राजस्थान सरकार की चिरंजीवी कैशलेस स्वास्थ्य बीमा योजना क्या है?

  • मोहर सिंह मीणा
  • बीबीसी हिंदी के लिए, राजस्थान से
राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

इमेज स्रोत, ANI

इमेज कैप्शन,

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत

राजस्थान सरकार ने 2020-21 के बजट में 'मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना' की घोषणा की. इसमें राज्य के सभी परिवारों को पाँच लाख रुपये तक का कैशलेस स्वास्थ्य बीमा मिलेगा.

मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट किया कि राजस्थान देश का ऐसा पहला राज्य बन गया है, जहाँ प्रत्येक परिवार को प्रति वर्ष पाँच लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा मिलेगा. लेकिन बीजेपी आयुष्मान भारत योजना को देश की सबसे बड़ी योजना बता कर राज्य सरकार पर राजनीति करने का आरोप लगा रही है.

बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष सतीश पूनिया ने कहा, "आयुष्मान भारत योजना देश की सबसे बड़ी योजना है. अशोक गहलोत नहीं चाहते कि नरेंद्र मोदी की योजना लोगों तक पहुँचे, इसलिए योजनाओं का नाम बदलकर राजनीति कर रहे हैं. अशोक गहलोत एक करोड़ लोगों को लाभ देने की बात कर रहे हैं, यदि वह लाभ देना चाहते तो आयुष्मान भारत योजना से ही दे देते."

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ रघु शर्मा ने भी कहा है कि ये योजना पहले आई योजनाओं से अलग है.

उन्होंने कहा, "पहले की स्वास्थ्य बीमा योजना में राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम और सामाजिक आर्थिक जनगणना के पात्र लाभार्थियों को योजना का लाभ मिल रहा था. लेकिन नई चिरंजीवी योजना में सभी परिवारों को स्वास्थ्य बीमा का कैशलेस लाभ मिलेगा."

नीचे इस बीमा योजना से जुड़े लगभग हर सवाल का जवाब दिया जा रहा है.

क्या है मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना?

मुख्यमंत्री चिरंजीवी स्वास्थ्य बीमा योजना में राज्य के प्रत्येक परिवार को पाँच लाख रुपये का कैशलेस बीमा दिया जाएगा.

इसमें आर्थिक रूप से ग़रीबों को बिना किसी प्रीमियम के यह बीमा मिलेगा. जबकि अन्य सभी परिवारों योजना का लाभ लेने के लिए 850 रुपये का वार्षिक प्रीमियम देना होगा.

योजना से जुड़ने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होगा. योजना का लाभ लेने के लिए राज्य के सभी परिवार योग्य होंगे.

इमेज स्रोत, RAJASTHAN GOVT

कहाँ और कब तक करें रजिस्ट्रेशन?

योजना से जुड़ने के लिए एक अप्रैल से तीस अप्रैल तक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किए जा सकते हैं. पंजीकरण के लिए चिकित्सा विभाग की वेबसाइट www.health.rajasthan.gov.in और एसएसओ आईडी से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन किया जा सकता है.

सरकार की ओर से रजिस्ट्रेशन के लिए विशेष शिविर भी लगाए जा रहे हैं, ग्राम पंचायत और नगर परिषद क्षेत्र में एक से दस अप्रैल तक रजिस्ट्रेशन कराए जा सकते हैं. रजिस्ट्रेशन के लिए ई-मित्र पर निर्धारित शुल्क देकर भी रजिस्ट्रेशन किए जा सकते हैं. ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन 30 अप्रैल तक होंगे.

रजिस्ट्रेशन के लिए क्या चाहिए?

योजना का लाभ लेने के लिए पहले रजिस्ट्रेशन कराना होगा. इसके लिए परिवार का जनाधार कार्ड, जनाधार कार्ड रजिस्ट्रेशन रसीद एवं आधार कार्ड जरूरी होगा. यह डॉक्यूमेंट होने पर ही योजना से जुड़ा जा सकता है.

किसे रजिस्ट्रेशन की ज़रूरत नहीं?

आयुष्मान भारत महात्मा गाँधी राजस्थान स्वास्थ्य बीमा योजना में लाभान्वित, राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम एवं सामाजिक आर्थिक जनगणना 2011 के पात्र परिवारों को रजिस्ट्रेशन करवाने की आवश्यकता नहीं है.

अन्य सभी को इस योजना का लाभ लेने के लिए रजिस्ट्रेशन कराना अनिवार्य होगा.

कौन ले सकते हैं योजना का लाभ?

योजना में खाद्य सुरक्षा अधिनियम के अंतर्गत योग्य परिवार, सामाजिक आर्थिक जनगणना 2011 के योग्य परिवार, राज्य के समस्त विभागों में कार्यरत संविदा कार्मिक, लघु एवं सीमान्त कृषक बिना फीस दिए इस बीमा योजना का लाभार्थी बन सकते हैं.

ऐसे परिवार जो इन चार श्रेणियों में शामिल नहीं हैं, लेकिन केंद्र और राज्य सरकार की मेडिक्लेम/ मेडिकल अटेंडेंस नियमों के अंतर्गत पात्र नहीं हैं, वह प्रीमियम का पचास प्रतिशत यानी 850 रुपये भुगतान कर योजना से जुड़ सकते हैं.

परिवार की संख्या और उम्र सीमा?

किसी भी बीमा योजना से जुड़ने के लिए अमूमन उम्र सीमा भी कहीं न कहीं मायने रखती है. लेकिन चिरंजीवी योजना पूरे परिवार के लिए बीमा योजना है, ऐसे में बड़े परिवार भी इसमें आसानी से जुड़ सकते हैं.

इस योजना में परिवार के सदस्यों की संख्या की पाबंदी नहीं है.

परिवार के सदस्यों की उम्र की भी सीमा नहीं होगी. जन्में बच्चे से लेकर बुजुर्ग तक सभी योजना के लाभार्थी होंगे.

इमेज स्रोत, PTI

कितने का है बीमा और क्या कैशलेस ट्रीटमेंट होगी?

एक मई से मिलने वाले बीमा लाभ में जुड़ने से पहले की यदि कोई किसी बीमारी से ग्रसित है, तो भी वह इस योजना में लाभ ले सकेगा.

योजना के तहत चिन्हित बीमारियों के लिए 50 हज़ार रुपये एवं गंभीर बीमारियों के लिए 4 लाख 50 हज़ार का बीमा कवर मिलेगा.

इसके अलावा विभिन्न बीमारियों के 1,576 पैकेज शामिल किए गए हैं.

बीमा कवरेज कौन-कौन सी बीमारियों के लिए मिलेगा इसकी सूची फिलहाल सार्वजनिक नहीं की गई है.

आयुष्मान भारत से कैसे भिन्न है चिरंजीवी योजना?

केंद्र सरकार की आयुष्मान भारत योजना के तहत आर्थिक रूप से कमज़ोर वर्ग के लोग ही स्वास्थ्य चिकित्सा का लाभ उठा सकते हैं. साथ ही उसमें तीन लाख रुपये तक का सालाना बीमा होता है.

वहीं, राजस्थान सरकार की चिरंजीवी योजना में प्रत्येक परिवार को पाँच लाख रुपये का बीमा दिया जा रहा है, जिसमें राज्य के सभी परिवार और सभी आयवर्ग शामिल हैं.

कौन से अस्पतालों में मिलेगा लाभ?

योजना से जुड़ने के बाद राज्य के सभी सरकारी अस्पताल और सम्बद्ध निजी अस्पतालों में कैशलेस बीमा का लाभ मिलेगा.

हालाँकि, अस्पतालों की सूची अभी जारी नहीं की गई है.

योजना के तहत मरीज के अस्पताल में भर्ती होने के पाँच दिन पहले तक के चिकित्सकीय परामर्श, जांच, दवाइयां और मरीज के डिस्चार्ज के बाद के पन्द्रह दिन तक का खर्चा भी कवर है.

किन परिवारों को देना होगा प्रीमियम?

चिरंजीवी योजना का लाभ राज्य के संविदा कर्मियों, लघु और सीमांत कृषकों को निःशुल्क चिकित्सा सुविधा का लाभ मिल पाएगा.

साथ ही प्रदेश के सभी अन्य परिवारों को बीमा प्रीमियम की 50 प्रतिशत राशि यानी 850 रुपये पर वार्षिक 5 लाख रुपये तक की मुफ़्त चिकित्सा सुविधा उपलब्ध होगी."

योजना के लिए रजिस्ट्रेशन शुरू होते ही सभी ज़िला कलेक्टर ने ब्लॉक स्तर और ग्राम पंचायत स्तर पर तैयारियों देखरेख के लिए समितियां गठित कर दी हैं.

योजना की अधिक जानकारी और रजिस्ट्रेशन से संबंधित पूछताछ के लिए इस हेल्पलाइन नंबर संपर्क किया जा सकता है- 18001806127

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक, ट्विटर, इंस्टाग्राम और यूट्यूब पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)