सुशांत सिंह राजपूत मामले में जांच से संबंधित मीडिया रिपोर्ट तथ्यों पर आधारित नहीं: सीबीआई- आज की बड़ी ख़बरें

सुशांत सिंह राजपूत

इमेज स्रोत, Twitter/itsSSR

बॉलीवुड फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच कर रही सीबीआई की ओर से बयान जारी किया गया है.

न्यूज़ एजेंसी एएनआई की ख़बर के मुताबिक़, सीबीआई ने बयान जारी किया है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के संबंध में व्यवस्थित और पेशेवर तरीक़े से जांच की जा रही है. सीबीआई जांच से संबंधित मीडिया रिपोर्ट तथ्यों पर आधारित नहीं है.

बयान में यह भी स्पष्ट किया गया है कि सीबीआई अपनी पॉलिसी के तहत किसी भी जांच से जुड़ी जानकारी साझा नहीं करती है.

इससे पूर्व बुधवार को सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने बुधवार को प्रेस वार्ता कर कहा कि मीडिया में सुशांत के परिवार के बारे में ग़लत बातें प्रचारित की जा रही हैं.

वकील विकास सिंह ने दावा किया, "सुशांत 2019 तक बिल्कुल ठीक थे. जब से रिया सुशांत की ज़िंदगी में आईं तब से सुशांत को मानसिक परेशानी हुई. रिया ने ऐसे हालात बनाये की सुशांत की मानसिक स्थिति और ख़राब होती चली गयी"

उन्होंने कहा कि कुछ न्यूज़ चैनलों में ये ख़बर चल रही है कि सुशांत के परिजनों को उनके डिप्रेशन में रहने की जानकारी थी लेकिन परिवार ने ये बात जान बूझकर छुपाई थी.

वकील विकास सिंह ने इन आरोपों को ख़ारिज करते हुए कहा कि अगर 2013 में सुशांत की तबीयत ख़राब हुई होगी तो ये मामूली सी बात होगी और ये डिप्रेशन नहीं कहा जा सकता.

विकास सिंह ने मीडिया पर आरोप लगाते हुए कहा कि कुछ चैनल रिया चक्रवर्ती को फ़ायदा पहुँचाने के लिए सुशांत सिंह के परिवार को बदनाम करने के लिए कैंपेन चला रहे हैं.

फ़ेसबुक ने हेट स्पीच को लेकर बीजेपी नेता पर लगाया प्रतिबंध

इमेज कैप्शन,

बीजेपी विधायक टी राजा सिंह का कहना है कि साल 2018 में उनका फेसबुक पेज हैक कर लिया गया था

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

भारत में हेट स्पीच पर रोक ना लगाने को लेकर दबाव झेल रहे फेसबुक ने अब बीजेपी के नेता टी राजा सिंह को फेसुबक और इंस्टाग्राम पर प्रतिबंधित कर दिया है. हिंसा और नफ़रत को बढ़ावा देने वाले कंटेंट को लेकर फेसबुक की नीति के उल्लंघन के चलते ये फैसला लिया गया है.

फेसबुक के प्रवक्ता ने एक ई-मेल के ज़रिए जानकारी दी, "हमने हिंसा और नफ़रत को बढ़ावा देने वालों को रोकने की हमारी नीति का उल्लंघन करने के लिए राजा सिंह पर फेसबुक पर प्रतिबंध लगा दिया है."

फेसबुक के मुताबिक उल्लंघन करने वालों के मूल्यांकन की प्रक्रिया व्यापक है और इसी कारण फेसबुक ने उनका अकाउंट हटाने का फैसला लिया है.

टी राजा सिंह ने फेसबुक के इस फ़ैसले के बाद कहा, "अभी-अभी मुझे पता चला है कि मेरे समर्थकों और कार्यकर्ताओं ने फेसबुक पर जो मेरे नाम से अकाउंट खोल कर रखे थे, वो सभी फेसबुक ने बंद कर दिए हैं. फेसबुक के अधिकारियों को मैं इसके लिए धन्यवाद देता हूं. लेकिन, मैं ये भी कहना चाहूंगा कि फेसबुक ने फैसला लिया है कि सिर्फ़ राजा सिंह भड़काऊ भाषण देता है, ये मैं ठीक नहीं मानता हूं. क्योंकि आज भड़काऊ भाषण देने वालीं ऐसी कई पार्टियां हैं, उन पर थोड़ा विचार करने की आवश्यकता है." "साथ ही साथ फेसबुक के अधिकारियों पर ये आरोप लगाया गया था कि वो खासतौर पर बीजेपी के लिए काम करते हैं. जिन लोगों ने आरोप लगाए थे उन कांग्रेसियों को मैं कहना चाहूंगा कि आपकी ही पार्टी में कई ऐसे लोग हैं जो भड़काऊ भाषण देते हैं. राहुल गांधी ने कई बार फेसबुक और ट्वीटर अकाउंट के माध्यम से मोदी जी और बीजेपी को गलत शब्द से कमेंट किया है. क्या वो भड़काऊ कमेंट नहीं हो सकता?" "मैं प्रार्थना करना चाहता हूं कि उन तमाम राजनीतिक पार्टियों पर रिसर्च करें, वो एमआईएम हो सकती है, कांग्रेस हो सकती है, कई पार्टियां हो सकती हैं. उनके भी अकाउंट बैन हों, डिलीट हों. मैं फेसबुक के अधिकारियों को एक मेल लिखूंगा कि मेरा एक ऑफिशियल अकाउंट क्रिएट करें और मैं फेसबुक के नियमों का पालन करते हुए सोशल मीडियो का इस्तेमाल करना चाहता हूं."

वीडियो कैप्शन,

फ़ेसबुक पोस्ट के बारे में बीजेपी नेता राजा सिंह क्या बोले?

अमरीकी अख़बार 'वॉल स्ट्रीट जर्नल' ने अपनी रिपोर्ट में दावा किया था कि फ़ेसबुक भारत में अपने कारोबारी हितों को देखते हुए बीजेपी नेताओं के कथित तौर पर नफ़रत फैलाने वाले भाषणों पर सख़्ती नहीं बरतता है.

इस रिपोर्ट को देखते हुए संसदीय समिति ने फेसबुक के दुरुपयोग के मसले पर चर्चा के लिए फेसबुक के प्रतिनिधियों को तलब किया था.मंगलवार को केंद्रीय मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने फेसबुक के सीईओ मार्क ज़करबर्ग को पत्र लिखकर आरोप लगाया था कि फेसबुक के कर्मचारी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और वरिष्ठ केन्द्रीय मंत्रियों के लिए अपशब्दों का इस्तेमाल करते हैं. उन्होंने ये भी लिखा कि उन्हें जानकारी मिली है कि फेसबुक इंडिया की टीम में कई वरिष्ठ अधिकारी एक खास राजनीतिक विचारधारा के समर्थक हैं.

इमेज स्रोत, David Talukdar/NurPhoto via Getty Images

पबजी खेलने से रोकने पर लड़के ने कथित तौर पर ली अपनी जान

गुजरात में एक पिता के पबजी खेलने पर डांट लगाने के बाद 17 साल के एक लड़के ने कथित तौर पर अपनी जान ले ली.

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक़ आणंद ज़िले के सुरेली गांव का रहने वाला ये लड़का 11वीं कक्षा में पढ़ता था.

उमरेठी पुलिस स्टेशन के एसआई पीके सोढा ने समाचार एजेंसी पीटीआई को बताया कि मंगलवार दोपहर को लड़के ने अपने खेतों में कीटनाशक पी लिया.

पीके सोढा ने कहा, "लड़के के पिता शिक्षक हैं, उन्होंने लड़के को घंटों मोबाइल पर पबजी खेलने को लेकर डांट लगाई थी और उसका फोन ले लिया था."

उन्होंने बताया कि लड़का इस बात से परेशान था और उसने अपने खेत पर जाकर कीटनाशक पी लिया. पुलिस के मुताबिक लड़के के घरवालों को उसके कीटनाशक पीने का तब पता चला जब वो घर आकर उल्टी करने लगा. उसे तुरंत अस्पताल ले जाया गया जहां उसकी मौत हो गई.

पुलिस ने आकस्मिक मौत का मामला दर्ज कर लिया है.

इमेज स्रोत, Twitter@narendramodi

पीएम मोदी की निजी वेबसाइट का ट्विटर एकाउंट हैक हुआ

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की निजी वेबसाइट का ट्विटर एकाउंट हैक किए जाने की ख़बर की खुद ट्विटर ने गुरुवार को पुष्टि कर दी है.

हैक किए जाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से जुड़े ट्विटर हैंडल @narendramodi_in से उनके फौलोअर्स को प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में क्रिप्टोकरेंसी के ज़रिये चंदा देने की अपील की गई थी.

मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक़ गुरुवार को तड़के सवा तीन बजे हैकिंग की इस वारदात को अंज़ाम दिया गया.

समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक़ इससे पहले जुलाई में कई जानीमानी शख़्सियतों के ट्विटर एकाउंट्स हैक किए गए थे.

सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट ट्विटर ने रॉयटर्स को भेजे अपने बयान में कहा है कि उन्हें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की वेबसाइट के ट्विटर हैंडल हैक होने की जानकारी है और सुरक्षा के लिए कदम उठाए गए हैं.

ट्विटर ने कहा, "हम सक्रिय रूप से इस मामले की जांच कर रहे हैं. फिलहाल हमें अन्य ट्विटर हैंडल्स के प्रभावित होने की जानकारी नहीं है."

नरेंद्र मोदी मोबाइल ऐप और उनकी निजी वेबसाइट के ट्विटर हैंडल को 25 लाख से ज़्यादा लोग फॉलो करते हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)