यूपी के पीलीभीत में दो सगी बहनों की हत्या, पुलिस को परिजनों पर शक

  • समीरात्मज मिश्र
  • बीबीसी हिन्दी के लिए
घटनास्थल पर पुलिस के पहुंचने के बाद शव को उतारा गया

इमेज स्रोत, Samiratmaj Mishra

इमेज कैप्शन,

घटनास्थल पर पुलिस के पहुंचने के बाद शव को उतारा गया

उत्तर प्रदेश के पीलीभीत ज़िले में दो सगी बहनों की हत्या का मामला सामने आया है. हत्या के बाद दोनों का शव अलग-अलग जगहों से मिला है.

पुलिस को आशंका है कि दोनों बहनों की हत्या में परिजनों का हाथ हो सकता है. पुलिस ने दोनों शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया है.

पीलीभीत के बीसलपुर इलाक़े में एक ईंट-भट्ठे में काम करने वाली दोनों बहनें सोमवार शाम घर से बाहर गई थीं लेकिन देर रात तक वापस नहीं आईं.

देर रात क़रीब साढ़े ग्यारह बजे 17 वर्षीय छोटी बेटी का शव भट्ठे से सौ मीटर दूर सड़क किनारे पड़ा मिला जबकि अगले ही दिन 20 वर्षीय बड़ी बेटी का शव एक पेड़ से लटका हुआ मिला.

पुलिस का क्या है कहना?

पीलीभीत के पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश के मुताबिक, "दोनों सगी बहनों के ईंट भट्टे के पास से शव बरामद हुए हैं. दोनों घर से शौच के लिए निकली थीं, लेकिन फिर घर नहीं पहुंचीं. सूचना मिलने के बाद पुलिस मौके पर पहुंची और दूसरा शव भी बरामद कर लिया. मृतक बालिकाओं के गले पर चोट के निशान मिले हैं. शवों का पोस्टमॉर्टम कराया गया है."

"घटना सामने आने के बाद से ही परिवार की भूमिका संदिग्ध लग रही है. मौक़े और घर से मिले कुछ साक्ष्य इस संदिग्ध भूमिका को स्पष्ट कर रहे हैं. कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है और जल्दी ही दोषियों को गिरफ़्तार कर लिया जाएगा."

इमेज स्रोत, Samiratmaj Mishra

इमेज कैप्शन,

पीलीभीत के पुलिस अधीक्षक जय प्रकाश

पुलिस के मुताबिक, दोनों बहने ईंट भट्ठे पर अपने परिवार के साथ काम करती थीं. लड़कियों के पिता नहीं हैं जबकि मां और भाई भी भट्ठे में ही काम करते हैं. अब तक की जांच में पुलिस परिवार वालों की भूमिका को ही संदिग्ध मान रही है और लड़कियों की मां, भाई और भाभी को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है.

इसके अलावा भट्ठे के मुनीम समेत तीन अन्य लोगों को भी हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है.

पहली नज़र में दुष्कर्म की बात सामने नहीं आई

पुलिस का कहना है कि पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के अनुसार, छोटी बहन को गला दबाकर मारने की बात सामने आई है जबकि बड़ी बहन की मौत फंदे से लटकने से बताई गई है.

एसपी जयप्रकाश ने बताया कि दोनों ही लड़कियों के गले पर चोट के निशान हैं. पुलिस के मुताबिक, 'पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के बाद पहली नज़र में दुष्कर्म की बात सामने नहीं आई है लेकिन फ़ॉरेंसिक जांच के लिए नमूने भेजे गए हैं और उसकी रिपोर्ट के बाद ही कुछ स्पष्ट हो सकेगा.'

छोड़कर पॉडकास्ट आगे बढ़ें
पॉडकास्ट
बात सरहद पार

दो देश,दो शख़्सियतें और ढेर सारी बातें. आज़ादी और बँटवारे के 75 साल. सीमा पार संवाद.

बात सरहद पार

समाप्त

घटना के तत्काल बाद मृत लड़कियों की मां ने मीडिया को बताया था कि उनके पति की पांच साल पहले मौत हो गई थी. परिवार में इन दो बेटियों के अलावा बेटा और उसकी पत्नी हैं. सभी लोग काफ़ी समय से बीसलपुर क्षेत्र के एक गांव के ईंट भट्ठे पर रहकर मज़दूरी करते आ रहे हैं.

लड़कियों की मां के अनुसार, "सोमवार शाम सात बजे दोनों बेटियां ज़रूरी काम से गई थीं. काफ़ी देर बाद भी दोनों के न आने पर हम लोग तलाशने लगे. रात क़रीब साढ़े दस बजे छोटी बेटी का शव सड़क किनारे पड़ा मिला. उसके गले पर चोट के निशान थे. पास में ही एक मोबाइल पड़ा था. रातभर दूसरी बेटी को तलाशते रहे. अगले दिन सुबह भट्ठे के पास ही बड़ी बेटी का शव पेड़ से लटका मिला."

भट्ठा मालिक अली हसन ने इस घटना की सूचना पुलिस को दी. मंगलवार दिन में पुलिस के पहुंचने पर शव पेड़ से नीचे उतारा गया और फिर पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया.

पुलिस इस बात पर भी संदेह जता रही है कि लड़कियों के लापता होने और फिर रात में ही एक लड़की की लाश मिलने के बावजूद परिजनों ने पुलिस को सूचना नहीं दी.

वहीं स्थानीय लोगों का कहना है कि उन्हें इस बात की जानकारी तब हुई जब पुलिस वाले यूकेलिप्टस के पेड़ पर लटकी लाश को उतारने के लिए गांव में पहुंचे.

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)