बिहार चुनाव से पहले ओवैसी और कुशवाहा का नया गठबंधन- बिहार चुनाव की ताज़ा ख़बरें

असदुद्दीन ओवैसी और उपेंद्र कुशवाहा

इमेज स्रोत, Hindustan Times/ Contributor

बिहार में विधानसभा चुनाव से पहले छह दलों का एक नया गठबंधन बना है. इस गठबंधन को ग्रैंड डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ़्रंट नाम दिया गया है.

डेमोक्रेटिक सेक्युलर फ़्रंट में असदउद्दीन ओवैसी की ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन, बहुजन समाज पार्टी, समाजवादी दल डेमोक्रेटिक, जनतांत्रिक पार्टी सोशलिस्ट और राष्ट्रीय लोक समता पार्टी शामिल हैं.

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा को इस गठबंधन का मुख्यमंत्री उम्मीदवार घोषित किया गया है.

इस सभी दलों ने गुरुवार को एक प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर अपने नए गठबंधन और मुख्यमंत्री उम्मीदवार की घोषणा की. इस मोर्चे के संयोजक देवेंद्र यादव होंगे और सभी दल एकसाथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे.

नए गठबंधन के ऐलान के मौके पर असदउद्दीन ओवैसी ने जदयू-बीजेपी और राजद-कांग्रेस दोनों गठबंधनों की आलोचना करते हुए कहा कि दोनों के शासन में ग़रीबों को कोई फ़ायदा नहीं हुआ.

ओवैसी ने कहा, ''नीतीश कुमार और बीजेपी के 15 साल और राजद-कांग्रेस के 15 साल के शासन के बाद भी बिहार में ग़रीबों को कोई फ़ायदा नहीं हुआ है. राज्य सामाजिक, आर्थिक और शिक्षा के क्षेत्र में अभी भी पीछे है. हमने बिहार के भविष्य के लिए इस गठबंधन को बनाया है और हम सफल होने की पूरी कोशिश करेंगे.''

इस मौक़े पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा, ''हम बिहार की जनता से आग्रह करते हें कि उन दोनों को आपने 30 साल दिए. इस गठबंधन को बिहार की जनता सिर्फ़ पाँच साल दें.''

''पाँच साल में हम करके बताएंगे कि इसी राज्य में नौजवानों को रोज़गार कैसे मिलता है, सरकारी संस्थानों में शिक्षा की अच्छी व्यवस्था कैसे होती है और इलाज के लिए लोगों को दिल्ली नहीं जाना पड़े. हम ये करके दिखाएंगे. ''

बिहार की 243 विधानसभा सीटों पर तीन चरणों में चुनाव होना है. 28 अक्टूबर, तीन और सात नवंबर को मतदान होगा और 10 नवंबर को वोटों की गिनती होगी.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूबपर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)