कंगना के ख़िलाफ़ पुलिस में शिकायत,CM पर अभद्र टिप्पणी का आरोप

कंगना रनौत

इमेज स्रोत, Kangna Ranaut/Facebook

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत, महाराष्ट्र में सत्ताधारी पार्टी शिवसेना और बीएमसी के बीच घमासान लगातार जारी है. इस बीच कंगना के ख़िलाफ़ कथित रूप से शिवसेना से जुड़े एक व्यक्ति ने विक्रोली में एनसीआर (नॉन-कॉग्निज़ेबल रिपोर्ट) दर्ज कराई है.

शिकायतकर्ता का कहना है कि कंगना ने मुख्यमंत्री के ख़िलाफ़ अभद्र और आपत्तिजनक भाषा का इस्तेमाल किया है. इसके अलावा दिंडोशी पुलिस स्टेशन में अभिनेत्री के ख़िलाफ़ लिखित शिकायत कराई गई है.

कंगना रनौत ने बीएमसी की कार्रवाई में अपने बंगले के कुछ हिस्से तोड़े जाने के बाद सोशल मीडिया पर एक वीडियो जारी करके मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को संबोधित करके कुछ तीख़ी बातें कही थीं.

उन्होंने कहा था, ''उद्धव ठाकरे तुझे क्या लगता है तूने फ़िल्म माफ़िया के साथ मेरा घर तोड़ कर मुझसे बहुत बड़ा बदला लिया है. आज मेरा घर टूटा है कल तेरा घमंड टूटेगा. ये वक़्त का पहिया है याद रखना हमेशा एक जैसा नहीं रहता और मुझे लगता है तुमने मुझ पर बहुत बड़ा अहसान किया है, मुझे पता था कि कश्मीरी पंडितों पर क्या बीती होगी आज मैंने महसूस किया है.''

कंगना ने कहा था, ''आज मैं इस देश को वचन देती हूं कि मैं अयोध्या पर ही नहीं कश्मीर पर भी एक फ़िल्म बनाऊंगी. और अपने देशवासियों के जगाऊंगी क्योंकि मुझे पता था कि ये हमारे साथ होगा तो लेकिन ये मेरे साथ हुआ है इसका कोई मतलब है, कोई मायने है. उद्धव ठाकरे अच्छा हुआ कि ये क्रूरता मेरे साथ हुई क्योंकि इसके कुछ मायने हैं...जय हिंद, जय महाराष्ट्र.''

गुरुवार को बॉम्बे हाईकोर्ट में कंगना बनाम बीएमस मामले पर सुनवाई हुई जिसमें अदालत ने अगली सुनवाई के लिए 22 सितंबर की तारीख़ तय की है.

इमेज स्रोत, RHEA CHAKRBORTY

रिया के साथ मीडिया ने ग़लत किया: एमनेस्टी इंडिया

अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में रिया चक्रवर्ती पर मुख्यधारा की मीडिया संस्थाओं की कवरेज पर एमेनेस्टी इंडिया ने कड़ी आपत्ति जताई है.

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

मानवाधिकारों के लिए काम करने वाली संस्था एमनेस्टी इंडिया के एक्ज़िक्यूटिव डायरेक्टर अविनाश कुमार ने एक बयान जारी करते हुए कहा है, ''न्याय के लिए निष्पक्ष ट्रायल सबसे ज़्यादा ज़रूरी है. ये अधिकार छीना जाना एक अभियुक्त के लिए भी उतना ही बड़ा अन्याय है जितना की एक पीड़ित के लिए.''

जिस तरह से कुछ लोगों, ख़ासकर रिया चक्रवर्ती और उनके परिवार वालों को मीडिया चैनल्स ने अपमानित किया है, वह सरासर ग़लत है.

मीडिया एजेंसियों को निश्चित रूप से न्याय तंत्र को जवाबदेह बनाने में भूमिका निभानी चाहिए लेकिन वह एक निष्पक्ष और प्रभावी कानूनी प्रक्रिया का विकल्प नहीं बन सकती. ''

निष्पक्ष ट्रायल भारतीय संविधान के तहत हर नागरिक का अधिकार है.

कुमार कहते हैं, ''रिया चक्रवर्ती को लेकर कई महिला विरोधी टिप्पणियां की गई हैं, मीडिया में ऑर्टिकल लिखे गए, अफ़वाहें फैलाई गईं. इस मामले की कवरेज ने बड़ी संख्या में दर्शकों को आकर्षित किया है जिसके परिणामस्वरूप रिया के ख़िलाफ़ ऑनलाइन हिंसा दुर्व्यवहार के की बातें की जा रही हैं. ऐसा करना एक पीड़ित को न्याय से दूर ले जाता है और अभियुक्त को निष्पक्ष ट्रायल से. ये किसी के लिए उचित नहीं है. ''

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े ड्रग्स की लेन-देन के मामले में गिरफ़्तार अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को 22 सितंबर तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है. उन्हें एनसीबी ने 8 सितंबर को गिरफ़्तार किया था.

उनके भाई शौविक चक्रवर्ती और सुशांत के पूर्व मैनेजर सैमुअल मिरांडा को एनसीबी पहले ही गिरफ़्तार कर चुकी है.

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच सीबीआई कर रही है लेकिन यह गिरफ़्तारी एनसीबी ने ड्रग्स के लेन-देन के मामले में की है. इस केस में मनी लॉड्रिंग के मामले की जांच प्रवर्तन निदेशालय कर रहा है. इस तरह इस केस की जांच तीन केंद्रीय जांच एजेंसियां कर रही हैं.

इमेज स्रोत, Reuters

कोरोना: एक शख़्स बीमारी पड़ा, भारत में रुका ब्रितानी वैक्सीन का ट्रायल

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया ने भी ब्रितानी कंपनी एस्ट्राज़ेनेका के वैक्सीन का ह्यूमन ट्रायल रोक दिया है.

कंपनी ने कहा है कि सरकारी एजेंसी ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (डीसीजीआई) के निर्देशों का पालन करते हुए यह निर्णय लिया गया, कंपनी मौजूदा स्थिति पर नज़र बनाये हुए है और तब तक के लिए ह्यूमन ट्रायल रोके जा रहे हैं, जब तक एस्ट्राज़ेनेका ख़ुद ट्रायल ना शुरू कर दे.

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया ने एक ट्वीट के ज़रिये यह जानकारी दी है.

इससे पहले भारत में दवाओं और टीकों को मंज़ूरी देने वाली सरकारी एजेंसी डीसीजीआई ने ऑक्सफ़र्ड यूनिवर्सिटी की कोरोना वैक्सीन का ट्रायल कर रहे सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ़ इंडिया को कारण बताओ नोटिस जारी कर पूछा था, ''जब अमरीका, ब्रिटेन, ब्राज़ील और दक्षिण अफ़्रीका में एस्ट्राज़ेनेका ने इस वैक्सीन के ट्रायल रोके हैं, तो भारत में इन्हें क्यों नहीं रोका जाना चाहिए? जब तक मरीज़ की सुरक्षा स्थापित नहीं होती, तब तक क्यों ना आप को मिली क्लीनिकल ट्रायल की इजाज़त भी निलंबित कर दी जाये?''

सीरम इंस्टीट्यूट ने बुधवार को कहा था, ''संस्था हमेशा से ही डीसीजीआई के निर्देशों का पालन करते हुए ह्यूमन ट्रायल कर रही थी. अगर डीसीजीआई को लगता है कि इस ट्रायल में सुरक्षा से संबंधित कुछ चिंताएं हैं, तो हम उनके आदेशों का पालन करेंगे.''

ऑक्सफ़र्ड यूनिवर्सिटी की वैक्सीन को बड़े पैमाने पर बना रही एस्ट्राज़ेनेका के साथ हुए करार के तहत पुणे के सीरम इंस्टीट्यूट ने भारत में इस वैक्सीन के ट्रायल की शुरुआत की थी. इसके लिए डीसीजीआई से दूसरे और तीसरे चरण के ट्रायल के लिए इंस्टीट्यूट को अनुमति मिली थी.

कुछ दिन पहले ब्रितानी कंपनी एस्ट्राज़ेनेका ने इस वैक्सीन का ट्रायल यह कहते हुए रोक दिया था कि ह्यूमन ट्रायल के दौरान एक वॉलंटियर में अनपेक्षित बीमारी के लक्षण देखे गए जो कोरोना वैक्सीन के साइड इफ़ेक्ट हो सकते हैं.

इमेज स्रोत, Alexander Shcherbak\TASS via Getty Images

इमेज कैप्शन,

एस जयशंकर और चीन के विदेश मंत्री

भारत-चीन सीमा विवाद पर रूस में दोनों देशों के विदेश मंत्रियों की अहम बैठक

भारत चीन के बीच सीमा पर जारी तनाव के बीच गुरुवार को भारतीय विदेश मंत्री एस जयशंकर और चीनी विदेश मंत्री वांग यी के बीच अहम बैठक होने वाली है.

दोनों नेता शंघाई कोऑपरेशन ऑर्गेनाइज़ेशन की बैठक के लिए फिलहाल मॉस्को में हैं. इससे पहले दोपहर के भोजन पर भी दोनों नेताओं की मुलाकात होगी, हालांकि इस दौरान रूस के विदेश मंत्री भी मौजूद होंगे.

भारत-चीन सीमा पर लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल पर जारी तनाव के बीच दोनों नेताओं की ये बैठक बेदह अहम मानी जा रही है.

सोमवार को लाइन ऑफ़ एक्चुअल कंट्रोल पर पूर्वी लद्दाख के चुशुल सेक्टर के मखपुरी टॉप के नज़दीक चीनी सैनिकों के साथ भारतीय सौनिकों की झड़प हुई है.

भारत का कहना है कि चीनी सैनिकों के फॉर्वर्ड पोस्ट की तरफ बढ़ने की कोशिश को भारतीय सेना ने नाकाम किया जिसके बाद चीनी सैनिक पीछे लौटने को बाध्य हुए और उन्होंने लौटते वक्त गोलियां चलाईं.

हालांकि चीन का दावा है कि गोलियां भारतीय सैनिकों ने चलाई हैं. 45 साल में ये पहली बार है जब एलएसी पर गोलियां चलाई गई हैं.

ताज़ा घटना से तीन दिन पहले बीते यानी बीते शुक्रवार को भारतीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और चीनी रंक्षा मंत्री वेई फेंघे के बीच मॉस्को में मुलाक़ात हुई थी जो क़रीब दो घंटे 20 मिनट तक चली.

बैठक के बाद राजनाथ सिंह ने कहा कि दुनिया में एक-दूसरे पर भरोसा और सहयोग, अंतरराष्ट्रीय क़ायदे-कानून के प्रति सम्‍मान, एक-दूसरे के हितों के प्रति संवेदनशीलता तथा मतभेदों को शांतिपूर्ण तरीके से सुलझाने की व्यवस्था की जानी चाहिए.

इससे पहले 14 जून को गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच झड़प हुई थी जिसमें भारत के बीस सैनिकों की मौत हो गई थी.

इमेज स्रोत, INDIAN AIR FORCE/TWITTER

भारतीय वायुसेना के बेड़े में शामिल हुए पाँच रफ़ाल विमान

फ़्रांस से ख़रीदे गये पाँच रफ़ाल लड़ाकू विमानों का पहला दस्ता गुरुवार को अंबाला हवाई ठिकाने पर हुए शानदार समारोह में औपचारिक तौर पर भारतीय वायु सेना में शामिल किया गया.

इन पाँच लड़ाकू विमानों को वायु सेना के 17वें स्क्वाड्रन में शामिल किया गया है जिसे 'गोल्डन एरोज़' भी कहा जाता है.

यह भारत की वायु शक्ति की क्षमता को ऐसे समय में बढ़ावा दे रहा है जब देश पूर्वी लद्दाख में चीन के साथ सीमा विवाद में उलझा हुआ है.

वीडियो कैप्शन,

रफ़ाल के भारत आने की पूरी कहानी

भारत के रक्षा मंत्री, उनकी फ़्रांसीसी समकक्ष फ़्लोरेंस पार्ली, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष बिपिन रावत और एयर चीफ़ मार्शल आर के एस भदौरिया समेत कई अन्य पदाधिकारी गुरुवार को हुए इस समारोह में शामिल हुए.

इस समारोह में पारंपरिक 'सर्व धर्म पूजा', पानी की बौछारों से विमानों को सलामी देने के साथ ही विमान द्वारा कई दिल थाम देने वाले क़रतब दिखाये गये.

भारतीय वायु सेना ने एक ट्वीट कर इस नये विमान का अपने शस्त्रागार में स्वागत किया है.

ये पाँच विमान साल 2016 में भारत और फ़्रांस के बीच 36 रफ़ाल लड़ाकू विमान के लिए हुए 59,000 करोड़ रुपये के करार का हिस्सा हैं और इसी साल 27 जुलाई को भारत को सौंपे गए थे.

इन लड़ाकू विमानों का अगला दस्ता इस साल अक्तूबर तक भारत आयेगा और आख़िरी दस्ता साल 2021 के आख़िर तक मिलेगा.

इमेज स्रोत, Milind Shelte/The India Today Group/Getty Images

इमेज कैप्शन,

कंगना रनौत और मनीष मल्होत्रा

मनीष मल्होत्रा को बीएमसी का नोटिस

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के दफ़्तर पर कथित तौर से 'अनाधिकृत निर्माण' हटाने की कार्रवाई करने के बाद मुंबई महानगरपालिका ने डिजाइनर मनीष मल्होत्रा को कारण बताओ नोटिस जारी किया है.

बीएमसी की नोटिस में कहा गया है, "मुबंई महानगरपालिका क़ानून, 1888 के सेक्शन 351(1) और चार अप्रैल, 2013 की अधिसूचना के मुताबिक़ ये नोटिस दिया जाता है कि मनीष मल्होत्रा ने बिना इजाज़त के अपने आवासीय परिसर में निर्माण कार्य किया है."

बीएमसी ने कहा है कि मनीष मल्होत्रा ये बताएं कि उनके परिसर में किए गए निर्माण कार्य को क्यों न गिरा दिया जाए.

इस नोटिस का जवाब देने के लिए मनीष मल्होत्रा को सात दिनों की मोहलत भी दी गई है.

बीएमसी के नोटिस के मुताबिक़ मनीष मल्होत्रा पर आरोप है कि उन्होंने अपने मकान की पहली मंज़िल का इस्तेमाल आवासीय से व्यावसायिक दफ़्तर के तौर पर करने के लिए कोई इजाजत नहीं ली है. इसके अलावा उन पर अनधिकृत कंस्ट्रक्शन और पुरानी डिजाइन में बदलाव करने का भी आरोप है.

इससे पहले बुधवार को बंबई हाई कोर्ट ने कंगना के दफ़्तर पर बीएमसी की कार्रवाई पर रोक लगा दी थी. हाई कोर्ट ने बीएमसी को इस मसले पर अपना जवाब दाखिल करने के लिए कहा है.

इमेज स्रोत, EPA/RAJAT GUPTA

एक दिन में संक्रमण के 95,735 नए मामले

स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में बीते चौबीस घंटों में कोरोना संक्रमण के रिकॉर्ड 95,735 नए मामले दर्ज किए गए हैं जो अब तक का एक दिन का सबसे बड़ा आंकड़ा है.

वहीं कोविड-19 के कारण बीते चौबीस घंटों में 1,172 लोगों की मौत हुई है.

इससे साथ ही देश में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या अब 44.65 लाख हो गई है.

स्वास्थ्य मंत्रालय का कहना है, "देश में फिलहाल 9,19,018 कोरोना के सक्रिय मामले हैं जबकि 34,71,784 लोग संक्रमित होने के बाद ठीक भी हो चुके हैं."

ग़ौरतलब है कि नौ सितंबर को देश में ग्यारह लाख लोगों के कोरोना टेस्ट हुए थे.

महाराष्ट्र अब तक कोरोना से बुरी तरह प्रभावित राज्य बना हुआ है, जहां बुधवार को संक्रमण के 23,816 नए मामले दर्ज किए गए हैं. यहां संक्रमितों की कुल संख्या 9,67,349 हो चुकी है है जिनमें 2,52,734 सक्रिय मामले हैं.

आंध्र प्रदेश में कोरोना संक्रमण के कुल मामले पांच लाख का आंकड़ा पार कर चुके हैं और यहां सक्रिय मामलों की संख्या 97,271 है.

वहीं राजधानी दिल्ली में बुधवार को कोरोना संक्रमण के 4,039 नए मामले दर्ज किए गए हैं.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)