जोधपुर: आठ साल पहले पाकिस्तान से आए एक परिवार की मौत

  • नारायण बारेठ
  • राजस्थान से बीबीसी हिंदी के लिए
जोधपुर

इमेज स्रोत, Narayan Bareth/BBC

राजस्थान में जोधपुर ज़िले के देचू थाना क्षेत्र में एक खेत में पाकिस्तान से आए एक विस्थापित परिवार के 11 लोगों के शव मिलने से सनसनी फ़ैल गई. परिवार में सिर्फ़ एक सदस्य जीवित बचा है.

पुलिस ने घटना की जाँच शुरू कर दी है. मौके से कीटनाशक के इस्तेमाल के संकेत मिले हैं. जोधपुर ग्रामीण के पुलिस अधीक्षक राहुल बारहट ने बीबीसी को बताया कि फारेंसिक एक्सपर्ट मौके पर पहुंच गए हैं. पुलिस के शुरुआती जानकारी में घटना के पीछे पारिवारिक कलह का हाथ होने की बात बताई है.

पुलिस को घटना की जानकारी तब मिली जब रविवार को इन सभी के शव खेत पर पड़े मिले. ये सभी आदिवासी भील समुदाय से है जो क़रीब आठ साल पहले पाकिस्तान से सिंध प्रांत से भारत आए थे और फिर वापस नहीं लौटे.

इमेज स्रोत, Narayan Bareth/BBC

इमेज कैप्शन,

परिवार में 37 साल के केवल राम ही जीवित बचे हैं

बताया जा रहा है कि यह परिवार खेत किराए पर लेकर मेहनत मज़दूरी कर रहा था. परिवार में 37 साल के केवल राम जीवित बचे हैं. पुलिस केवल राम से पूछताछ कर रही है.

घटना में केवल राम के माता पिता के अलावा एक भाई, तीन बहनों की भी मौत हो गई. केवल राम की एक बेटी और दो बेटे भी मरने वालो में शामिल हैं. मरने वालों में 75 साल का बुधा राम परिवार का मुखिया था.

ये लोग जोधपुर ज़िले में लोड़ता अचलावता गांव में खेत पर ही घर बना कर रहते थे. प्रांरम्भिक जानकारी के अनुसार केवल राम इसलिए बच गया क्योंकि वो घर से दूर जाकर सोया था. इलाके में जैसे ही रविवार को सुबह घटना की जानकारी मिली, लोग इकट्ठा हो गए और पुलिस को सूचना दे दी गई.

आदिवासी दिवस के दिन की घटना

पुलिस अधीक्षक बारहट ने बीबीसी से कहा वे घटना के के कारणों का पता लगा रहे हैं और इसमें फारेसिंक एक्सपर्ट से मदद ली जा रही है.

पाकिस्तान से शरण के गुहार लेकर आए इन हिन्दुओं पर काम कर रहे सीमान्त लोक संगठन के अध्यक्ष हिन्दू सिंह सोढ़ा ने बीबीसी से कहा ये लोग भारत की नागरिकता के लिए गुहार लगा रहे थे.

इमेज स्रोत, Narayan Bareth/BBC

सोढ़ा कहते हैं, "यह बहुत दुखद घटना है. पाकिस्तान से आए हज़ारों हिन्दू अल्पसंख्यकों में शोक छा गया है. इस समय कम से बीस हज़ार लोग भारत की नागरिकता की कतार में हैं. इनमें से दस हज़ार ने नागरिकता के लिए तय शर्तों की पात्रता भी हासिल कर रखी है."

मृतक आदिवासी भील समुदाय से थे. यह घटना ऐसी समय हुई है जब दुनिया में आदिवासी दिवस मनाया जा रहा है. पाकिस्तान ने भील समुदाय को अनुसूचित जाति में श्रेणीबद्ध कर रखा है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)