मनीष सिसोदिया को कोरोना के बाद हुआ डेंगू- आज की बड़ी ख़बरें

सिसोदिया

इमेज स्रोत, Hindustan Times

दिल्ली के उप-मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया कोरोना संक्रमित होने के साथ-साथ डेंगू से भी पीड़ित पाए गए हैं. सिसोदिया 14 सितंबर से कोरोना पॉज़ीटिव हैं.

सिसोदिया को बुधवार को बुख़ार और गिरते ऑक्सीजन स्तर के बाद LNJP अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

मनीष सिसोदिया ने ख़ुद ट्वीट कर संक्रमित होने की जानकारी दी थी. उन्होंने बताया था कि उन्होंने बुख़ार होने के बाद कोरोना का टेस्ट करवाया था और उनकी रिपोर्ट पॉज़िटिव आई थी.

उन्होंने लिखा था, ''हल्का बुख़ार होने के बाद आज कोरोना टेस्ट कराया था जिसकी रिपोर्ट पोज़िटिव आई है. मैंने स्वयं को एकांतवास में रख लिया है. फ़िलहाल बुख़ार या अन्य कोई परेशानी नहीं है. मैं पूरी तरह ठीक हूं. आप सब की दुआओं से जल्द ही पूर्ण स्वस्थ होकर काम पर लौटूंगा.''

इसके बाद उन्होंने ख़ुद को क्वारंटीन कर लिया था. गुरुवार आम आदमी पार्टी ने अपने ट्विटर अकाउंट से एक वीडियो रिट्वीट किया जिसमें सिसोदिया अस्पताल और स्टाफ़ की तरीफ़ करते दिख रहे हैं.

उमर ख़ालिद के समर्थन में 208 बुद्धिजीवियों ने लिखा पत्र

वीडियो कैप्शन,

उमर ख़ालिद को क्यों किया गया गिरफ़्तार?

दो सौ से अधिक राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय बुद्धिजीवियों, शिक्षाविदों और कलाकारों के एक समूह ने गुरुवार को एक पत्र लिखकर जेएनयू के पूर्व छात्र नेता उमर ख़ालिद की रिहाई की मांग की है.

उमर ख़ालिद को फ़रवरी में दिल्ली में हुए दंगों में उनकी कथित भूमिका के आरोप में गिरफ़्तार किया गया है.

पत्र पर हस्ताक्षर करने वाले लोगों ने कहा है कि उमर ख़ालिद को पहले से सोची समझी साज़िश के तहत शिकार बनाया गया है.

पत्र पर हस्ताक्षर करने वालों में भाषाविद नोआम चोम्स्की, लेखक सलमान रुश्दी, अमिताव घोष, अरुंधति रॉय, रामचंद्र गुहा और राजमोहन गांधी शामिल हैं.

फ़िल्म निर्माता नीरा नायर और आनंद पटवर्धन, इतिहासकार रोमिला थापर और इरफ़ान हबीब और सामाजिक कार्यकर्ता अरुणा रॉय और मेधा पाटकर ने भी इस पत्र पर हस्ताक्षर किए हैं.

सुदर्शन टीवी मामले में कांग्रेस नेता के परिजन पहुँचे सुप्रीम कोर्ट

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

समाचार एजंसी पीटीआई के अनुसार कांग्रेस के दिवंगत नेता राजीव त्यागी की पत्नी संगीता त्यागी और कांग्रेस के मौजूदा प्रवक्ता पवन खेड़ा की पत्नी कोटा नीलिमा ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की है कि न्यूज़ चैनलों के कुछ एंकरों और उनके मुताबिक़ 'हेट स्पीच' देने वालों की अभिव्यक्ति की आज़ादी का लाभ नहीं मिलना चाहिए.

दरअसल इस समय सुप्रीम कोर्ट में सुदर्शन टीवी का एक मामला चल रहा है. सुदर्शन टीवी ने अपने यहां एक कार्यक्रम का प्रोमो चलाया था जिसका नाम चैनल ने 'यूपीएससी जिहाद' रखा था.

दिल्ली हाईकोर्ट ने इस कार्यक्रम के प्रसारण पर रोक लगा दी थी. बाद में सूचना एंव प्रसारण मंत्राालय ने कुछ शर्तो के साथ प्रोग्राम को प्रसारित करने की अनुमति दे दी थी. बाद में ये मामला सुप्रीम कोर्ट पहुँचा और अभी ये मामला सुप्रीम कोर्ट में ही है.

सुप्रीम कोर्ट में बहस इस बात पर हो रही है कि क्या सुदर्शन टीवी का कार्यक्रम यूपीएससी जिहाद हेट स्पीच की कैटगरी में आता है और उसके प्रसारण की इजाज़त नहीं देनी चाहिए या फिर अभिव्यक्ति की आज़ादी के अधिकार के तहत सुदर्शन टीवी को अपना कार्यक्रम प्रसारित करने की इजाज़त दे देनी चाहिए.

सुप्रीम कोर्ट में इस पर कई बार बहस हो चुकी है. केंद्र सरकार सुदर्शन टीवी का समर्थन कर रही है. सरकार ने कहा है कि अगर मीडिया का नियमन होना ही है तो पहले डिजिटल मीडिया का नियमन होना चाहिए.

केंद्र सरकार ने बुधवार को कोर्ट को बताया कि सुदर्शन टीवी ने प्रोग्राम कोड का उल्लंघन किया है और सरकार ने चैनल को नोटिस जारी किया है और उन्हें 28 सितंबर तक इसका जवाब देना है.

अब इसी मामले में कांग्रेस नेताओं की पत्नियां भी एक पार्टी बनाए जाने की अपील के साथ सुप्रीम कोर्ट पहुँची हैं.

राजीव त्यागी की कुछ दिनों पहले एक टीवी डिबेट में शामिल होने के कुछ देर बाद दिल का दौरा पड़ने से मौत हो गई थी.

याचिकाकर्ताओं ने अपनी याचिका में चार प्रमुख एंकरों के प्राइम टाइम शो का ज़िक्र करते हुए कहा है कि उनके कार्यक्रम ज़्यादातर साम्प्रदायिक होतें हैं और वो सत्तारूढ़ बीजेपी के पक्ष में होते हैं.

उनका कहना है कि इस समय 'भारत में इलेक्ट्रॉनिक मीडिया' की हालत 'नाज़ी जर्मनी' जैसी है.

याचिकाकर्ताओं का दावा है कि सुदर्शन टीवी का शो 'बिना किसी शक-ओ-शुबहे' के 'हेट स्पीच' की कैटगरी में आता है और टीवी एंकरों और टीवी डिबेट के ज़रिए फैलाए जा रहे 'हेट स्पीच' के बड़े मुद्दे होने के कारण उनकी याचिका स्वीकार की जाए.

उनका कहना है कि राजीव त्यागी 12 अगस्त को इसी कथित 'हेट स्पीच के शिकार' बने और उनकी मौत हो गई.

कंगना की प्रॉपर्टी को टूटी हालत में नहीं छोड़ा जा सकता: बॉम्बे हाईकोर्ट

इमेज स्रोत, Getty Images/The india Today group

कंगना रनौत के पाली हिल्स वाले ऑफ़िस में तोड़फोड़ के मामले पर बॉम्बे हाईकोर्ट ने कहा है कि कंगना के ऑफ़िस को मॉनसून के दौरान टूटे हुए हाल में नहीं छोड़ा जा सकता.

हाईकोर्ट इस मामले में शुक्रवार को सुनवाई करेगा.

शिवसेना नेता संजय राउत के वकील ने अपना जवाब देने के लिए वक़्त मांगते हुए कहा था कि राउत संसद के सत्र में हिस्सा लेने के लिए दिल्ली में हैं.

लाइव लॉ वेबसाइट के मुताबिक़ इसपर हाईकोर्ट ने कहा, "हम प्रॉपर्टी को ऐसी टूटी हुई हालत में नहीं छोड़ सकते, बंगले की हालत को देखते हुए जो कि आधा टूटा हुआ है और मॉनसून है, हम इस मामले को सुनने में देरी नहीं कर सकते."

कोर्ट की टिप्पणी के बाद कंगना ने ट्विटर पर लिखा, "आदरणीय हाईकोर्ट के जज, मेरी आंखों में आंसू आ गए. मुंबई में हो रही तेज़ बारिश के कारण मेरा घर वास्तव में टूट रहा है. आपने मेरे घर के बारे में इतनी गंभीरता से सोचा और चिंता जताई. मेरा दिल आपको धन्यवाद देता है, वो सब वापस देने के लिए जो मैंने खोया है."

बीएमसी के वकील ने कोर्ट से आग्रह किया था कि सुनवाई सोमवार 28 सितंबर को की जाए. इसपर कोर्ट ने कहा, "आपको और समय की ज़रुरत है. वैसे तो आप बहुत तेज़ हैं."

मंगलवार को हाईकोर्ट ने शिवसेना नेता संजय राउत और तोड़ने का आदेश देने वाले बीएमसी अधिकारी को बतौर पार्टी शामिल होने का आदेश दिया था.

9 सितंबर को हाईकोर्ट ने कथित तौर पर ग़ैर-क़ानूनी निर्माण को तोड़ने पर रोक लगाई थी. यह रोक कोर्ट के अगले आदेश तक जारी रहेगी.

इमेज स्रोत, DHARMESH AMIN

इमेज कैप्शन,

ओएनजीसी संयंत्र में लगी आग

सूरत में ओएनजीसी संयंत्र में धमाके के बाद लगी आग

गुजरात के सूरत में तेल और प्राकृतिक गैस निगम (ओएनजीसी) के हाजिरा स्थित संयंत्र में गुरुवार तड़के धमाके के साथ आग लग गई. ये घटना सुबह करीब तीन बजे की है.

कई घंटों की मेहनत के बाद फिलहाल आग पर काबू पा लिया गया है. इस घटना में किसी की जान नहीं गई है और ना ही कोई व्यक्ति घायल हुआ है.

ओएनजीसी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया कि हाजिरा संयंत्र में लगी आग पूरी तरह बुझ गई है. कार्य संचालन जल्द से जल्द सामान्य करने की कोशिश की जा रही है.

सूरत के ज़िलाधिकारी डॉक्टर धवल पटेल ने बीबीसी गुजराती को बताया, ''हाजिरा ओएनजीसी संयंत्र में आग लग गई है. रात करीब 2:30 बजे हाइड्रोकार्बन्स के धुएं के बादल आसमान में देखे गए और 3:05 बजे तीन धमाके हुए.''

धवल पटेल ने बताया, ''ओएनजीसी, एसएमसी, हाजिरा के आसपास स्थित उद्योगों से अग्निशामक दल मौके पर मौजूद हैं. सीआईएसएफ के अधिकारी भी वहां मौजूद हैं. अभी तक किसी के हताहत होने की ख़बर नहीं है.''

उन्होंने बताया, "ओएनजीसी में गैस का प्रेशर कम करने का काम चल रहा था. फिलहाल आग संयंत्र तक ही सीमित है, इसलिए यहां से बाहर आग का कोई प्रभाव नहीं है."

सूरत के अदजान फायर स्टेशन में एक अधिकारी ईश्वर पटेल ने बीबीसी को बताया, "मुंबई से हाजिरा में ओनजीसी की पाइपलाइन में आग लग गई है. आग पर काबू पा लिया गया है लेकिन पाइपलाइन में रिसाव के कारण अब भी कुछ जगहों पर आग लगी हुई है. ओनजीसी के दो कर्मचारी और एक सुरक्षा अधिकारी फिलहाल आग में गायब हैं और उनकी खोज चल रही है."

ईश्वर पटेल ने बताया, "सूरत अग्निशमन विभाग के वेसु, अदजान और पालनपुर फायर स्टेशंस से पांच टीमें और ओएनजीसी की आठ से दस टीमें आग बुझाने के काम में लगी हैं."

रकुल प्रीत, श्रुति मोदी और सिमॉन खंबाटा एनसीबी के सामने आज होंगी पेश

इमेज स्रोत, Instagram/rakulpreet

इमेज कैप्शन,

अभिनेत्री रकुल प्रीत सिंह

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद तथाकथित बॉलीवुड-ड्रग्स नेक्सस की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने कई बॉलिवुड सेलिब्रिटीज़ को पूछताछ के लिए समन भेजा है.

रकुल प्रीत सिंह, सुशांत की मैनेजर रहीं श्रुति मोदी और डिजाइनर सिमोन खम्बाटा को आज पूछताछ के लिए बुलाया गया है.

लेकिन, रकुल प्रीत सिंह एनसीबी के दफ़्तर नहीं पहुंची. नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने बताया कि रकुल प्रीत सिंह को कल समन भेजा गया था. हमने उनसे कई प्लेटफॉर्म्स के ज़रिए संपर्क करने की कोशिश की लेकिन उन्होंने कोई प्रतिक्रिया नहीं दी.

पीटीआई के मुताबिक एनसीबी के वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि दीपिका पादुकोण को पूछताछ के लिए 25 सितंबर को पेश होने के लिए कहा गया है.

वहीं, सारा अली ख़ान और श्रद्धा कपूर को 26 सितंबर को बुलाया गया है.

इससे पहले पादुकोण की मैनेजर करिश्मा प्रकाश को भी जांच के लिए बुलाया गया था लेकिन उन्होंने तबीयत ख़राब होने की वजह से इसके लिए कुछ वक्त मांगा.

अधिकारी ने बताया कि उन्हें शुक्रवार तक के लिए पेशी से छूट दी गई है. एनसीबी के सूत्र के मुताबिक प्रकाश के व्हाट्सएप चैट में ड्रग्स के बारे में बातचीत मिली है.

ड्रग्स ख़रीदने के मामले में अब तक कई बॉलीवुड सितारों के कई नाम सामने आ चुके हैं.

इससे पहले नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो ने आठ सितंबर को रिया चक्रवर्ती को ड्रग केस में गिरफ़्तार किया था.

मीडिया रिपोर्टस में अभिनेत्री दीया मिर्ज़ा ने ड्रग्स मामले में नाम आने पर इस बात से इंकार किया है कि उन्होंने कभी ड्रग्स का सेवन किया है. इसके अलावा उन्होंने इस मामले में क़ानूनी कार्रवाई करने की भी बात कही है.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)