैठक चुशुल-मोल्दो क्षेत्र में हुई. यह बैठक बहुत ही सौहार्दपूर्ण और सकारात्मक माहौल में हुई.'

'दोनों ही पक्ष सीमा पर मौजूदा हालात को शांतिपूर्ण ढंग से हल करने पर राज़ी हुए, इसके तहत दोनों देशों के बीच तय समझौतों को ध्यान में रखा जाएगा और साथ ही दोनों देशों के द्विपक्षीय संबंधों को आगे बढ़ाने पर भी ज़ोर दिया जाएगा.'

'इसके साथ ही दोनों पक्षों ने यह भी नोट किया कि इस साल भारत और चीन के बीच कूटनीतिक संबंधों की स्थापना के 70 साल हो जाएंगे. ऐसे में दोनों पक्ष इन संबंधों को और आगे बढ़ाने में सहयोग के लिए भी राज़ी हुए.'

'साथ ही दोनों पक्ष हालात के समाधान और सीमा इलाके में शांति कायम रखने के लिए अपनी सैन्य और कूटनीतिक व्यस्तता जारी रखेंगे.'

हिमाचल में गर्भवती गाय ने विस्फोटक खाया, कांग्रेस का मेनका गांधी पर पलटवार

इमेज स्रोत, Reuters

इमेज कैप्शन,

गाय (प्रतीकात्मक तस्वीर)

हिमाचल प्रदेश में एक गर्भवती गाय का विस्फोटक पदार्थ खाने का मामला सामने आया है. इस मामले में एक शख़्स को गिरफ़्तार किया गया है.

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक़, यह मामला बिलासपुर ज़िले में झंडूता थाना क्षेत्र में पड़ने वाले डाढ गांव का है. इस गांव के निवासी गुरदयाल सिंह ने पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उनकी गाय को विस्फोटक खिलाया गया है जिससे उसे शारीरिक चोट आई है.

एएनआई के मुताबिक़, बिलासपुर के पशुपालन विभाग के डिप्टी डायरेक्टर ने बताया कि जिस वक़्त यह घटना हुई उस समय गाय गर्भवती थी. विस्फोटक की वजह से गाय के जबड़े का ऊपरी और निचला हिस्सा बुरी तरह ज़ख्मी हो गया.

डिप्टी डायरेक्टर के मुताबिक़ यह घटना 25 मई की है, विस्फोटक पदार्थ कथित तौर पर जंगली जानवरों को खेतों से दूर रखने के मक़सद से रखा गया था लेकिन उसका सेवन गाय ने कर लिया. पशु चिकित्सक 26 मई को गाय का इलाज करने पहुंचे.

वहीं झंडूता थाने के एसएचओ ने बताया है कि गाय के मालिक गुरदयाल सिंह की शिकायत के आधार पर उनके पड़ोसी को गिरफ़्तार किया गया है और उनके ख़िलाफ़ पशुओं पर अत्याचार की अलग-अलग धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. अब उन्हें अदालत में पेश किया जाएगा.

इस मामले पर अब राजनीति भी गर्म होने लगी है. कांग्रेस नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर बीजेपी नेता मेनका गांधी पर निशाना साधा है.

उन्होंने लिखा है, ''क्या मेनका गांधी अब बोलेंगीं? ओह हम तो भूल गए. यह चिंता सिर्फ़ कांग्रेस पर हमला करने के लिए ही रहती है. और इस पर कोई टीवी डिबेट भी नहीं होगी और हिमाचल की बीजेपी सरकार इसके लिए किसी को ज़िम्मेदार भी नहीं ठहराएगी.''

दरअसल कुछ दिन पहले ही केरल में एक गर्भवती हथिनी की विस्फोटक अन्नानास खाने से मौत हो गई थी. इसके बाद मेनका गांधी ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर सवाल किए थे कि वो जिस राज्य से सांसद हैं वहां ऐसी घटना हुई हैं और वो चुप हैं.

मुंबई के अंधेरी में गैस की गंध की शिकायत

इमेज स्रोत, Getty Images

इमेज कैप्शन,

सांकेतिक तस्वीर

महाराष्ट्र कोरोना वायरस संक्रमण से सबसे अधिक प्रभावित राज्य है. कुछ दिन पहले राज्य ने निसर्ग तूफ़ान का सामना किया और शनिवार देर रात मुंबई के कुछ इलाक़ों से गैस रिसाव की शिकायत मिली.

मुंबई महानगरपालिका ने मध्यरात्रि में ट्वीट करके इस बारे में जानकारी दी थी कि चेम्बूर, घाटकोपर, कंजूरमार्ग, विखरोली और पवई में गैस लीक की शिकायत मिली थी. आशंका जताई जा रही थी कि यह गैस रिसाव एक फ़ार्मा कंपनी से हुआ.

बीएमसी ने ट्वीट के माध्यम से ही लोगों से अपील की है कि वे घबराएं नहीं. बीएमसी के ट्वीट से प्राप्त जानकारी के मुताबिक़, एहतियात के तौर पर दमकल की 13 गाड़ियां मौक़े पर भेजी गई थीं.

अब मुंबई फ़ायर ब्रिगेड ने कहा है कि इन जगहों पर गैस लीकेज नहीं पाई गई है लेकिन पवई और अंधेरी से लीकेज की ख़बरें आईं हैं जहां पर दमकल की 17 गाड़ियां भेजी गई हैं.

मुंबई फ़ायर ब्रिगेड ने लोगों से अपील की है कि वो घबराएं नहीं.

राज्य के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने कहा है कि स्थिति नियंत्रण में है और वो लोगों से अपील करते हैं कि वो परेशान न हों और सभी संसाधन इससे निपटने में लगाए गए हैं.

वहीं, मुंबई फ़ायर ब्रिगेड के चीफ़ फ़ायर ऑफ़िसर पी.एस. रहांडगले ने कहा कि केवल अंधेरी में गैस की गंध पाई गई है बाकि जगहों पर कोई गैस लीकेज नहीं है.

विशाखापट्टनम में हुई थी गैस लीक

इससे पूर्व सात मई को विशाखापट्टनम में भी गैस लीक का मामला सामने आया था. जिसमें 14 लोगों की मौत हो गई थी.

एलजी पॉलिमर्स प्लांट से लीक हुई गैस स्टाइरीन थी.

स्टाइरीन एक ज़हरीली गैस है जो एक तरह का हाइड्रोकार्बन है.

स्टाइरीन मूल रूप में पॉलिस्टाइरीन प्लास्टिक और रेज़िन बनाने में इस्तेमाल होती है. यह रंगहीन या हल्का पीला ज्वलनशील लिक्विड (द्रव) होता है. इसकी गंध मीठी होती है. इसे स्टाइरोल और विनाइल बेंजीन भी कहा जाता है. बेंजीन और एथिलीन के ज़रिए इसका औद्योगिक मात्रा में यानी बड़े पैमाने पर उत्पादन किया जाता है. स्टाइरीन का इस्तेमाल प्लास्टिक और रबड़ बनाने में होता है. इन प्लास्टिक या रबड़ का इस्तेमाल खाने-पीने की चीज़ें रखने वाले कंटेनरों, पैकेजिंग, सिंथेटिक मार्बल, फ्लोरिंग, डिस्पोज़ेबल टेबलवेयर और मोल्डेड फ़र्नीचर बनाने में होता है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)